इंदौर

--Advertisement--

बोन मैरो ट्रांसप्लांट के बाद दोनों बच्चे साथ होंगे डिस्चार्ज

थैलेसीमिया पीड़ित दोनों बच्चों के शरीर में बोन मैरो ट्रांसप्लांट के बाद नई कोशिकाएं बनने लगी है। संभवत: दोनों को...

Dainik Bhaskar

Jun 11, 2018, 02:45 AM IST
थैलेसीमिया पीड़ित दोनों बच्चों के शरीर में बोन मैरो ट्रांसप्लांट के बाद नई कोशिकाएं बनने लगी है। संभवत: दोनों को ही एक साथ 13 या 14 जून को डिस्चार्ज किया जाएगा। बीते 7 अप्रैल से एमवायएच में बच्चों का इलाज चल रहा है।

पहली बार थैलेसीमिया पीड़ित बच्चों का बोन मैरो ट्रांसप्लांट किया गया है। जिम्मेदारों के अनुसार दोनों ही सफल रहे हैं। इसके बाद दो नए बच्चों का ट्रांसप्लांट के लिए चयन कर लिया गया है। जिन दो बच्चों का यहां इलाज चल रहा है उनमें से साढ़े सात साल और दूसरा डेढ़ साल का बच्चा है। इन्हें इनके भाई-बहन का बोन मैरो ट्रांसप्लांट किया गया है। यहां काम कर रहे स्टाफ के मुताबिक डेढ़ साल के बच्चे में सुधार की गति तेज है। उसके शरीर में नई कोशिकाएं अच्छी तरह से बढ़ रही है। ब्लड काउंट करीब साढ़े चार हजार हो गया है। पहले बच्चे के ब्लड काउंट दो हजार तक पहुंचे है, लेकिन उसे की गई ग्राफ्टिंग शरीर ने एक्सेप्ट कर ली है। दोनों को ही पूरी तरह से ठीक होने में कम से कम छह माह का समय लगेगा। अभी उन्हें डिस्चार्ज किया जाएगा, लेकिन निगरानी में रहेंगे। अमेरिका के डॉ. प्रकाश सतवानी भी 13 जून को इंदौर में ही होंगे। डॉ. सतवानी की निगरानी में ही पहले दो बच्चों का ट्रांसप्लांट भी किया गया था।

X
Click to listen..