--Advertisement--

54 की उम्र में 30 दिन रोज़ 21 किमी दौड़कर तय किए 630 किलोमीटर

डॉ. योगेंद्र व्यास की यह उपलब्धि बढ़ती उम्र को धता बताती है। इंदौर के 54 वर्षीय शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. व्यास 30 दिन हर...

Dainik Bhaskar

May 01, 2018, 03:00 AM IST
54 की उम्र में 30 दिन रोज़ 21 किमी दौड़कर तय किए 630 किलोमीटर
डॉ. योगेंद्र व्यास की यह उपलब्धि बढ़ती उम्र को धता बताती है। इंदौर के 54 वर्षीय शिशु रोग विशेषज्ञ डॉ. व्यास 30 दिन हर रोज़ 21 किलोमीटर दौड़े और कुल 630 किलोमीटर दौड़ने का लक्ष्य पूरा किया। इस उम्र में लंबी दूरी तक दौड़ना तो साहसिक है ही, लेकिन खास बात यह भी है कि डॉ. व्यास बेयरफुट दौड़ते हैं। मुंबई और इंदौर मैराथन में भी इसी कैटेगरी में रजिस्ट्रेशन कराते हैं।

डॉ. व्यास ने बताया मुझे 30 सालों से अस्थमा और ब्लड प्रेशर की शिकायत थी। लोग कहते थे दौड़ना मेरे लिए जानलेवा हो सकता है। लेकिन मुझे दौड़ने से ही स्वस्थ जीवन दोबारा मिला है। अब अस्थमा और बीपी की शिकायत लगभग खत्म हो चुकी है। पहले मैंने आस पड़ोस में थोड़ा-थोड़ा दौड़ना शुरू किया। साइक्लिंग, स्विमिंग, रनिंग को रूटीन में शामिल किया। इस तरह दौड़ने की हैबिट बनी और 2013 में एक दिन घर से खजराना मंदिर तक 9 किलोमीटर की रन पूरी की। इससे मेरा आत्मविश्वास बढ़ा और मैंने रनिंग को गंभीरता से लेना शुरू किया।

डॉक्टर हैं योगेंद्र व्यास, बेयरफुट यानी नंगे पैर दौड़ते हैं, कई मैराथंस में भी हिस्सा लेते रहे हैं

31 बार 42 किमी मैराथन दौड़ चुके, अब लक्ष्य कॉमरेड मैराथन का

डॉ. व्यास लगातार मैराथंस दौड़ते हैं। अब तक वे 31 बार 42 किलोमीटर मैराथन औत लगभग 200 बार 21 किमी मैराथन दौड़ चुके हैं। उन्होंने बताया अब मेरा लक्ष्य 2020 में होने वाली कॉमरेड मैराथन पूरी करना है। इसमें 12 घंटे में 87 किलोमीटर रन पूरी करना होती है। दौड़ना एक पूरी दिनचर्या है। रात 3.30 बजे उठकर तैयार हो कर रोज़ दौड़ने जाता हूं। पहले मुश्किल होती थी, लेकिन अब न दौड़ूं तो अस्वस्थ सा लगता है। बेयरफुट दौड़ने की वजह पूछने पर डॉ. व्यास ने बताया मैंने विब्राम, स्नीकर्स, लूना सैंडल्स सब पहनकर देखा। सूट नहीं हुए। इसीलिए नंगे पैर दौड़ने लगा। इस तरह रनिंग के बाद मुझे ज्यादा दर्द नहीं होता।

X
54 की उम्र में 30 दिन रोज़ 21 किमी दौड़कर तय किए 630 किलोमीटर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..