--Advertisement--

तीन चौथाई आबादी को रोज नहीं मिल रहा है पीने का पानी

इंदौर

Danik Bhaskar | May 01, 2018, 03:00 AM IST
इंदौर
शहर की जनता को पानी सप्लाई करने के लिए पानी की टंकियां बनाई गई हैं। पाइप लाइन डाली गई है। नर्मदा नदी से 410 एमएलडी और यशवंतसागर से 30 एमएलडी पानी लिफ्ट कर शहर की 85 टंकियां भरी जाती हैं। इन टंकियों से शहर के करीब पचास फीसदी इलाकों में पानी सप्लाई किया जाता है। खजराना, बड़ा गणपति से राजबाड़ा के बीच, पालदा, प्रगति नगर, बजरंग नगर सहित पचास फीसदी क्षेत्र में टंकियां भरने वाली लाइन से डायरेक्ट सप्लाई की जा रही है।

खजराना क्षेत्र में पांच घंटे डायरेक्ट सप्लाय किया जाता है। सत्तर के दशक में लाइन डालते समय कुछ इलाकों में यह व्यवस्था की गई थी, जो अब तक सुधारी नहीं गई है। इस व्यवस्था के चलते टंकियां भरने में समय ज्यादा लगता है। वहीं डायरेक्ट सप्लाई वाली लाइन का प्रेशर ज्यादा होने के चलते इससे जुड़े कनेक्शनों को ज्यादा पानी मिलता है। टंकियां भरने और डायरेक्ट सप्लाई के बाद करीब 50 एमएलडी पानी रोज बच जाता है। इससे पागनीस पागा, खातीवाला टैंक, भागीरथपुरा, सुखलिया व छत्रीबाग की टंकियों को दिन में दो बार भर दिया जाता है। यह टंकियां शहर का करीब 25 फीसदी क्षेत्रफल कवर करती हैं। दिन में दो बार भरने से इन टंकियों से जुड़े नलों में रोज पानी सप्लाई होता है। बाकी 75 फीसदी क्षेत्रफल कवर करने वाली करीब 70 टंकियां भरने में समय लगता है इसलिए इनसे एक दिन छोड़ एक दिन पानी सप्लाई किया जाता है।