Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» उदयनगर रोड पर घने जंगलों से घिरा है मोहाड़ागढ़ का किला

उदयनगर रोड पर घने जंगलों से घिरा है मोहाड़ागढ़ का किला

सन् 1305 के आसपास परमारों की केंद्रीय सत्ता बिखरने लगी थी। उसी समय विंध्याचल की पहाड़ियों व घाटियों में छोटे-छोटे...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 10, 2018, 03:05 AM IST

सन् 1305 के आसपास परमारों की केंद्रीय सत्ता बिखरने लगी थी। उसी समय विंध्याचल की पहाड़ियों व घाटियों में छोटे-छोटे मवासियों (गौंड सरदारों) का प्रभुत्व बढ़ रहा था। बीजागढ़ में गौसियों और भामगढ़, काटपुर व बड़वाह में तंवरों का शासन हो गया था। वागती के आसपास एेरवार तथा सिंगरूप के गौंड सरदारों का प्रभुत्व बढ़ गया था। इन सरदारों को मवासिया कहा जाता था।

नेमावर से मांडव तक मवासियों के 52 गढ़ थे। इनमें मोहाड़ागढ़, लालगढ़, सिंधगढ़, प्रतापगढ़, रामगढ़ और भीलगढ़ के अवशेष अब भी बाकी हैं। भौगोलिक स्थिति के कारण मोहाड़ागढ़ मुगल शासकों के लिए महत्वपूर्ण था। यहां मांडव के सुल्तानों की ताम्र मुद्राएं भी मिली हैं। मोहाड़ागढ़ के अवशेषों में गढ़ के पूर्वी और उत्तरी द्वार शामिल हैं। उत्तरी द्वार मुख्य दरवाजा था, जो संकरी पहाड़ी की ओर खुलता है। इस पर सामने की ओर दो गोल आकृति हैं। इनका इस्तेमाल इस्लामी स्थापत्य कला में प्रतीक चिन्ह के तौर पर किया जाता था। दरवाजे के पूर्व और पश्चिम में गहरी खाई है। पूर्वी द्वार तीन कमानियों पर आधारित है। यह आयताकार है। यहां काले पत्थर की मेहराबें बनाई गई हैं। दरवाजे के स्तंभ में आले बने हैं। दोनों ओर भूरे पत्थर से विकसित कमल दल की आनी बनाई गई है। दक्षिणी और पश्चिमी दरवाजे गरी घाटियों की ओर थे, जो टूट चुके हैं। किले की दीवार का अधिकांश हिस्सा टूट गया है।

इंदौर से 30 किमी दूर उदयनगर रोड पर है मोहाड़ागढ़। यह ऐतिहासिक के साथ ही प्राकृतिक विरासत भी है। दो तरफ से गहरी खाई से घिरा यह गढ़ मांडव के सुल्तान के अधीन था। पिछले कुछ सालों से यहां टाइगर की मौजदूगी के प्रमाण भी मिले हैं।

इंदौर से 30 किमी दूर उदयनगर रोड पर है मोहाड़ागढ़

भौगोलिक स्थिति के कारण मुगल शासकों के लिए महत्वपूर्ण था मोहाड़ागढ़

टाइगर की मौजूदगी के मिले प्रमाण

मोहाड़ागढ़ के अंदर एक तालाब है। इसके एक किनारे पर प्राचीन हनुमान मंदिर है। कुछ प्राचीन भवनों के अवशेष हैं। मोहाड़ा के आसपास घने जंगल और गहरी खाई है। करीब चार साल पहले यहां बूढ़े टाइगर का शव मिलने के बाद टाइगर की उपस्थिति दर्ज गई है। रहवासियों और वनकर्मियों को आए दिन एक मादा टाइगर और तीन बच्चे तालाब के आसपास दिखाई देते हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×