• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Indore News
  • News
  • आईआईटी इंदौर की तीन ब्रांच में लड़कियों को बढ़ी हुई 15 सुपरन्यूमरेरी सीट्स का फायदा मिलेगा
--Advertisement--

आईआईटी इंदौर की तीन ब्रांच में लड़कियों को बढ़ी हुई 15 सुपरन्यूमरेरी सीट्स का फायदा मिलेगा

इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में एडमिशन के लिए शुक्रवार से काउंसलिंग शुरू होने जा रही है। स्टूडेंट्स सुबह 10...

Dainik Bhaskar

Jun 15, 2018, 03:05 AM IST
इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी में एडमिशन के लिए शुक्रवार से काउंसलिंग शुरू होने जा रही है। स्टूडेंट्स सुबह 10 बजे से रजिस्ट्रेशन और चॉइस फिलिंग कर सकेंगे। आईआईटी में लड़कियों की संख्या बढ़ाने के लिए इस बार से सुपरन्यूमरेरी सीट्स पर भी एडमिशन दिया जाएगा। आईआईटी इंदौर में लड़कियों के लिए 15 सीटें बढ़ाई गई हैं। जेईई एडंवास्ड के रिज़ल्ट के आधार पर पूरे देश के सिर्फ 18 हज़ार स्टूडेंट्स को क्वालिफाय किया गया था। सीट्स खाली रह जाने की आशंकाओं को देखते हुए शुक्रवार को इनकी संख्या बढ़ाकर 31 हज़ार कर दी गई। एक्सपर्ट्स के मुताबिक यदि क्वालिफाइड स्टूडेंट्स की संख्या नहीं बढ़ाई जाती तो आईआईटी इंदौर में भी कुछ सीट्स खाली रह सकती थीं।

कम्प्यूटर, इलेक्ट्रिकल और मैकेनिकल में मिलेगा फायदा

सुपरन्यूमरेरी सिस्टम लागू होने के बाद आईआईटी इंदौर ने संस्थान में कुल 15 सीटें बढ़ाई हैं। इन पर सिर्फ लड़कियों को एडमिशन दिया जाएगा। जॉइंट सीट अलॉकेशन ऑथोरिटी के मुताबिक आईआईटी में कम्प्यूटर साइंस में पांच, इलेक्ट्रिकल में तीन और मैकेनिकल ब्रांच में सात सीटें बढ़ाई गई हैं। तीनों ही ब्रांचेस में गर्ल्स ओनली और सुपरन्यूमरेरी सीट्‌स मिलाकर 10-10 सीटें बढ़ी हैं। कम्प्यूटर ब्रांच में सीटों की कुल संख्या 63, इलेक्ट्रिकल में 57 और मैकेनिकल में 67 होंगी। सिविल और मेटलर्जिकल एंड मटेरियल्स साइंस में गर्ल्स ओनली या सुपरन्यूमरेरी सीट्स में इज़ाफा नहीं किया गया है। इनमें सीट्स की कुल संख्या 40-40 रहेगी।

खाली रह जाती आईआईटी की सीट्स, अब कटऑफ 126 के बजाए 90, मिल सकता है कम रैंक वालों को फायदा

एक्सपर्ट भूपेंद्र भावसार के मुताबिक जेईई एडवांस्ड के रिज़ल्ट के आधार पर आईआईटी कानपुर ने महज़ 18 हज़ार स्टूडेंट्स को क्वालिफाय माना था। सभी आईआईटीज़ में कुल सीट की संख्या 11 हज़ार 279 है। अलॉटमेंट होने के बाद कई स्टूडेंट्स सीट एक्सेप्ट नहीं करते क्योंकि उन्हें प्रिफर्ड इंस्टिट्यूट या ब्रांच नहीं मिलती है। वे किसी भी आईआईटी में जाने की जगह ड्रॉप लेना पसंद करते हैं। ऐसे में इंदौर सहित लगभग सभी संस्थानों में सीट्स खाली रह सकती थीं लेकिन गुरुवार को ही आईआईटी ने नई लिस्ट जारी की है। इसमें 31 हज़ार 980 स्टूडेंट्स को क्वालिफाइड माना गया है। एक्सपर्ट विजित जैन के अनुसार आईआईटी के लिए कटऑफ 126 से कम कर 90 कर दिया गया है। ऐसे में यदि टॉप पोज़िशन वाले स्टूडेंट्स सीट नहीं लेते हैं तो कम रैंक के बच्चों को फायदा मिल सकता है।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..