Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» किसान नेता शर्मा का आरोप- शिवराज ने कृषि को बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी

किसान नेता शर्मा का आरोप- शिवराज ने कृषि को बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी

राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा ‘कक्काजी’ ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारें किसानों का हित...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 10, 2018, 03:25 AM IST

किसान नेता शर्मा का आरोप- शिवराज ने कृषि को बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी
राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा ‘कक्काजी’ ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारें किसानों का हित चाहती हैं तो डॉ. स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करना चाहिए। लेकिन कोई भी सरकार किसान हितैषी नहीं है। प्रदेश को पांच साल से लगातार कृषि कर्मण अवॉर्ड मिल रहा है तो इसमें पूरा योगदान किसानों का है, लेकिन इसका श्रेय मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ले रहे हैं। जबकि चौहान ने प्रदेश की कृषि को बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। खेती के लिए मिलने वाले संसाधनों को किसानों की पहुंच से दूर करने की कोशिश की।

कक्काजी शनिवार को प्रेस क्लब में मीडिया से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने बिजली महंगी की। डीजल के दाम बढ़ाए। नकली बीज, नकली खाद से किसान परेशान हुए। कर्ज के बोझ तले किसानों ने आत्महत्या की, लेकिन सरकार ने कर्ज माफी नहीं की। हाल ही में प्रदेश में हुई राहुल गांधी की सभा से भाजपा सरकार काफी परेशान है। हम प्रदेश की भाजपा सरकार को 15 साल से झेल रहे हैं। जिस तरह हम तन के कपड़े बदलते हैं, वैसे ही इसे भी बदल देना चाहिए। हमारा किसी भी राजनीतिक दल से कोई संबंध नहीं है।

शिवकुमार शर्मा

किसान-व्यापारियों से मांगा समर्थन

शर्मा ने कहा हमने चार सूत्री मांगों को लेकर रविवार को राष्ट्रव्यापी बंद का आह्वान किया। गांवों में किसान बंद रखेंगे तो शहरों में व्यापारियों व अन्य लोगों से मांग की है कि वे भी बंद का समर्थन करें। ये हैं सरकार किसानों को पूरी तरह से ऋण मुक्ति दे। बड़े किसानों को पेंशन दे व छोटे किसानों के लिए निश्चित आय जीविका चलाने के लिए सुनिश्चित कराए। फसल का उचित मूल्य किसानों को मिले, ऐसी व्यवस्था कराए। मांगें नहीं मानी गईं तो संगठन किसानों के साथ चर्चा करेगा और आगे के आंदोलन की रणनीति तैयार करेगा।

भास्कर संवाददाता | इंदौर

राष्ट्रीय किसान मजदूर संघ के अध्यक्ष शिवकुमार शर्मा ‘कक्काजी’ ने कहा कि केंद्र और राज्य सरकारें किसानों का हित चाहती हैं तो डॉ. स्वामीनाथन आयोग की रिपोर्ट लागू करना चाहिए। लेकिन कोई भी सरकार किसान हितैषी नहीं है। प्रदेश को पांच साल से लगातार कृषि कर्मण अवॉर्ड मिल रहा है तो इसमें पूरा योगदान किसानों का है, लेकिन इसका श्रेय मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान ले रहे हैं। जबकि चौहान ने प्रदेश की कृषि को बर्बाद करने में कोई कसर नहीं छोड़ी। खेती के लिए मिलने वाले संसाधनों को किसानों की पहुंच से दूर करने की कोशिश की।

कक्काजी शनिवार को प्रेस क्लब में मीडिया से बात कर रहे थे। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार ने बिजली महंगी की। डीजल के दाम बढ़ाए। नकली बीज, नकली खाद से किसान परेशान हुए। कर्ज के बोझ तले किसानों ने आत्महत्या की, लेकिन सरकार ने कर्ज माफी नहीं की। हाल ही में प्रदेश में हुई राहुल गांधी की सभा से भाजपा सरकार काफी परेशान है। हम प्रदेश की भाजपा सरकार को 15 साल से झेल रहे हैं। जिस तरह हम तन के कपड़े बदलते हैं, वैसे ही इसे भी बदल देना चाहिए। हमारा किसी भी राजनीतिक दल से कोई संबंध नहीं है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×