Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» महिला बाल विकास विभाग में दफ्तरों के ताले नहीं खुलते

महिला बाल विकास विभाग में दफ्तरों के ताले नहीं खुलते

इंदौर

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 17, 2018, 03:30 AM IST

महिला बाल विकास विभाग में दफ्तरों के ताले नहीं खुलते
इंदौर डीबी स्टार

छावनी स्थित आईसीडीएस (समेकित बाल विकास सेवा) परिसर में महिला बाल विकास विभाग के छह कार्यालय हैं। यहां आंगनवाड़ी और आश्रम संबंधित काम किए जाते हैं। यहां का ढर्रा इतना बिगड़ा हुआ है कि कुछ दफ्तर तो कभी-कभार ही खुलते हैं। ड्यूटी के दौरान कर्मचारी गायब रहते हैं। इस तरह की शिकायतें विभाग के संभागीय संयुक्त संचालक राजेश मेहरा को बार-बार मिल रही थीं।

मेहरा ने डीबी स्टार को बताया कि हकीकत जानने के लिए वह गत दिवस आईसीडीएस परिसर पहुंचे। आकस्मिक निरीक्षण के दौरान वह भौंचक रह गए। उन्होंने बताया कि अधिकांंश अधिकारी और कर्मचारी हाजिर नहीं थे। परियोजना शहरी क्रमांक-4 के ऑफिस का तो ताला भी नहीं खुला था। यकीन हो गया कि उन्हें जो शिकायतें मिली वह सच्ची हैं। मौके पर मौजूद एक कर्मचारी ने बताया कि जेडी ने जिला कार्यक्रम अधिकारी रजनीश सिन्हा को फोन लगाकर नाराजगी जताई। मेहरा ने बताया कि सभी गैरहाजिर अधिकारी और कर्मचारियों पर विभागीय कार्रवाई के निर्देश दिए हैं। सिन्हा से कहा है कि लापरवाह कर्मचारियों का वेतन काटा जाए और चेतावनी पत्रक जारी किए जाएं। भविष्य में किसी कर्मचारी ने इस तरह की गलती दोहराई तो उसे सस्पेंड तक किया जाएगा।

कौन-कौन थे गैरहाजिर

जेडी मेहरा ने बताया कि निरीक्षण के दौरान आईसीडीएस परियोजना ग्रामीण क्रमांक 2 में विवेक मंडलोई (सहायक ग्रेड-3) और ब्रजमोहन रॉय (सांख्यिकी अन्वेषक) अनुपस्थित पाए गए। इसी तरह परियोजना शहरी क्रमांक-3 में भावना तंतवाय (सहायक ग्रेड-3) अनुपस्थित थीं। परियोजना शहरी क्रमांक-6 में चंद्रशेखर यादव (सहायक ग्रेड-3) गैरहाजिर थे। परियोजना ग्रामीण क्रमांक-1 में सरिता चनाल (सहायक ग्रेड-3) और परियोजना शहरी क्रमांक-2 में चंद्रकिरण दयाल अनुपस्थित पाई गईं। परियोजना शहरी क्रमांक-4 के दफ्तर का तो ताला ही बंद था। यहां तैनात कल्पना झा व मुकेश वर्मा दफ्तर आए ही नहीं। दो परियोजना अधिकारियों को छोड़कर शेष परियोजना अधिकारी भी दौरे के समय हाजिर नहीं थे। एकीकृत बाल विकास सेवा के कार्यक्रम अधिकारी रजनीश सिन्हा को संबंधित लापरवाह कर्मचारियों के विरूद्ध अनुशासनात्मक कार्रवाई करने के निर्देशित किया है।

सर्कुलर करेंगे जारी

मेहरा ने बताया कि विभाग के किसी भी दफ्तर में कर्मचारियों की अकारण अनुपस्थिति बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इस तरह की शिकायतों पर अब तुरंत कार्रवाई होगी। उन्होंने बताया, जल्द ही इस संबंध में संभागीय स्तर पर सर्कुलर जारी करेंगे। इसके मुताबिक कोई भी अधिकारी या कर्मचारी अवकाश या विभागीय काम के अलावा पूरे समय पर दफ्तर में मौजूद रहेंगे। यदि किसी कर्मचारी को शासकीय काम से फील्ड में जाना होगा तो रजिस्टर में टीप लिखकर जाना होगा। मनमाने ढंग से गायब रहने पर कार्रवाई की जाएगी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: महिला बाल विकास विभाग में दफ्तरों के ताले नहीं खुलते
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×