--Advertisement--

अंक सूची से बेटे का नाम गायब

इंदौर

Dainik Bhaskar

Apr 17, 2018, 03:30 AM IST
अंक सूची से बेटे का नाम गायब
इंदौर
बताया जाता है कि बीए (फर्स्ट सेम, प्राइवेट) भूगोल के कुछ विद्यार्थी पहले सेम में प्रायोगिक परीक्षा से चूक गए थे। उन्होंने बाद में प्रैक्टिकल परीक्षा दी। इसमें वे अच्छे अंकों से पास हो गए, लेकिन अंकसूची देखी तो पता चला वे अनुपस्थित थे। कुछ विद्यार्थियों की अंक सूची में प्रैक्टिकल मार्क्स के कॉलम में जीरो लिखा है। ऐसे भी मामले हैं, जिनमें विश्वविद्यालय ने विद्यार्थी को कॉलेज द्वारा दिए गए अंकों से ज्यादा अंक दे दिए हैं।

बगैर नाम के दे दिया रिजल्ट

यूनिवर्सिटी के कर्मचारियों की लापरवाही की हद यह है कि कुछ अंकसूचियों में विद्यार्थी के नाम का कॉलम ही खाली है। पिता के नाम के साथ ही रिजल्ट घोषित कर दिया गया है। गोरेलाल वर्मा को जीएसीसी ने भूगोल के प्रैक्टिकल में 22 नंबर दिए हैं। यूनिवर्सिटी द्वारा जारी अंक सूची में न केवल वे अनुपस्थित बताए गए हैं, बल्कि उनका नाम ही गायब है। कॉलेज के अन्य विद्यार्थी हेमंत जटाले के केस में भी यूनिवर्सिटी ने यही गलती दोहराई है।

रिकॉर्ड के हिसाब से बना रिजल्ट

 अब लिखे हुए नंबर नहीं लिए जाते। कॉलेज ने जो रिकॉर्ड दिया होगा, उसी के हिसाब से अंक चढ़े होंगे। यदि कॉलेज ने ऑनलाइन एंट्री नहीं भेजी होगी तो विद्यार्थी ऐबसेंट मार्क होगा। वीसी ने भी रिजल्ट प्रोसेसिंग के बाद नंबर लेने से इनकार कर दिया है। विद्यार्थियों के रोल नंबर भिजवा दीजिए। उनके रोल नंबर से समाधान निकालेंगे। निरंजन श्रीवास्तव, इंचार्ज, कम्प्यूटर सेंटर डीएवीवी

यूनिवर्सिटी ही मांगती है ऑफलाइन

 बीए फ़र्स्ट सेम के प्राइवेट विद्यार्थियों की शीट भेजी थी। हमारे पास उसकी पावती भी है। प्राइवेट विद्यार्थियों की लिंक खुलती नहीं है, इसलिए ऑफलाइन नंबर भेजना पड़ते हैं। यूनिवर्सिटी ने खुद कहा है कि ऑफलाइन ही भेजो। यदि वेबसाइट नहीं खुलेगी तो हम ऑनलाइन नंबर कैसे भेजेंगे। यूनिवर्सिटी को अंक सूची में नंबर चढ़ाना थे। विजया अग्रवाल, एचओडी, भूगोल, जीएसीसी

X
अंक सूची से बेटे का नाम गायब
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..