--Advertisement--

चिड़ियाघर में दिखेगा अंगुली बराबर बंदर

कमला नेहरू प्राणी संग्रहालय (चिड़ियाघर) में अगले सप्ताह के अंत तक खरगोश के आकार का बंदर लाया जाएगा, जिसका वजन 300 ग्राम...

Dainik Bhaskar

Jun 10, 2018, 03:30 AM IST
चिड़ियाघर में दिखेगा अंगुली बराबर बंदर
कमला नेहरू प्राणी संग्रहालय (चिड़ियाघर) में अगले सप्ताह के अंत तक खरगोश के आकार का बंदर लाया जाएगा, जिसका वजन 300 ग्राम है। यह दुनिया के सबसे छोटे बंदरों की मार्मोसेट प्रजाति का है। इसे चिड़ियाघर प्रबंधन हिप्पोपोटोमस के बदले 15 जून के बाद बड़ौदा के जू से लाएगा। इधर, शनिवार को जू में बड़ाैदा जू से ही ब्लैक व राजहंस बत्तख के जोड़े लाए गए। जू प्रबंधन बदले में पहले ही हिप्पोपोटोमस का जोड़ा बड़ौदा जू काे दे चुका है। जू प्रबंधन का कहना है बेहद खूबसूरत दिखने वाले यह बत्तख अब बहुत कम संख्या में बचे हैं।

नए मेहमान

दर्शकों की मांग पर बड़ाैदा जू से ब्लैक व राजहंस बत्तख का जोड़ा भी आया

180 डिग्री तक घुमा लेता है सिर

यह बंदर अपना सिर 180 डिग्री तक घुमा लेता है, जिससे यह खुद पर हमला करने वाले दूसरे जानवरों को देख लेता है और उनके हमले से बच जाता है। सामान्यत: इसकी लंबाई 15 सेमी और वजन 100 से 300 ग्राम तक रहता है। पूंछ 20 सेमी लंबी होती है। इस प्रजाति के कुछ बंदर अंगुली से भी छोटे होते हैं।

दर्शक चाहते थे राजहंस आए

जू के प्रभारी अधिकारी डॉ. उत्तम यादव ने बताया कि ब्लैक और राजहंस बत्तख की दर्शकों के बीच खासी डिमांड थी। जो बंदर आने वाला है बच्चों में उसे लेकर खासा क्रेज रहता है।

राजहंस बत्तख : बेहद खूबसूरत दिखने वाले यह बत्तख अब बहुत कम संख्या में बचे हैं। राजहंस बत्तख की वह प्रजाति है जो सबसे बड़ी मानी जाती है।

X
चिड़ियाघर में दिखेगा अंगुली बराबर बंदर
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..