--Advertisement--

एग्रो फर्म में निवेश के नाम पर 400 लोग ठगाए, कर्ताधर्ता गायब

पांच साल में रुपया दोगुना करने का लालच देकर एक एग्रो फर्म ने इंदौर, उज्जैन और आसपास के शहरों के करीब 400 लोगों के साथ...

Danik Bhaskar | Jun 12, 2018, 03:30 AM IST
पांच साल में रुपया दोगुना करने का लालच देकर एक एग्रो फर्म ने इंदौर, उज्जैन और आसपास के शहरों के करीब 400 लोगों के साथ करोड़ों रुपए की ठगी की। कंपनी ने हर शहर में कई एजेंट बनाए, जिनके जरिए पैसा इकट्‌ठा किया। आलीशान दफ्तर और दूसरों की जमीनें दिखाकर लोगों से पैसे लिए और फिर गायब हो गए।

मामला आरबीएक्स एग्रीफर्म प्रोड्यूसर लिमिटेड कंपनी का है। कंपनी ने करीब छह साल पहले कृषि क्षेत्र में निवेश करने की स्कीम लॉन्च की और कई एजेंट को जोड़ा। इन एजेंट को लोगों से निवेश के लिए बड़ी रकम लाने का काम दिया। कंपनी का मुख्य कार्यालय उज्जैन के फ्रीगंज में था, जबकि इंदौर-महू में इसके एजेंट अलग-अलग ऑफिस चला रहे थे। लोगों को पैसा देने पर जमीन और कृषि उत्पादों की गारंटी दी गई। उनके झांसे में आकर सैकड़ों लोगों ने कंपनी में निवेश किया। पांच साल पूरे हुए और कंपनी से लोग पैसा मांगने पहुंचे तो डायरेक्टर्स ने साफ इनकार कर दिया। एजेंटों को घेरा तो उन्होंने भी कंपनी बंद होने का हवाला देकर लोगों को टाल दिया। अनुमान है कि करीब 400 लोगों से कंपनी ने दो करोड़ रुपए से अधिक की राशि ठग ली। ठगाए लोगों ने उज्जैन में कंपनी पर एफआईआर भी करवाई है।

पैसा मांगा तो धमकाया

पीड़ितों ने बताया कि उनसे कंपनी के डायरेक्टर के रूप में रघुवीर सिंह, सुनील लोहार, कुशल सिंह राजपूत, चतुर्भुज पाटीदार और रामचंद्र धाकड़ मिले थे। इन लोगों ने उज्जैन में ऑफिस खोला था, जहां कुछ लोगों का स्टाफ भी था। इन लोगों ने कृषि उपकरण, उत्पाद और जमीनों में निवेश का दावा किया व कहा कि जितना मुनाफा होगा, उसमें सबको हिस्सेदारी मिलेगी। पांच साल में रकम दोगुना करने की गारंटी भी दी थी। पांच साल बाद जब पैसे मांगे तो ये लोग धमकाने लगे। अब किसी का पैसा नहीं लौटा रहे। एजेंट भी बुरी तरह फंस गए हैं।

झांसे में आकर दिए दो लाख

वीणा नगर निवासी मुकेश पाटीदार ने कंपनी डायरेक्टर और एजेंटों के झांसे में आकर दो लाख रुपए जमा किए। शांतिलाल पाटीदार निवासी राजेंद्र नगर ने एक लाख 12 हजार, दिनेश पाटीदार निवासी वीणा नगर ने 60 हजार, बंसीलाल निवासी आदिनाथ नगर ने 1 लाख 12 हजार रुपए निवेश किए। इंदौर में ही कम से 200 लोग कंपनी के जाल में फंसे थे। उज्जैन, महू, मानपुर, देवास में भी कई लोग इनसे ठगाए हैं। इन लोगों ने फिलहाल उज्जैन के माधव नगर पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है।

पांचों आरोपी की तलाश

माधव नगर थाने के जांच अधिकारी एसआई नितिन उके के मुताबिक कई लोगों ने कंपनी के खिलाफ रिपोर्ट की है। लोगों से 1 करोड़ 70 लाख रुपये दोगुना करने के नाम पर लिए और लौटाए नहीं। अभी आरोपी फरार हैं, उनकी तलाश कर रहे हैं।