Home | Madhya Pradesh | Indore | News | सोनाली पर केस उम्रकैद-फांसी की धाराओं में किया, पर जमानत नहीं रोक पाई पुलिस

सोनाली पर केस उम्रकैद-फांसी की धाराओं में किया, पर जमानत नहीं रोक पाई पुलिस

एडीजी व अन्य अफसरों की रिश्तेदार बनकर 10 साल तक पुलिस मैस में रुकने वाली सोनाली उर्फ सोनिया शर्मा पर पुलिस ने केस तो...

Bhaskar News Network| Last Modified - Jun 15, 2018, 03:30 AM IST

सोनाली पर केस उम्रकैद-फांसी की धाराओं में किया, पर जमानत नहीं रोक पाई पुलिस
सोनाली पर केस उम्रकैद-फांसी की धाराओं में किया, पर जमानत नहीं रोक पाई पुलिस
एडीजी व अन्य अफसरों की रिश्तेदार बनकर 10 साल तक पुलिस मैस में रुकने वाली सोनाली उर्फ सोनिया शर्मा पर पुलिस ने केस तो उम्रकैद और फांसी की धाराओं में दर्ज किया, लेकिन सत्र न्यायालय में उसकी जमानत नहीं रोक पाई। गुरुवार को उसे जमानत मिल गई। मेस से पकड़े जाने के बाद से ही वह जेल में थी।

सोनाल की जमानत को खारिज कराने के लिए सदरबाजार पुलिस ने अपना पक्ष दमदारी से नहीं रखा। कोर्ट में प्रभावी रूप से बताया ही नहीं कि उसके बाहर निकलने से पड़ताल प्रभावित हो सकती है। वह साक्ष्यों को भी प्रभावित कर सकती है। पुलिस ने सिर्फ इतनी दलील दी कि इटारसी में भी उसके खिलाफ केस है, जिसके चलते उससे पूछताछ की जाना है। जमानत नहीं दी जाए।

वहीं सोनाली के वकील राम बजाड़ गुर्जर, धमेंद्र गुर्जर ने कोर्ट में कहा कि पुलिस ने जो एफआईआर लिखी है उस पर ही संदेह है। पुलिस ने सोनिया पर सीधे-सीधे कोई आरोप नहीं लगाया। उसने एडीजी अजय शर्मा का नाम लिया तो एडीजी को शिकायतकर्ता होना चाहिए था। सोनाली के साथ उसका प्रेमी कृष्णा भी जेल में था। पुुलिस ने उसका भी नाम एफआईआर में लिखा था। कोर्ट से दोनों को जमानत मिल गई।

सोनाली शर्मा

सोनिया को तंत्र-मंत्र के लिए बुलाते थे अधिकरी

सोनिया की मां कमला देवी ने बताया कि सोनिया उन्हें मंदिर के पास मिली थी। वह ट्रांसजेंडर नहीं है। वह शिव मंदिर के पास मिली थी, इसलिए हम उसे नागकन्या भी कहते थे। वह तंत्र-मंत्र क्रिया भी जानती थी। पुलिस अधिकारी भी इसी वजह से उसके संपर्क में आ गए थे। वह अपनी समस्याएं लेकर सोनिया के पास आते थे। वह तंत्र-मंत्र से उनकी परेशानी दूर करती थी। उसने किसी पुलिस अधिकारी का गलत नहीं किया। उसे जबरन पुलिस अधिकारी झूठे आरोपों में फंसा रहे हैं।

उम्रकैद, फांसी जैसा कोई अपराध नहीं

पुलिस ने सोनाली के खिलाफ उम्रकैद और फांसी की धाराएं भी एफआईआर में लगा दी थी। जमानत आदेश में कहा है कि जैसी धाराएं लगाई गई हैं वैसा अपराध ही नहीं दिख रहा है।

अब एफआईआर को भी कोर्ट में देगी चुनौती

सोनाली अब सदर बाजार और तेजाजी नगर थाने में दर्ज एफआईआर को भी चुनौती देगी। उधर सदर बाजार पुलिस ने अभी तक इस मामले में सोनाली के खिलाफ चालान पेश नहीं किया है।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now