Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» जर्जर भवन वाले स्कूलों को स्थानांतरित नहीं कर रहे

जर्जर भवन वाले स्कूलों को स्थानांतरित नहीं कर रहे

इंदौर

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 12, 2018, 03:35 AM IST

जर्जर भवन वाले स्कूलों को स्थानांतरित नहीं कर रहे
इंदौर डीबी स्टार

कलेक्टर को सौंपी रिपोर्ट में 31 मार्च को सरवटे बस स्टैंड इलाके में ध्वस्त हुई एमएस होटल का भी जिक्र किया गया। रिपोर्ट के मुताबिक इंदौर के 25 सरकारी स्कूलों को भवनों की हालत भी एमएस होटल जैसी है। कभी भी इन स्कूलों के भवन धराशायी हो सकते हैं।

इनके भवन 70 से 80 साल पुराने हैं। वर्तमान में यह सभी जर्जर और जीर्ण-शीर्ण हैं। यहां बच्चे पढ़ेंगे तो उनकी जान पर पूरे समय खतरा मंडराता रहेगा। अत: कोई हादसा हो उसके पहले ही इन भवनों का नवीनीकरण करवा दिया जाए।

शासन के निर्देश की उड़ रही धज्जियां

शिक्षा विभाग के राज्य शिक्षा केंद्र ने अपने निर्देश में कहा था कि जीर्ण-शीर्ण अवस्था वाले भवनों, कमरों, शौचालयों और बाउंड्रीवाल की मरम्मत की जाए। मरम्मत योग्य नहीं होने पर उनका पुनर्निर्माण किया जाए। स्कूलों भवनों में बिजली के खुले तार हों तो उन्हें बदलवाया जाए। यानी करंट फैलने जैसी कोई संभावना शेष नहीं रहे। शाला भवन की साफ-सफाई कर अनुपयोगी वस्तुएं हटाई जाएं ताकि बारिश में जहरीले जीव-जंतु घर नहीं कर सकें। इसके साथ पेड़ों की कटाई-छटाई और गड्‌ढों की भराई कराई जाए। शहर के शासकीय स्कूलों में शासन के इन निर्देशों की धज्जियां उड़ रही हैं। अभी तक किसी स्कूल में मरम्मत या नवीनीकरण कार्य शुरू नहीं हुए हैं।

शा. प्रा. वि. क्र. 36 दूसरी पल्टन

शासन ने सबक लिया, प्रशासन ने नहीं

शा. प्रा. वि. क्र.118 रामबाग

शासकीय स्कूलों में हुई घटनाओं से सबक लेते हुए शासन ने दिशा-निर्देश जारी कर स्कूलों की मरम्मत करने को कहा था। जिलों को भेजे गए सर्कुलर में लिखा है कि शिवपुरी जिले के एक स्कूल में छात्र की करंट से मौत हो गई तो रतलाम और सागर के स्कूलों में शौचालय की दीवार गिरने से विद्यार्थी मारे गए। इसी तरह टीकमगढ़ में एक छात्र को पानी के गड्‌ढे में गिरने से जान गंवाना पड़ी। अत: स्कूलों में अब जानलेवा हादसे नहीं हों। इन हादसों के उदाहरण देने के बाद भी इंदौर जिला प्रशासन ने सबक नहीं लिया है। यानी स्कूलों को न तो शिफ्ट किया है और न ही बीते 16 माह में उनकी मरम्मत कराई है।

शा. प्रा. वि. बोलिया छत्री

शा. प्रा. वि. क्र. 70 पागनीसपागा

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: जर्जर भवन वाले स्कूलों को स्थानांतरित नहीं कर रहे
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×