Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» सिंधिया बोले - मेरा फोकस शहरों की जमीनी स्थिति ठीक करने पर होगा

सिंधिया बोले - मेरा फोकस शहरों की जमीनी स्थिति ठीक करने पर होगा

मध्यप्रदेश में शहरीकरण कैसे बढ़ेगा?

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 12, 2018, 03:35 AM IST

सिंधिया बोले - मेरा फोकस शहरों की जमीनी स्थिति ठीक करने पर होगा
मध्यप्रदेश में शहरीकरण कैसे बढ़ेगा?

शहरीकरण का पूरा प्रेशर भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर, इंदौर पर आ गया है। सरकार गांव व छोटे शहरों के विकास में सफल नहीं हुई है। योजनाएं मंजूर करना और फंड जुटाना बड़ा काम है, लेकिन यदि उसका क्रियान्वयन सही ढंग से न हो तो इससे बड़ा कोई जुर्म नहीं है। जेएनएनयूआरएम के तहत यूपीए सरकार ने भोपाल-इंदौर को छह-सात हजार करोड़ रुपए दिए लेकिन काम नहीं दिख रहा है। बीआरटीएस कॉरिडोर बना दिया, जिसका कोई इस्तेमाल नहीं हो रहा है। ये जनता का प्रश्न होना चाहिए सरकार से।

युवाओं को रोजगार के लिए क्या विजन है?

दो तरह के नेता होते हैं। ओवर कमिट व अंडर परफॉर्मर और अंडर कमिट व ओवर परफॉर्मर। मैं दूसरी तरह का होना चाहता हूं। घोषणाएं नहीं करना चाहता, काम करके दिखाना चाहता हूं। गुना में मैंने गेल और आईएलएफएस के साथ ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट शुरू किया है। इंडस्ट्री से पूछते हैं कि उन्हें कैसा मैनपॉवर चाहिए और कितना चाहिए। कांग्रेस सरकार में आई तो प्रदेश के हर जिले में ऐसे सेंटर बनाएंगे।

भ्रष्टाचार को लेकर लोगों की शिकायतें बढ़ रही हैं, आपकी क्या पॉलिसी होगी?

मध्यप्रदेश में खसरा, खतौनी, नामांतरण.. कोई भी एक काम बता दो जो बिना पैसे दिए हो जाए। कांग्रेस के सत्ता में आने पर यदि कोई सरकारी कर्मचारी 5 रुपए भी रिश्वत लेते हुए मिला तो पब्लिकली उसे बदनाम किया जाएगा, ताकि कोई दूसरा ऐसा न करे। ऊर्जा मंत्रालय में रहते हुए मैंने नियम बनाया था कि कोई भी फाइल किसी अफसर के पास 4 दिन से ज्यादा न रहे। उसे इसका कारण लिखित में बताना होगा। फाइल यदि 15 दिन डिले हुई तो सीधे मंत्री के पास पहुंचेगी। हम सत्ता में आए तो सरकारी कामों के लिए समय तय करेंगे। समय पर काम नहीं हुआ तो यह माना जाएगा कि परमिशन मिल गई है।

नेताओं में अनुशासन किस तरह से लाया जा सकता है?

राजनीति में मतभेद होना ठीक है, लेकिन मनभेद नहीं होना चाहिए। आज की राजनीति में मनभेद ज्यादा हो गया है। एक-दूसरे पर कटाक्ष करना हमारा रोजगार हो गया है। मैं भाजपा कार्यकर्ताओं को दुश्मन नहीं मानता। मेरी प्रतिस्पर्धा उनकी सोच व विचारधारा के साथ है। मैं तो कहता हूं कि चुनाव में जो कहना है कह लो, लेकिन फिर अगले पांच साल मिलकर काम करो।

दीनदयाल योजना में दवाएं व जांच की व्यवस्था है, आपकी सरकार में क्या होगा?

हम जो भी योजनाएं लाएंगे, उनमें फोकस आउटकम पर होगा। इंदौर की राजनीति से मेरा लेना देना नहीं है, लेकिन मैंने वहां कोई भी कार्यक्रम ताई (सुमित्रा महाजन) की उपस्थिति के बिना नहीं किया।

भोपाल में स्मार्ट सिटी बन रही है, लेकिन लोहा मंडी नहीं बनी अब तक?

स्मार्ट सिटी से पहले शहरों की बुनियादी जरूरतों को समझना होगा। शहरों मेें पानी नहीं मिल रहा है, कचरा कॉलोनियों में भरा हुआ है। मेरा फोकस शहरों की जमीनी स्थिति ठीक करने पर होगा। शहर की जनता से ही हम वहां की सबसे प्रमुख एक समस्या पूछेंगे और फिर उसका सौ फीसदी समाधान करेंगे।

कांग्रेस की सरकार बनने पर महिलाओं की सुरक्षा को लेकर क्या उपाय किए जाएंगे?

मेरा कमिटमेंट है, प्रदेश में मुख्यमंत्री कोई भी हो। सीधे मुझे फोन करना 24 घंटे के भीतर अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। एेसा नहीं है कि महिलाओं और बच्चियों की सुरक्षा के लिए कोई कानून नहीं है, उसका क्रियान्वयन नहीं किया जा रहा है। इसलिए इस तरह की घटनाएं बढ़ रही हैं। अपराधियों में कानून का डर पैदा किया जाएगा।

अस्पतालों में न डॉक्टर हैं, न दवाएंं, लोग इलाज के लिए दर-दर भटकते हैं?

पिछले पंद्रह सालों में सरकार अस्पतालों में डाॅक्टर उपलब्ध नहीं करा पाई। चाहिए 7 हजार डाॅक्टर, लेकिन हैं सिर्फ 3 हजार ही। इससे अस्पतालों में कैसे स्वास्थ्य व्यवस्था ठीक होगी। शिवपुरी और छिंदवाड़ा में मेडिकल काॅलेज खुलना था, वहां सरकार ने अड़ंगा लगा दिया। शिक्षा और स्वास्थ्य जैसे मसलों पर सरकार को गंभीरता से विचार करना चाहिए।

प्रदेश में खिलाड़ियों को रोजगार दिलाने के लिए आपकी क्या नीति होगी?

यह सही है कि खिलाड़ी 35 साल की उम्र तक खेलता है, तब उसे रोजगार मिल जाए। इस तरह की खेल नीति बनाई जानी चाहिए। मैं कोई घोषणावीर नहीं हूं। इसलिए यहां कोई घोषणा नहीं करूंगा।

रिटायरमेंट की उम्र 60 से बढ़ाकर 62 कर दी, आप क्या करेंगे?

ये केवल वोट खरीदने की राजनीति है। इतनी चिंता थी तो पहले 12 सालों में यह फैसला क्यों नहीं किया। गरीबों को फ्लेट रेट पर बिजली देने का फैसला हो या ऐसे अन्य फैसले सब वोट के लिए हैं। मैं तो कहता हूं कि एमपी में इतनी जगह आग लगी है कि अब आप जितना बुझाने की कोशिश करो, नहीं बुझेगी।

सरकारी पैसों का मनमाना इस्तेमाल... यूपीए ने भोपाल को 6 हजार करोड़ दिए थे, लेकिन जमीन पर तो काम दिख ही नहीं रहा है

इन्होंने पूछे प्रश्न...

बीआरटीएस किसी काम का नहीं, स्मार्ट सिटी भी बेमतलब, पहले कॉलोनियों से कचरा तो उठवाएं

मध्यप्रदेश में शहरीकरण कैसे बढ़ेगा?

शहरीकरण का पूरा प्रेशर भोपाल, जबलपुर, ग्वालियर, इंदौर पर आ गया है। सरकार गांव व छोटे शहरों के विकास में सफल नहीं हुई है। योजनाएं मंजूर करना और फंड जुटाना बड़ा काम है, लेकिन यदि उसका क्रियान्वयन सही ढंग से न हो तो इससे बड़ा कोई जुर्म नहीं है। जेएनएनयूआरएम के तहत यूपीए सरकार ने भोपाल-इंदौर को छह-सात हजार करोड़ रुपए दिए लेकिन काम नहीं दिख रहा है। बीआरटीएस कॉरिडोर बना दिया, जिसका कोई इस्तेमाल नहीं हो रहा है। ये जनता का प्रश्न होना चाहिए सरकार से।

युवाओं को रोजगार के लिए क्या विजन है?

दो तरह के नेता होते हैं। ओवर कमिट व अंडर परफॉर्मर और अंडर कमिट व ओवर परफॉर्मर। मैं दूसरी तरह का होना चाहता हूं। घोषणाएं नहीं करना चाहता, काम करके दिखाना चाहता हूं। गुना में मैंने गेल और आईएलएफएस के साथ ट्रेनिंग इंस्टीट्यूट शुरू किया है। इंडस्ट्री से पूछते हैं कि उन्हें कैसा मैनपॉवर चाहिए और कितना चाहिए। कांग्रेस सरकार में आई तो प्रदेश के हर जिले में ऐसे सेंटर बनाएंगे।

भ्रष्टाचार को लेकर लोगों की शिकायतें बढ़ रही हैं, आपकी क्या पॉलिसी होगी?

मध्यप्रदेश में खसरा, खतौनी, नामांतरण.. कोई भी एक काम बता दो जो बिना पैसे दिए हो जाए। कांग्रेस के सत्ता में आने पर यदि कोई सरकारी कर्मचारी 5 रुपए भी रिश्वत लेते हुए मिला तो पब्लिकली उसे बदनाम किया जाएगा, ताकि कोई दूसरा ऐसा न करे। ऊर्जा मंत्रालय में रहते हुए मैंने नियम बनाया था कि कोई भी फाइल किसी अफसर के पास 4 दिन से ज्यादा न रहे। उसे इसका कारण लिखित में बताना होगा। फाइल यदि 15 दिन डिले हुई तो सीधे मंत्री के पास पहुंचेगी। हम सत्ता में आए तो सरकारी कामों के लिए समय तय करेंगे। समय पर काम नहीं हुआ तो यह माना जाएगा कि परमिशन मिल गई है।

नेताओं में अनुशासन किस तरह से लाया जा सकता है?

राजनीति में मतभेद होना ठीक है, लेकिन मनभेद नहीं होना चाहिए। आज की राजनीति में मनभेद ज्यादा हो गया है। एक-दूसरे पर कटाक्ष करना हमारा रोजगार हो गया है। मैं भाजपा कार्यकर्ताओं को दुश्मन नहीं मानता। मेरी प्रतिस्पर्धा उनकी सोच व विचारधारा के साथ है। मैं तो कहता हूं कि चुनाव में जो कहना है कह लो, लेकिन फिर अगले पांच साल मिलकर काम करो।

दीनदयाल योजना में दवाएं व जांच की व्यवस्था है, आपकी सरकार में क्या होगा?

हम जो भी योजनाएं लाएंगे, उनमें फोकस आउटकम पर होगा। इंदौर की राजनीति से मेरा लेना देना नहीं है, लेकिन मैंने वहां कोई भी कार्यक्रम ताई (सुमित्रा महाजन) की उपस्थिति के बिना नहीं किया।

भोपाल में स्मार्ट सिटी बन रही है, लेकिन लोहा मंडी नहीं बनी अब तक?

स्मार्ट सिटी से पहले शहरों की बुनियादी जरूरतों को समझना होगा। शहरों मेें पानी नहीं मिल रहा है, कचरा कॉलोनियों में भरा हुआ है। मेरा फोकस शहरों की जमीनी स्थिति ठीक करने पर होगा। शहर की जनता से ही हम वहां की सबसे प्रमुख एक समस्या पूछेंगे और फिर उसका सौ फीसदी समाधान करेंगे।

कांग्रेस की सरकार बनने पर महिलाओं की सुरक्षा को लेकर क्या उपाय किए जाएंगे?

मेरा कमिटमेंट है, प्रदेश में मुख्यमंत्री कोई भी हो। सीधे मुझे फोन करना 24 घंटे के भीतर अपराधियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। एेसा नहीं है कि महिलाओं और बच्चियों की सुरक्षा के लिए कोई कानून नहीं है, उसका क्रियान्वयन नहीं किया जा रहा है। इसलिए इस तरह की घटनाएं बढ़ रही हैं। अपराधियों में कानून का डर पैदा किया जाएगा।

अस्पतालों में न डॉक्टर हैं, न दवाएंं, लोग इलाज के लिए दर-दर भटकते हैं?

पिछले पंद्रह सालों में सरकार अस्पतालों में डाॅक्टर उपलब्ध नहीं करा पाई। चाहिए 7 हजार डाॅक्टर, लेकिन हैं सिर्फ 3 हजार ही। इससे अस्पतालों में कैसे स्वास्थ्य व्यवस्था ठीक होगी। शिवपुरी और छिंदवाड़ा में मेडिकल काॅलेज खुलना था, वहां सरकार ने अड़ंगा लगा दिया। शिक्षा और स्वास्थ्य जैसे मसलों पर सरकार को गंभीरता से विचार करना चाहिए।

प्रदेश में खिलाड़ियों को रोजगार दिलाने के लिए आपकी क्या नीति होगी?

यह सही है कि खिलाड़ी 35 साल की उम्र तक खेलता है, तब उसे रोजगार मिल जाए। इस तरह की खेल नीति बनाई जानी चाहिए। मैं कोई घोषणावीर नहीं हूं। इसलिए यहां कोई घोषणा नहीं करूंगा।

रिटायरमेंट की उम्र 60 से बढ़ाकर 62 कर दी, आप क्या करेंगे?

ये केवल वोट खरीदने की राजनीति है। इतनी चिंता थी तो पहले 12 सालों में यह फैसला क्यों नहीं किया। गरीबों को फ्लेट रेट पर बिजली देने का फैसला हो या ऐसे अन्य फैसले सब वोट के लिए हैं। मैं तो कहता हूं कि एमपी में इतनी जगह आग लगी है कि अब आप जितना बुझाने की कोशिश करो, नहीं बुझेगी।

मनोज सिंह मीक, मृणालिनी गौर, वीरेंद्र ओसवाल, बीएस ओहरी, अरूण कुमार, जाह्नवी भूषण मिश्रा, अंशु गुप्ता : भोपाल पूनम खंडेलवाल, सुयोग श्रीवास्तव : इंदौर डॉ. प्रवीण अग्रवाल : ग्वालियर, पुष्कर बाहेती, संजीव पंजाबी : उज्जैन स्वप्निल जैन : शिवपुरी मुकेश पाटिल : खंडवा नितिन दूरवार : बीना अनुराग गौतम : दमोह

भ्रष्टाचार पर... सरकारी कर्मचारी 5 रुपए की भी रिश्वत लेते मिला तो उसे पब्लिकली बदनाम करेंगे, ताकि दूसरा ऐसी हिम्मत न करे



12.3% लोगों ने पूछा- प्रदेश के लिए कांग्रेस का विजन क्या है?

‘प्रश्न पूछिए भास्कर @ न्यूजरूम’ में 11 फीसदी से ज्यादा सवाल किसानों से जुड़े हैं।

25.9% लोगों ने युवाओं और रोजगार मुद्दे पर पूछे सवाल

11.3%

किसान

12.3%

कांग्रेस का विजन

14.6%

मुख्यमंत्री का चेहरा

3.1%

कानून व्यवस्था

25.9 %

युवा और रोजगार

41% सवाल 25 से कम वालों के

उम्र

18 से 25 वर्ष

26 से 35 वर्ष

36 से 50 वर्ष

सवाल पूछने वाले 45% ग्रेजुएट

45.5%

ग्रेजुएट

27.1%

पोस्ट ग्रेजुएट

17.1%

अन्य

3.2%

सड़क, बिजली

7.6%

शिक्षा और स्वास्थ्य

2.2%

महंगाई

41.6%

39.3%

15.7%

27.3%

अंडर ग्रेजुएट

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×