• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Indore News
  • News
  • डीवीआर खुला, पर घटना वाले दिन के फुटेज में भय्यू महाराज के चेहरे पर नहीं दिखा तनाव
--Advertisement--

डीवीआर खुला, पर घटना वाले दिन के फुटेज में भय्यू महाराज के चेहरे पर नहीं दिखा तनाव

संत भय्यू महाराज की आत्महत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए पुलिस ने उनके सिल्वर स्प्रिंग स्थित घर से जब्त 10 सीसीटीवी...

Danik Bhaskar | Jun 15, 2018, 03:35 AM IST
संत भय्यू महाराज की आत्महत्या की गुत्थी सुलझाने के लिए पुलिस ने उनके सिल्वर स्प्रिंग स्थित घर से जब्त 10 सीसीटीवी कैमरे का डीवीआर (डिजिटल वीडियो रिकॉर्डर) सिस्टम गुरुवार रात खोल लिया। महाराज ने इसमें पासवर्ड डाला था। डीवीआर में एक महीने के फुटेज मिले हैं। घटना वाले दिन महाराज कमरे में जाते दिखे। अन्य परिजन भी नजर आए। पुलिस ने सेवादारों व नौकरों के जो बयान लिए थे, उनसे फुटेज का मिलान किया। लेकिन कोई असामान्य बात नहीं मिली। पुलिस को संदेह है कि घर में विवाद हुआ होगा तो वह कमरों में हुआ होगा, क्योंकि वहां कैमरे नहीं लगे हैं। महाराज के मोबाइल की कॉल डिटेल को लेकर भी पुलिस कई लोगों की सीडीआर निकलवा रही है। डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने बताया पुलिस इन फुटेज के आधार पर और भी जानकारी जुटाने में लगी है। सुसाइड नोट और उनके द्वारा लिखी गई कुछ डायरियों की लिखावट की जांच एक्सपर्ट से करवाई जाएगी। एएसपी प्रशांत चौबे ने बताया कि मनोवैज्ञानिक को फुटेज दिखवाकर महाराज की मनोस्थिति पता की जाएगी।

-सिटी फ्रंट पेज भी पढ़ें



पुलिस ने पोस्टमाॅर्टम के बाद महाराज का विसरा टिशू जांच के लिए फोरेंसिक लैब भेज दिया है।

हालांकि स्पष्ट है कि सुसाइड नोट उन्होंने लिखा है। फिर भी कोर्ट में सबूत के तौर पर पेश करने लिए आधिकारिक पुष्टि को लेकर यह कार्य करवाया जा रहा है।

भय्यू महाराज की मौत के तीसरे दिन पुलिस ने दस कैमरों का रिकॉर्डर खोला, मोबाइल खंगालना बाकी

इधर, तस्वीर बता रही रिश्तों में तल्खी अब भी है...

गुरुवार शाम को भय्यू महाराज की श्रद्धांजलि सभा में बेटी कुहू और प|ी आयुषी 3 फीट की दूरी पर बैठी थीं। दोनों ने एक-दूसरे से नजर तक नहीं मिलाई।

महाराज से शादी करने को राजी नहीं थीं डाॅ. आयुषी

पुलिस डॉ. आयुषी की भी पुरानी जानकारी निकाल रही है। इसके लिए एक टीम भंवरकुआं क्षेत्र स्थित परमहंस गर्ल्स होस्टल पहुंची और यहां के पूर्व मैनेजर सुनील जैन से बात की। डॉ. आयुषी पीएचडी करने के दौरान इसी होस्टल में रुकती थीं। यह बात भी सामने आई है कि महाराज से शादी करने से पहले डॉ. आयुषी की दोस्ती विवेक नामक युवक से थी। पुलिस विवेक को तलाश रही है। सूत्रों का कहना है कि डॉ. आयुषी पहले महाराज की अनुयायी थीं। महाराज से शादी के प्रस्ताव को उन्होंने परिवार वालों के सामने खारिज कर दिया था। बाद में किसी दबाव में मान गई थीं।

परिवार जैसा चाहेगा, वैसा होगा : विनायक

पुलिस सूत्रों का कहना है कि जांच अधिकारी ने सेवादार विनायक से बात की है। सुसाइड नोट में महाराज द्वारा उन्हें जिम्मेदारी दिए जाने पर विनायक ने कहा कि जैसा परिवार चाहेगा, वैसा ही होगा। बताया जा रहा है कि इस संबंध में अधिकृत तौर पर उनके बयान होंगे। इसके बाद स्थिति स्पष्ट हो सकेगी।