Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» एमवाय में सामान्य वार्डों में पर्याप्त पंखे नहीं, निजी में 25 लाख से लगा रहे एसी

एमवाय में सामान्य वार्डों में पर्याप्त पंखे नहीं, निजी में 25 लाख से लगा रहे एसी

एमवाय अस्पताल के सामान्य वार्ड में 20 से 30 मरीजों के बीच सिर्फ चार-पांच पंखे रहते हैं। वह भी ठीक से काम नहीं करते।...

Bhaskar News Network | Last Modified - Jun 15, 2018, 03:35 AM IST

एमवाय अस्पताल के सामान्य वार्ड में 20 से 30 मरीजों के बीच सिर्फ चार-पांच पंखे रहते हैं। वह भी ठीक से काम नहीं करते। मरीजों को पर्याप्त हवा ही नहीं मिल पाती। खासकर गर्मी के दिनों में तो काफी परेशानी होती है। मरीज के परिजन खुद टेबल पंखा घर से लेकर आते हैं। यहां सुविधाएं बढ़ाने के बजाय मेडिकल कॉलेज प्रशासन अस्पताल के उन प्राइवेट वार्डों में एसी लगाने पर 25 लाख रुपए खर्च करेगा, जहां कभी-कभार मरीज भर्ती रहते हैं।

एक दिन पहले हुई एमजीएम मेडिकल कॉलेज की एक्जीक्यूटिव काउंसिल की बैठक में फैसला लिया गया कि प्राइवेट वार्ड में एसी लगाए जाएंगे। इसके लिए 25 लाख रुपए मंजूर किए गए। वातानुकूलित होने के बाद प्राइवेट वार्डों का शुल्क प्रति दिन हजार रुपए किया जाएगा। प्रोजेक्ट कायाकल्प के तहत भी इन वार्डों का नवीनीकरण किया गया था। अभी इनका शुल्क 750 रुपए था।

24 प्राइवेट वार्ड, 2 साल में भर्ती सिर्फ 500 मरीज

एमवाय की हर मंजिल पर 12 सामान्य वार्ड हैं, जहां सैकड़ों मरीज भर्ती रहते हैं। इन्हें भीषण गर्मी में भी कूलर उपलब्ध नहीं होते हैं। वहीं प्राइवेट वार्ड में एसी लगाए जाएंगे। इसके साथ अन्य अस्पतालों में लगे पांच साल पुराने एसी बदलने के निर्देश भी दिए गए हैं। पीडब्ल्यूडी को गिनती करने के लिए कहा है। जबकि सामान्य वार्डों में सैकड़ों मरीज रोज परेशान होते हैं वहां की मेडिकल कॉलेज और अस्पताल प्रशासन को कोई फिक्र नहीं है। एमवाय में 24 प्राइवेट वार्ड हैं। दो साल में यहां करीब 500 मरीज भर्ती हुए हैं।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: एमवाय में सामान्य वार्डों में पर्याप्त पंखे नहीं, निजी में 25 लाख से लगा रहे एसी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×