• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Indore News
  • News
  • यूनिवर्सिटी ने गोद लिए उमरीखेड़ा, रालामंडल सहित 5 गांव, टॉयलेट बनवाएंगे और नदी साफ करेंगे
--Advertisement--

यूनिवर्सिटी ने गोद लिए उमरीखेड़ा, रालामंडल सहित 5 गांव, टॉयलेट बनवाएंगे और नदी साफ करेंगे

देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी ने इंदौर जिले के पांच गांवों को गोद लिया है। एनएसएस के जरिये वह इन गांवों में काम करेगी...

Danik Bhaskar | Jun 13, 2018, 04:00 AM IST
देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी ने इंदौर जिले के पांच गांवों को गोद लिया है। एनएसएस के जरिये वह इन गांवों में काम करेगी और जागरूकता अभियान चलाएगी। यूनिवर्सिटी प्रबंधन ने हर गांव का जिम्मा एक-एक टीचिंग विभाग को सौंप भी दिया है। जिन गांवों को गोद लिया उनमें रालामंडल, उमरीखेड़ा, बाईग्राम, जबरिया और वाडरिया शामिल हैं। इन गांवों में यूनिवर्सिटी टॉयलेट बनवाएगी। हरियाली पर काम करेगी। स्वच्छता पर जागरूकता अभियान चलाएगी।

इन विभागों को सौंपा जिम्मा- खंडवा रोड स्थित तक्षशिला परिसर के स्कूल ऑफ फॉर्मेसी, आईआईपीएस, एजुकेशन, स्कूल ऑफ जर्नलिज्म, स्कूल ऑफ लॉ विभाग के जरिये ये विकास कार्य होंगे। यूनिवर्सिटी प्रबंधन इन गांवों में नदी-तालाबों, कुओं और अन्य जल स्रोत को साफ करने के लिए भी काम करेगा। इन गांवों में अपशिष्ट के निपटारे के उपायों पर भी काम होगा।

घर-घर देंगे दस्तक, पांच सुझावों के जरिये रखेंगे बात

एनएसएस के कार्यकर्ता घर-घर पहुंचकर ग्रामीणों को जागरूक करेंगे। उन्हें बताएंगे कि स्वच्छता पर क्या-क्या काम किए जाना चाहिए। खाने-पीने के दौरान हाईजिन का ध्यान कैसे रखा जाएगा। नुक्कड़ नाटक के जरिये एनएसएस कार्यकर्ता स्वच्छ और स्वस्थ गांव का संदेश देंगे। इसी पर फिल्म दिखाई जाएगी। कुलपति प्रो. नरेंद्र कुमार धाकड़ के अनुसार गांवों को गोद लेकर हम अपनी सामाजिक जिम्मेदारी निभा रहे हैं। इन गांवों में हर संभव काम करेंगे। पूरी टीम तैयार है। विभागों को भी जिम्मा सौंप दिया है।

खुद कुलाधिपति ने बैठक में दिया था संदेश

कुलाधिपति आनंदी बैन पटेल ने खुद भोपाल में हुई बैठक में कुलपतियों को कहा था कि गांव में पहुंचकर ग्रामीणों के लिए कुछ करें। ताकि उनका जीवन स्तर और ऊंचा उठ सके। यूनिवर्सिटी को अपनी सामाजिक जिम्मेदारी निभाना चाहिए।