--Advertisement--

गीता भवन में वामनाश्रम महास्वामी का वैश्य घटकों ने किया सम्मान

इंदौर| आत्मज्ञान की प्राप्ति साधना से ही संभव है। एक बार आत्मज्ञान की प्राप्ति हो गई तो उसे न तो कोई चुरा सकता है और...

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2018, 04:00 AM IST
इंदौर| आत्मज्ञान की प्राप्ति साधना से ही संभव है। एक बार आत्मज्ञान की प्राप्ति हो गई तो उसे न तो कोई चुरा सकता है और न ही नष्ट कर सकता है। हमारे साथ न तो लक्ष्मी जाएगी और न ही हमारी डिग्री, केवल आत्मज्ञान ही हमारे साथ जाएगा। ये विचार मठाधिपति वामनाश्रम महास्वामी ने मंगलवार शाम गीता भवन सत्संग सभागृह में शहर के प्रमुख वैश्य घटकों व गीता भवन ट्रस्ट द्वारा आयोजित प्रवचन व गुरु वंदना कार्यक्रम में व्यक्त किए। प्रारंभ में गीता भवन ट्रस्ट की ओर से अध्यक्ष गोपालदास मित्तल, मंत्री राम ऐरन, रामविलास राठी, प्रेमचंद गोयल, अग्रवाल समाज के अध्यक्ष अरविंद बागड़ी, धीरज खंडेलवाल आदि ने उनका स्वागत किया।

X
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..