• Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Indore News
  • News
  • जिस उम्र में माॅडल्स विदा लेती हैं, उसमें मैंने मिसेज नाॅर्थ एशिया टाइटल जीता
--Advertisement--

जिस उम्र में माॅडल्स विदा लेती हैं, उसमें मैंने मिसेज नाॅर्थ एशिया टाइटल जीता

विश्वविख्यात कवि रॉबर्ट फ्रास्ट की प्रसिद्ध कविता माइल्स टू गो बिफोर आई स्लीप मैंने इंग्लिश लिटरेचर में पीजी के...

Dainik Bhaskar

Jun 13, 2018, 04:05 AM IST
जिस उम्र में माॅडल्स विदा लेती हैं, उसमें मैंने मिसेज नाॅर्थ एशिया टाइटल जीता
विश्वविख्यात कवि रॉबर्ट फ्रास्ट की प्रसिद्ध कविता माइल्स टू गो बिफोर आई स्लीप मैंने इंग्लिश लिटरेचर में पीजी के दौरान पढ़ी थी और यह मेरी प्रेरणा बन गई। यही वज़ह है कि 40 साल की उम्र में मैंनेे मिसेज एशिया नॉर्थ का टाइटल जीता जबकि मॉडलिंग वर्ल्ड में तो इस उम्र में मॉडल्स एग्ज़िट ले लती हैं। इस उम्र में तो मैंने एंट्री ली है। बातचीत में यह बात मंगलवार को वर्षा चौहान ने कही। उन्होंने कहा कि इस मुकाम तक पहुंचने में परिवार का सहयोग मिला। बीएसएफ में सेकंड कमांडेंट पति के साथ जॉगिंग-रनिंग करती थे। नॉलेज के लिए रात को तीन बजे तक करंट अफेयर्स की स्टडी करती थी क्योंकि दिन में दो बच्चों की देखभाल करती थी। जब बच्चे एग्जाम दे रहे थे तब मैं कॉम्पीटिशन में परफॉर्म कर रही थी।

मिसेज़ अर्थ पेजेंट पिछले साल जून में लास वेगास में हुआ। जब 9 जजों के पैनल ने पूछा कि भारत में महिलाओं की स्थिति अन्य देशों की तुलना में कमज़ोर क्यों है? मेरा जवाब था कि भारतीय महिलाएं कमज़ोर नहीं, मल्टीटास्कर हैं। वे घर-परिवार और कॅरियर की जिम्मेदारी बेहतर तालमेल के साथ निभा रही हैं। यह सिर्फ भारत में ही देखने को मिलता है।

थ्री सी को समझिए, मंजिल आपके कदमों में होगी

सीखने की कोई उम्र नहीं होती। तीन सी हैं मेरी लाइफ में। कंपैशन, कन्संट्रेशन और कॉन्फिडेंस। इन्हें आत्मसाध कर ले तो सब कुछ पा सकती है। पापा की सर्विस इंटेलिजेंस ब्यूरो (आईबी) और पति बीएसएफ में हैं। इसलिए देशभर में घूमने का मौका मिला। इसलिए खासा अनुभव मिला। इन दिनों ग्लोबल वॉर्मिंग अवेयरनेस प्रोग्राम से जुड़ कर प्लांट्स लगाने की मुहिम से जुड़ी हूं।

X
जिस उम्र में माॅडल्स विदा लेती हैं, उसमें मैंने मिसेज नाॅर्थ एशिया टाइटल जीता
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..