नेमा बने भाजपा नगर अध्यक्ष, हाथोहाथ बनाई कार्यकारिणी / नेमा बने भाजपा नगर अध्यक्ष, हाथोहाथ बनाई कार्यकारिणी

News - पूर्व विधायक गोपीकृष्ण नेमा भाजपा के नए नगर अध्यक्ष होंगे। शुक्रवार को उनके नाम की घोषणा कर दी गई। बताया जा रहा है...

Bhaskar News Network

Aug 04, 2018, 04:35 AM IST
नेमा बने भाजपा नगर अध्यक्ष, हाथोहाथ बनाई कार्यकारिणी
पूर्व विधायक गोपीकृष्ण नेमा भाजपा के नए नगर अध्यक्ष होंगे। शुक्रवार को उनके नाम की घोषणा कर दी गई। बताया जा रहा है कि व्यापारियों की नाराजगी दूर करने के लिए उन्हें यह पद दिया गया है। वे उस तीन नंबर क्षेत्र से विधायक रहे हैं, जहां सबसे ज्यादा व्यापारी हैं। ऐसे में जीएसटी से नाराज व्यापारियों को मनाने और फिर भाजपा के पाले में लाने में नेमा अहम भूमिका निभा सकते हैं। वहीं कैलाश शर्मा को प्रदेश कार्यसमिति में विशेष आमंत्रित सदस्य बनाया है। उन्हें कुछ और अहम जिम्मेदारी भी दिए जाने की तैयारी है। हालांकि शर्मा ने अपनी कुर्सी बचाने के लिए अंतिम समय तक प्रयास किया। गुरुवार रात भी प्रदेश अध्यक्ष राकेश सिंह के समक्ष एयरपोर्ट पर उन्होंने शक्ति प्रदर्शन किया था। हालांकि बदलाव के संकेत प्रदेश अध्यक्ष पद से नंदकुमार सिंह चौहान की छुट्टी के बाद ही मिल गए थे।

नए समीकरण

3 नंबर में सबसे ज्यादा व्यापारी, यहां से विधायक भी थे, व्यापारियों की नाराजगी दूर करने की दिशा में अहम कदम

आठ को बनाया उपाध्यक्ष, तीन नगर महामंत्री

ऐसा पहली बार हुआ है जब अध्यक्ष के साथ ही नई नगर कार्यकारिणी भी हाथोहाथ घोषित कर दी गई। बताते हैं कि संभागीय संगठन मंत्री जयपाल सिंह चावड़ा की सहमति से नाम तय किए गए। नगर टीम में कमल वाघेला, जयंत भिसे, जयदीप जैन, नानूराम कुमावत, अभिषेक शर्मा, हरप्रीत सिंह सूदन, सुमित मिश्रा, सोनू राठौर को उपाध्यक्ष बनाया गया है। वहीं नगर महामंत्री पद पर मुकेश राजावत, गणेश गोयल, घनश्याम शेर को नियुक्त किया गया है। कोषाध्यक्ष पद पर गुलाब ठाकुर और गोलू शुक्ला, संदीप दुबे, सविता पटेल, वीणा शर्मा, सविता अखंड, शैलजा मिश्रा, जयश्री जातेगावकर, गायत्री गोगडे अगर मंत्री बनाए गए हैं। वहीं अखिलेश शाह कार्यालय मंत्री और मुकेश मंगल को सह कार्यालय मंत्री बनाया गया है। इसमें ठाकुर, शुक्ला, दुबे, राठौर, राजावत, मिश्रा और शेर पहले कार्यकारिणी में रहे हैं, लेकिन शर्मा की टीम में नहीं थे, लेकिन ज्यादातर लोग शंकर लालवानी के अध्यक्ष रहते महत्वपूर्ण पदों पर थे। जबकि कुमावत को महामंत्री से उपाध्यक्ष बनाया गया है। मीडिया प्रभारी का जिम्मा देवकीनंदन तिवारी के पास ही रहेगा।

संगठन में गुटबाजी पर भी अंकुश लगेगा

अध्यक्ष पद के लिए नेमा के साथ ही पूर्व प्रदेश प्रवक्ता उमेश शर्मा, मुकेश सिंह राजावत, कमल वाघेला व कुछ अन्य नाम भी चर्चा में थे। नेमा के लिए विदेश मंत्री सुषमा स्वराज के साथ ही राकेश सिंह और खुद मुख्यमंत्री को भी आपत्ति नहीं थी। प्रदेश संगठन महामंत्री सुहास भगत भी पूरी तरह नेमा के नाम पर राजी थे। वजह यह माना गया कि नेमा शहर में किसी गुट विशेष से नहीं जुड़े हैं। ऐसे में चुनाव के दौर में गुटबाजी पर अंकुश लग सकेगी।

नेमा बोले- शहर की सभी छह सीटें जीतना ही लक्ष्य

नेमा ने कहा कि अहम जिम्मेदारी मिली है। सबको साथ लेकर शहरी क्षेत्र की सभी छह सीटें जीतना ही मेरा एकमात्र लक्ष्य है। पद संभालते ही उसी लक्ष्य पर काम शुरू कर दूंगा।

...और इधर विरोध भी शुरू

इधर, नेमा के अध्यक्ष बनते ही कांग्रेस कार्यकर्ताओं और कुछ लोगों ने सोशल मीडिया पर विरोध भी शुरू कर दिया। तिरंगे के अपमान का फोटो डालकर टिप्पणी की गई। कहा गया कि नेमा वही नेता हैं, जिन्होंने कभी तिरंगे का अपमान किया था।

X
नेमा बने भाजपा नगर अध्यक्ष, हाथोहाथ बनाई कार्यकारिणी
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना