--Advertisement--

पेटलावद में पहली बार एक साथ हुआ 33 साधु-साध्वियों का मंगल प्रवेश

रविवार को नगर में एक साथ मूर्तिपूजक जैन श्वेतांबर समाज के 33 साधु-साध्वियों ने एक साथ मंगल प्रवेश किया। इसमें 15 संत व...

Danik Bhaskar | Jun 11, 2018, 04:35 AM IST
रविवार को नगर में एक साथ मूर्तिपूजक जैन श्वेतांबर समाज के 33 साधु-साध्वियों ने एक साथ मंगल प्रवेश किया। इसमें 15 संत व 18 साध्वी शामिल है। इनके साथ 300 से ज्यादा उत्कृष्ट साहित्यिक किताबों के रचयिता आचार्यश्री र|सुंदरसूरीश्वरजी पहली बार पेटलावद आए। उनकी अगवानी करने बड़ी संख्या में समाजजन जुटे।

मंगल प्रवेश पर जैन समाज द्वारा एक देवी दर्शन यात्रा निकाली गई। आचार्यश्री ने प्रसिद्ध आदेश्वर नाथ बड़ा जैन मंदिर एवं श्री सुविधि नाथ जैन मंदिर की प्रतिमाओं का दर्शन कर आराधना प्रार्थना की। विभिन्न मार्गों से होते हुए वे स्थानीय खुशबू गार्डन पहुंचे। जहां विधायक निर्मला भूरिया, नगर परिषद अध्यक्ष मनोहरलाल भटेवरा ने समग्र जैन समाज की उपस्थिति में साधु साध्वियों की अगवानी की। यहां हुई धर्मसभा में आचार्यश्री सुंदरर|सूरीश्वरजी ने कहा हमने बहुत सारी प्रार्थना कर ली है, आज से आप प्रार्थना करें कि हे प्रभु किसी छोटे बच्चे को अपनी मां न गंवाना पड़े, कभी किसी युवा स्त्री को अपना पति ना खोना पड़े, वृद्धा अवस्था में किसी माता पिता को अपना जवान बेटा ना खोना पड़े। अगर ऐसी प्रार्थना कर ली तो जीवन धन्य हो जाएगा। आचार्यश्री ने कहा आज देश में कई संस्थाएं हैं जो विभिन्न तरह के कामकाज सिखाते हैं, ज्ञान और कौशल देते हैं लेकिन जीवन में सबसे ज्यादा आवश्यक है वह है मन की प्रसन्नता। उसका कोई पाठ नहीं पड़ता है जबकि आज इसकी सबसे ज्यादा आवश्यकता है। उन्होंने कहा आज असमंजस की स्थिति है सुख चाहिए कि सुख देना चाहिए। किसान को फसल चाहिए तो उसे बीज बोना पड़ता है, उसी तरह से हमें सुख चाहिए तो सुख देने की प्रक्रिया करना ही पड़ेगी।

विधायक निर्मला भूरिया ने भी गुरुदेव के प्रति कृतज्ञता ज्ञापित की। इससे पहले भूरिया सहित ऑल इंडिया जैन माइनॉरिटी फेडरेशन के अध्यक्ष व भारत सरकार की पर्यावरण समिति के सदस्य ललित गांधी, राष्ट्रीय महामंत्री संदीप भंडारी, प्रदेश अध्यक्ष उमेश जैन, संयुक्त मंत्री सौरभ भंडारी ने दीप प्रज्ज्वलित कर धर्मसभा की शुरुआत की। कार्यक्रम में मंदिर मार्गीय अध्यक्ष सुरेंद्र भंडारी, कांतिलाल झालोका, स्थानकवासी संघ के अध्यक्ष नरेंद्र कटकानी, तेरापंथ सभा के अध्यक्ष झमकलाल भंडारी, त्रिस्तुति संघ समिति के अध्यक्ष प्रमोद मोदी, दिगंबर समाज के अध्यक्ष चिंतन मंडलोई, आदिनाथ पेड़ी के अध्यक्ष रखब भंडारी सहित बड़ी संख्या में समाजजन मौजूद थे। संचालन राजेंद्र कटकानी ने किया।

यात्रा निकालकर साधु-साध्वियों की अगवानी की गई।