--Advertisement--

मंदसौर रेप केस : आरोपियों की पैरवी करने को तैयार नहीं वकील, बच्ची के पिता बोले, पक गए हैं टांके

डॉक्टरों ने जांच के बाद बताया कि बच्ची की आंखों के आसपास खून जम गया था। इसलिए दिखने में परेशानी हो रही है।

Danik Bhaskar | Jul 12, 2018, 04:27 PM IST

मंदसौर. बच्ची से ज्यादती करने वाले आरोपियों पर शुक्रवार को चार्ज लगाया जाएगा, लेकिन यह प्रक्रिया कुछ कठिन नजर आ रही है। इसका कारण आरोपियों को अब तक वकील नहीं मिलना सामने आया है। पुलिस अधिकारी, लीगल हेड वकीलों से चर्चा कर उन्हें आरोपियों के पक्ष रखने को तैयार करने का प्रयास कर रहे हैं। उधर, एमवाय में भर्ती बच्ची के पिता का कहना है कि बच्ची चल फिर रही है। उसे जो टांके लगे थे वे पक गए हैं, वहीं उसे एक आंख से अब भी साफ नजर नहीं आ रहा है।

14 दिन बाद पुलिस ने चालान पेश किया था : 26 जून को स्कूल से अपहरण के बाद ज्यादती का शिकार हुई बच्ची के मामले में घटना के 14 दिन बाद मंगलवार को पुलिस ने चालान पेश किया था। यह द्वितीय अपर जिला एवं सत्र न्यायाधीश निशा गुप्ता के समक्ष पेश किया। न्यायाधीश ने आरोपियों पर चार्ज लगाने व वकील की उपस्थिति के लिए 13 जुलाई तय की है। इसके बाद आगे की प्रोसिडिंग होगी। क्योंकि, अब तक वकील तय नहीं हुआ। इसके चलते बच्ची को न्याय मिलने में देरी की आशंका नजर आ रही है।

पिता बोले- एक आंख से साफ नहीं दिख रहा : बच्ची की तबीयत में सुधार है। पिता का कहना है कि टांके पक रहे हैं। उसे एक आंख से अभी भी साफ नहीं दिखाई दे रहा। डॉक्टरों ने जांच के बाद बताया कि चार-पांच दिन में दिखने लगेगा। आंखों केे आसपास खून जम गया था। इससे परेशानी हो रही है। एमवायएच प्रशासन ने डिस्चार्ज को लेकर कोई जानकारी नहीं दी है।

इसलिए जरूरी आरोपियों के वकील : कानूनी जानकारों के अनुसार संविधान में सभी को पक्ष रखने का अधिकार होता है। एेसे हालात में यदि आरोपियों का कोई वकील पक्ष नहीं रखता तो उन्हें इस बात का लाभ मिल सकता है। संभव है वह सजा के बाद इसी आधार पर हाईकोर्ट में न्याय की गुहार लगाएं। मंदसौर डीएलओ योगेश बंसल ने कहा कि हम आरोपियों को वकील उपलब्ध कराने का पूरा प्रयास कर रहे हैं। पहले भी तीन वकीलों से चर्चा की है, लेकिन सभी ने लिखित में मना कर दिया। हमारी वकीलों से चर्चा चल रही है। हमारा प्रयास है कि शुक्रवार को चार्ज लगने पर वकील उपस्थित हो।