फैसला / सोमवार को छावनी अनाज मंडी में व्यापारी नहीं खरीदेंगे किसानों का माल



Merchants in the market will not buy the goods of farmers on Monday
X
Merchants in the market will not buy the goods of farmers on Monday

  • हम्मालों ने अमावस्या के दिन और रात 9 बजे बाद काम करने से किया था इनकार, व्यापारियों ने बदले की भावना से लिया ऐसा निर्णय 
  • किसानों का माल नहीं खरीदने पर व्यापारियों का लायसेंस सस्पेंड कर सकती है मंडी समिति

Dainik Bhaskar

Apr 06, 2019, 06:37 PM IST

इंदौर. व्यापारियों और हम्मालों के विवाद में सोमवार को किसानों को परेशानी का सामना करना पड़ेगा। असल में छावनी व्यापारी एसोसिएशन ने मनमानी करते हुए निर्णय लिया है कि अमावस्या के दिन और रात को नौ बजे के बाद हम्मालों ने काम करने से इनकार कर दिया था, जिसके कारण उनका माल वाहनों से अनलोड ही नहीं हो पाया और उन्हें नुकसान उठाना पड़ा। इसलिए वे अब सोमवार को किसानों का माल नहीं खरीदकर हम्मालों को काम नहीं देंगे।

 

छावनी मंडी में शनिवार को एक बार फिर हम्मालों और व्यापारियों के बीच का विवाद शुरू हो गया है। इस बार विवाद हम्मालों द्वारा काम ना करने को लेकर है। इंदौर अनाज तिलहन व्यापारी संघ के अध्यक्ष मनोज काला ने बताया कि गुरूवार को हम्मालों ने रात को नौ बजे बाद काम करने से इनकार कर दिया। इस पर जब हम्मालों से कहा गया कि अगर वे अभी काम नहीं करेंगे तो उनका माल तीन दिन शुक्रवार से रविवार तक गाड़ियों में ही भरा रहेगा और उसके कारण उनका नुकसान हो जाएगा। इसके बावजूद हम्मालों ने काम करने से इनकार कर दिया तो व्यापारी एसोसिएशन द्वारा यह निर्णय लिया गया है। ऐसे में अब सोमवार को छावनी मंडी में व्यापारियों द्वारा किसानों की उपज को नहीं खरीदा जाएगा। ऐसे में आसपास की मंडियों से आने वाले किसानों को काफी परेशानी होगी। 

 

अमावस्या और गुड़ी पड़वा पर कैसे कर सकते हैं काम : हम्माल संघ का कहना है कि गुरुवार को दिनभर धूप और गर्मी में काम किया। इसके बाद व्यापारी रात को 12 बजे तक काम करवाना चाहते थे। इस पर हम्मालों ने थक जाने का कहा और बोले कि अमावस्या और गुड़ी पड़वा पर परिवार के साथ समय बिताएंगे। इसके बाद अब रविवार को सुबह से काम करेंगे। इस पर व्यापारियाें ने इनकार कर दिया और कहा कि अब सोमवार को वे हम्मालों को काम नहीं देंगे।

 

मंडी समिति कर सकती है लायसेंस निरस्त : व्यापारियों को मंडी समिति की ओर से जोर व्यापार करने के लिए लायसेंस दिया जाता है उसमें एक शर्त यह रहती है कि उन्हें हर हाल में किसानों की उपज को खरीदना ही होगा। अगर वे किसानों की उपज को खरीदने से इनकार करते हैं तो मंडी समिति उनका लायसेंस भी निरस्त कर सकती है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना