मध्यप्रदेश / मंत्री वर्मा का विजयवर्गीय पर तंज; 'हम तो दुअन्नी छाप लोगों से भी बात कर लेते हैं'

मंत्री सज्जन वर्मा।-फाइल फोटो मंत्री सज्जन वर्मा।-फाइल फोटो
X
मंत्री सज्जन वर्मा।-फाइल फोटोमंत्री सज्जन वर्मा।-फाइल फोटो

  • दिल की बीमारी से जूझ रहे बच्चों के लिए आयोजित नि:शुल्क स्वास्थ्य परीक्षण शिविर में बोले वर्मा
  • पेट्रोल पर वेट बढ़ाने पर बोले- केंद्र सरकार से मदद मिलते ही कम कर दिया जाएगा टैक्स

दैनिक भास्कर

Sep 22, 2019, 03:58 PM IST

इंदौर. मध्यप्रदेश सरकार के पीडब्ल्यूडी मंत्री सज्जन सिंह वर्मा ने भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय के बयान पर तंज कसा है। क्ष करते हुए कहा कि लोग अपने पुराने दिन भूल जाते हैं। हम तो दुअन्नी छाप लोगों से भी बात कर लेते हैं और एक कौड़ी के आदमी की बात भी कर लेते हैं।

 

दिल की बीमारी से जूझ रहे बच्चों के लिए राज्य सरकार की ओर से रविवार को नि:शुल्क स्वास्थ्य परीक्षण शिविर का आयोजन किया गया। श्री सत्य साई विद्या विहार में आयोजित शिविर में इंदाैर, उज्जैन और भाेपाल संभाग के बच्चे इलाज की उम्मीद में पहुंचे। इसके उद्घाटन अवसर पर


दरअसल, उद्घाटन के बाद मीडिया से चर्चा के दौरान विजयवर्गीय के "चवन्नी छाप लोगों के बारे में बात नहीं करता' बयान का जिक्र आते ही वर्मा ने तल्ख तेवर दिखाए। पिछले दिनों विजयवर्गीय के पुत्र आकाश के "नायक नहीं खलनायक हूं' गाने पर डांस पर वर्मा ने कहा था कि अभी तक कैलाश विजयवर्गीय गाना गाते थे, अब उनके पुत्र आकाश डांस कर रहे हैं। मनोरंजन होता है, पिता-पुत्र नाच-गाने की मंडली बना लें।


इसके बाद कैलाश विजयवर्गीय ने फिर से हमला बोलते हुए कहा था कि चवन्नी छाप लोगों के बारे में बात नहीं करता। जब मीडिया ने उनसे चवन्नी छाप वाले बयान पर बात की तो पीडब्ल्यूडी मंत्री बोले कि हमारी तो आदत है कि हम दुअन्नी छाप लोगों के बारे में भी बात करते हैं। ऐसे लोग गलती करते है। जब वे टूटे स्कूटर पर चलते थे, हम लाेग मदद करते थे। ऐसे लोगों पर हमारा कटाक्ष भी है कि ऐसे लोगों के बारे में बोलना पड़ता है। एक कौड़ी के आदमी के बारे में भी बात करते हैं।


सवाल- पेट्रोल पर वेट टैक्स बढ़ा दिया है। जनता परेशान हो रही है ?
जवाब- मप्र में अतिवृष्टि हुई है। आवश्यकता से अधिक बारिश हुई है। किसानों की फसलें बर्बाद हो चुकी है। हमारी सरकार कई बार केंद्र सरकार से याचना कर चुकी हैं कि मदद करें। राज्य सरकार ने धनराशि की मांग की ताकि हम किसानों को मजबूती से खड़ा कर सके लेकिन उन्होंने मना कर दिया है। उलटा हमारे बजट में कटौती कर दी है। हमारे पास किसानों को बचाने के लिए कोई रास्ता नहीं है। इसलिए टैक्स बढ़ाया गया है। केंद्र सरकार से मदद मिलते ही वेट टैक्स कम कर दिया जाएगा।


सवाल- प्रदेश में सड़कों की स्थिति बहुत खराब है ?
जवाब- मप्र में सड़कें नेशनल हाईवे है और आम जनता नेशनल हाईवे को हमारा समझती है। जबकि वह केंद्र सरकार के अधीन आती है। उसकी दुर्दशा हो रही है लेकिन हमने अपनी कार्ययोजना बना ली है। दो दिन काम प्रारंभ हो जाएगा। एक महीने के भीतर हम सभी सड़कों का दुरूस्तीकरण कर लेंगे। जनता त्वरित लाभ चाहती है लेकिन इतना आसान नहीं होता। एक महीने का समय कम समय होता है।

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना