फार्मासिस्ट के लिए जरूरी हो गया है अब रिफ्रेशर कोर्स

Indore News - एम्स के डॉक्टर देंगे नई दवाओं की जानकारी एम्स के डॉक्टरों सहित देश के प्रसिद्ध फार्मेसी कॉलेजों के प्रोफेसर...

Bhaskar News Network

Jun 23, 2019, 07:50 AM IST
Indore News - mp news for the pharmacist now the refresher course
एम्स के डॉक्टर देंगे नई दवाओं की जानकारी

एम्स के डॉक्टरों सहित देश के प्रसिद्ध फार्मेसी कॉलेजों के प्रोफेसर प्रदेश के 55 हजार फार्मासिस्टों को नई दवाअों के बारे में जानकारी देंगे। फार्मेसी काउंसिल ने इसके लिए रिफ्रेशर कोर्स शुरू किया है।

डीबी स्टार
मरीजों की स्वास्थ्य सुरक्षा के मद्देनजर फार्मेसी काउंसिल ने सभी फार्मासिस्टों के लिए रिफ्रेशर कोर्स करना अनिवार्य कर दिया है। काउंसिल में रजिस्टर्ड प्रदेश के 55 हजार फार्मासिस्ट को नई दवाओं और उनके प्रभावों के बारे में जानकारी नहीं है। इनमें वे फार्मासिस्ट भी शामिल हैं, जिन्हें पुराने नियमों के आधार पर बीएससी या डिप्लोमा कोर्स करने के बाद मेडिकल खोलने की अनुमति दी गई थी। फार्मासिस्ट को एमपी ऑनलाइन के माध्यम से रिफ्रेशर कोर्स के लिए पंजीयन करना होगा। 55 हजार फार्मासिस्टों का एक साथ यह कोर्स कराना संभव नहीं है, इसलिए 200-200 लोगों के बैच बनाए जा रहे हैं। हर बैच को निर्धारित तारीख पर एक दिन के लिए भोपाल बुलाया जाएगा। वहां सुबह 10 से शाम पांच बजे तक एम्स और फार्मेसी कॉलेजों को प्रोफेसर पढ़ाएंगे। कोर्स करने वाले फार्मासिस्टों को सर्टिफिकेट दिया जाएगा।

फर्स्ट लाइन ट्रीटमेंट पर जोर

शुरुआती बैच में शामिल फार्मासिस्ट कपिल तिवारी ने बताया कि एम्स के डॉक्टरों ने कई महत्वपूर्ण बातों की जानकारी दी, साथ ही फर्स्ट लाइन ट्रीटमेंट पर जोर देने के लिए कहा। क्लास करीब सात घंटे तक चली। इस दौरान बताया गया कि कई डॉक्टर सर्दी, खांसी और वायरल बुखार जैसी छोटी बीमारियों में अक्सर दवा के साथ एंटीबायोटिक भी लिख देते हैं, जबकि इन बीमारियों में एंटीबायोटिक देना जरूरी नहीं है। छोटी-छोटी बीमारियों के इलाज में एंटीबायोटिक देने से मरीज का शरीर एंटीबायोटिक रजिस्टेंट हो जाता है। कुछ ऐसी दवाइयों के बारे में भी बताया गया है, जिन्हें डॉक्टर के प्रिस्क्रिप्शन पर भी नहीं देना है। फार्मासिस्ट रामकरन पाटीदार और रोशन बारवाल ने बताया कि मरीज को हैबिट फॉर्मिंग ड्रग देने से यूरिन का रंग लाल हो जाता है। इससे घबराने की जरूरत नहीं है। साथ ही मरीजों को दवा लेने के नियम और सावधानी के बारे में जानकारी देना है। जैसे निमोस्लाइड दवा लेने से मरीज के शरीर में इंटरनल ब्लीडिंग होती है। यह दवा डॉक्टर के पर्चे पर भी नहीं देना है।

संभाग स्तर पर शुरू करेंगे कोर्स

प्रदेश में स्वास्थ्य सुविधाएं बेहतर करने की दिशा में हमने फार्मासिस्टों के लिए रिफ्रेशर कोर्स शुरू किया है। भोपाल में दो-दो सौ लोगों को बैच बनाए हैं। इस कोर्स के लिए एम्स के डॉक्टरों के साथ फार्मेसी कॉलेजों को प्रोफेसरों को बुलाया जा रहा है। जल्द ही संभाग स्तर पर यह कोर्स कराया जाएगा।

सुरभी तिवारी, रजिस्ट्रार फार्मेसी काउंसिल

X
Indore News - mp news for the pharmacist now the refresher course
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना