यूजी के आधार पर एमबीए में प्रवेश चाहिए तो 19 से 27 तक रजिस्ट्रेशन और चॉइस फिलिंग

Indore News - मैनेजमेंट कॉलेजों में कोर एमबीए (फुल टाइम) में एडमिशन के लिए पहली सूची जारी हो गई है। 21 जून से 9 जुलाई तक रजिस्ट्रशन...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:45 AM IST
Indore News - mp news if you want admission in mba based on ug registration from 19 to 27 and choice filling
मैनेजमेंट कॉलेजों में कोर एमबीए (फुल टाइम) में एडमिशन के लिए पहली सूची जारी हो गई है। 21 जून से 9 जुलाई तक रजिस्ट्रशन और चॉइस फिलिंग की प्रक्रिया पूरी हुई थी। सीमैट की मेरिट आधार पर जारी हुई सूची के बाद इंदौर के कॉलेजों की औसत 40 फीसदी सीटें भर जाएंगी। अब छात्रों को अलॉट हुए कॉलेज में फीस और दस्तावेज जमा करना होंगे। इधर, दूसरे दौर में सीमैट के साथ ही छात्र ग्रेजुएशन के (बीकॉम, बीबीए, बीएससी सहित अन्य वोकेशनल कोर्सेस) आधार पर भी रजिस्ट्रेशन करा सकेंगे। इन छात्रों के लिए लिंक 19 जुलाई से खुलेगी। 27 जुलाई तक छात्र सीमैट-ग्रेजुएशन दोनों आधार पर रजिस्ट्रेशन और चॉइस फिलिंग कर सकेंगे। पहले दौर में सिर्फ सीमैट देने वालों को ही मौका मिला था।

52

कॉलेजों में हैं छह हजार सात सौ सीटें

वैष्णव, विमेन पॉलिटेक्निक व एसजीएसआईटीएस कॉलेज में होगा दस्तावेजों का सत्यापन

एमबीए में एडमिशन के लिए इंदौर के 52 कॉलेजों में 6700 सीटें हैं। छात्रों को 19 जुलाई से ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के साथ ही वैष्णव पॉलिटेक्निक, विमेन पॉलिटेक्निक और एसजीएसआईटीएस में पहुंचकर दस्तावेज सत्यापन कराना होगा। इसके बाद 29 जुलाई को कॉमन मेरिट सूची आएगी, जबकि 31 जुलाई को एडमिशन की दूसरी सूची जारी होगी। इसी दिन से 5 अगस्त तक छात्र फीस जमा कर सकेंगे।

29

जुलाई को आएगी कॉमन मेरिट लिस्ट

40

फीसदी सीटें इंदौर के कॉलेज की भर जाएंगी

13 कॉलेजों में एक भी सीट नहीं भरी पहले दौर में, कई कॉलेजों में 10 से 30% तक ही

एमबीए में एडमिशन के लिए इंदौर के कई कॉलेजों की खासी डिमांड है, लेकिन सीमैट आधार पर प्रवेश प्रक्रिया में टॉप 20 कॉलेजों की ही डिमांड है। यही वजह है कि औसत 40 फीसदी सीटें अलॉट हुई हैं, लेकिन 13 कॉलेजों की एक भी सीट अलॉट नहीं की गई हैं। हालांकि ग्रेजुएशन आधार पर होने वाले दूसरे और तीसरे राउंड में सारे कॉलेजों की 90 से 100 फीसदी तक सीटें भरने की संभावना है। पहले दौर में देवी अहिल्या यूनिवर्सिटी के आईएमएस और आईआईपीएस के साथ ही जीएसीसी, एसजीएसआईटीएस की खासी डिमांड रही। कॉलेज संचालक अवधेश दवे का कहना है कि पहले दौर में 40 फीसदी तक सीटें अलॉट हुई हैं। दूसरे दौर में संख्या बढ़ेंगी।

अस्पतालों में मैनेजमेंट की नियुक्ति के विज्ञापन के बाद एमबीए एचए की डिमांड बढ़ी

शहर के एमजीएम मेडिकल कॉलेज सहित भोपाल, जबलपुर के अस्पतालों में उप रजिस्ट्रार, अस्पताल प्रबंधक, सहायक प्रबंधक जैसे पदों के लिए मास्टर ऑफ हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन और मास्टर ऑफ हॉस्पिटल मैनेजमेंट कोर्स की अनिवार्यता का बड़ा असर देखने को मिलेगा, क्योंकि इंदौर में डीएवीवी के आईएमएस और एक अन्य निजी कॉलेज में ही एमबीए एचए (हॉस्पिटल एडमिनिस्ट्रेशन) कोर्स है। लगातार नए पदों पर भर्ती के लिए इस कोर्स की अनिवार्यता के चलते कोर्स में एडमिशन के लिए प्रतिस्पर्धा कई गुना बढ़ सकती है। विषय की विशेषज्ञ कविता कासलीवाल का कहना है कि पहली बार एमबीए एचए के लिए डिमांड कई गुना बढ़ गई है। काउंसलिंग से पहले सीटों से ज्यादा आवेदन आ गए हैं।

X
Indore News - mp news if you want admission in mba based on ug registration from 19 to 27 and choice filling
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना