एमजीएम मेडिकल कॉलेज में इंटर्नशिप; सरकारी कॉलेज के छात्रों को देना होगा 1 लाख रु. शुल्क

Indore News - एमजीएम मेडिकल कॉलेज में इंटर्नशिप के लिए अब सरकारी मेडिकल कॉलेज के छात्रों को एक लाख रुपए शुल्क देना होगा। निजी...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:50 AM IST
Indore News - mp news internship at mgm medical college government college students will have to pay rs 1 lakh the duty
एमजीएम मेडिकल कॉलेज में इंटर्नशिप के लिए अब सरकारी मेडिकल कॉलेज के छात्रों को एक लाख रुपए शुल्क देना होगा। निजी मेडिकल कॉलेज के छात्र पहले की तरह दो लाख रुपए शुल्क देंगे। मनोविज्ञान व क्लिनिकल साइकोलॉजी विषय के छात्र एक माह की इंटर्नशिप कर पाएंगे। गुरुवार को मेडिकल कॉलेज की एक्जीक्यूटिव काउंसिल की बैठक में यह निर्णय पारित किया गया। कॉलेज और उससे संबद्ध अस्पतालों का सालाना बजट प्रस्तुत किया गया। संभागायुक्त आकाश त्रिपाठी की अध्यक्षता में बैठक में एमवायएच, मनोरमा राजे क्षय अस्पताल, चाचा नेहरू बाल अस्पताल, कैंसर अस्पताल और मानसिक चिकित्सालय में फर्नीचर, निर्माण, मरम्मत, पेंशनर्स को दवा आदि के बजट को मंजूरी दी गई। पैरामेडिकल गर्ल्स होस्टल, हजार सीट की क्षमता के ऑडिटोरियम, वायरोलॉजी लैब, बर्न यूनिट व नर्सिंग कॉलेज के उन्नयन कार्य की समीक्षा की गई। सारे काम एक साल के भीतर पूरे करने के लिए कहा गया है।

कैंसर और मानसिक अस्पताल में रंगाई-पुताई होगी, एमवायएच का ड्रेनेज सिस्टम सुधारेंगे

कैंसर और मानसिक अस्पताल में रंगाई-पुताई का फैसला लिया गया। एमवायएच के ड्रेनेज सिस्टम, भोजन, दवा, फर्नीचर सहित अन्य संसाधनों के लिए बजट मंजूर किया गया। 500 किलोवॉट के दो जनरेटर खरीदने के निर्देश दिए गए। बैठक के बाद त्रिपाठी एमवायएच पहुंचे, जहां नए इम्यूनो हेमेटोलॉजी एंड ब्लड ट्रांसफ्यूजन विभाग का उद्घाटन किया। यहां पांच नई पीजी सीटों को मंजूरी मिलने वाली है। इसके लिए कॉलेज की ओर से प्रस्ताव एमसीआई को भेज दिया है। यह अलग विभाग बनने के बाद छात्रों को ब्लड बैंक, कंपोनेंट, एफरेसेस, स्टेमसेल थैरेपी के बारे में विस्तृत रूप से बताया जाएगा। दूसरी व तीसरी मंजिल पर संभागायुक्त ने एनजीओ कर्मचारी से अब तक किए गए काम का ब्योरा मांगा।

अस्पतालों की स्वशासी समिति का किया जाएगा संविलियन

बैठक में एक महत्वपूर्ण निर्णय यह लिया कि कॉलेज के अधीन समस्त अस्पतालों की स्वशासी समिति को मेडिकल कॉलेज की स्वशासी समिति में संविलियन कर दिया है। व्यवस्था में एकरूपता लाने के लिए यह फैसला लिया है। प्रदेश के सभी मेडिकल कॉलेजों में इसे लागू कर दिया था। सिर्फ इंदौर में ही हर अस्पताल की अलग-अलग स्वशासी समिति संचालित की जा रही थी। डीन डॉ. ज्योति बिंदल ने बताया वर्तमान में कुछ जांचें ऐसी हैं, जिनकी सुविधा अस्पतालों में नहीं है। इसके लिए निविदाएं बुलवाई जाएंगी। कॉलेज स्तर पर इन जांचों के लिए अनुबंधित किया जाएगा। यह एमवायएच, कैंसर हॉस्पिटल और चाचा नेहरू अस्पताल सहित मेडिकल कॉलेज की सभी संस्थाओं के लिए होगा।

मेडिकल छात्रों के लिए फ्री लॉण्ड्री

होस्टल में रहने वाले छात्र-छात्राओं के लिए पीपीपी मॉडल पर ऑटोमैटिक मैकेनाइज्ड लॉण्ड्री की सुविधा शुरू की जा रही है। इसके लिए छात्रों को कोई शुल्क नहीं देना होगा। कॉलेज प्रशासन प्रति छात्र इसका भुगतान करेगा। डॉ. बिंदल ने बताया बिजली गुल होने की स्थिति से निपटने के लिए जनरेटर सहित अन्य के मेंटेनेंस के लिए भी निविदा बुलवाने का फैसला लिया है।

X
Indore News - mp news internship at mgm medical college government college students will have to pay rs 1 lakh the duty
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना