दो रुपए का ऐलान कर सांची ने 10 रुपए तक बढ़ा दिए दूध के भाव, पाउडर भी किया महंगा

Indore News - डेयरी उद्योग में चल रही उथलपुथल की अनदेखी और किसानों के हितों को नजरअंदाज करने का नतीजा दूध और डेयरी उत्पादों के...

Bhaskar News Network

Jun 14, 2019, 07:50 AM IST
Indore News - mp news sanchi increased the price of milk by 10 rupees and even powder made expensive by declaring two rupees
डेयरी उद्योग में चल रही उथलपुथल की अनदेखी और किसानों के हितों को नजरअंदाज करने का नतीजा दूध और डेयरी उत्पादों के भावों में बढ़ोतरी के रूप में सामने आया है। दुग्ध संघ ने हाल ही में घोषणा कर अपने प्रीमियम ब्रांड सांची गोल्ड के भाव 2 रुपए लीटर बढ़ाए थे, लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि उसके साथ ही अन्य सभी प्रकार के दूध और डेयरी उत्पादों की कीमतों में भी उसने 10 से लेकर 50 % तक की वृद्धि कर दी है। इन दिनों सबसे ज्यादा बिकने वाले गाय के दूध के भाव भी सांची ने 22 प्रतिशत तक बढ़ाए हैं। दूध के दामों में वृद्धि की सबसे ज्यादा मार गरीबों का दूध कहे जाने वाले सांची लाइट ब्रांड पर पड़ी है। लगभग 6 महीने पहले 1 लीटर सांची लाइट ₹20 रुपए में मिल रहा था। अब इसके भाव बढ़ाकर ₹30 रुपए लीटर कर दिए हैं। डबल टोंड मिल्क के भाव में भी ₹6 रुपए लीटर की वृद्धि की गई है। सांची की तर्ज पर निजी डेयरी संचालकों ने भी अपने भावों में वृद्धि कर दी है। इधर, दुग्ध संघ ने अपने दूध से जुड़े अन्य उत्पादों के दाम भी बढ़ाए हैं। गाय के दूध की कीमत अब 36 से बढ़कर 44 रुपए लीटर हो गई है।

सब्सिडी के वादे से पीछे हटने का नतीजा

कांग्रेस के वचन पत्र में दुग्ध उत्पादकों को ₹5 रुपए प्रति लीटर सब्सिडी देने का वादा किया गया था। इससे पहले कि घोषणा पर अमल होता, सरकार ने अपना निर्णय वापस ले लिया। गौरतलब है कि आंध्र, केरल, गुजरात जैसे कई राज्यों ने मंदी से निपटने के लिए काफी पहले ही दुग्ध उत्पादकों को 2 से ₹5 रुपए की सब्सिडी देना शुरू कर दी थी। मध्यप्रदेश में पहले भाजपा सरकार और अब मौजूदा कांग्रेस सरकार ने डेयरी उद्योग में आ रही दिक्कतों को समझने में देरी की, जिसकी वजह से भाव बढ़ने लगे। अगर समय रहते किसानों और उत्पादकों को सरकारी राहत मिल जाती तो यह नौबत नहीं आती।

सांची लाइट जैसा ब्रांड 20 से बढ़ाकर 30 रुपए लीटर किया

दूध ब्रांड पूर्व कीमत अब

सांची स्मार्ट-200एमएल 6 8

सांची लाइट 500 एमएल 10 15

गाय का दूध 500 एमएल 18 22

सांची शक्ति 500 एमएल 22 23

चाय स्पेशल 1 लीटर 35 38

सांची चाह 1 लीटर 39 44

ताजा टोंड 500 एमएल 19 20

220 वाला मक्खन 310 रु. किलो

ग्लोबल मंदी का असर इस कदर था कि 2018 खत्म होते-होते दूध पाउडर की कीमतें ₹150 रुपए किलो तो मक्खन के भाव ₹220 रुपए किलो से नीचे आ गए थे। इसके उलट पिछले दिनों इनके भाव में बेतहाशा वृद्धि हुई है। आज दूध पाउडर जहां पुरानी कीमत से 120 रुपए ज्यादा यानी 270 रुपए किलो बिक रहा है तो मक्खन की कीमतें भी पहले के मुकाबले 90 रुपए बढ़कर 310 रुपए प्रति किलो के स्तर को छू रही है। जल्द ही इसके 350 रुपए किलो पार करने का अनुमान है।

अफसरों का तर्क : हमें दोनों का हित देखना था, इसलिए भाव बढ़े

सांची दुग्ध संघ के महाप्रबंधक एएन द्विवेदी के मुताबिक, हमें उत्पादक और उपभोक्ता दोनों का हित देखना है। थोक में दूध खरीदी के भाव नीचे गिर जाने से डेयरी उद्योग से जुड़े किसानों को नुकसान हो रहा था, इसलिए हमने दूध खरीदी के भाव में भी 80 रुपए किलो फैट की वृद्धि की है।

घाटा बढ़ने से उत्पादन से दूर हो रहे किसान

दरअसल, 2016-17 में शुरू हुई डेयरी उद्योग में वैश्विक मंदी का असर प्रदेश पर भी पड़ा। सांची, उत्पादकों से दूध खरीदी के भाव को गिराते हुए ₹620 रुपए किलो फैट से ₹500 रुपए किलो फैट तक ले आया। नतीजा यह रहा कि डेयरी उद्योग से जुड़े लोग इस धंधे से दूर होते गए। सामान्यत: हर साल जुलाई-अगस्त के दौरान उत्पादक नए दुधारू पशु खरीदते हैं। पिछले 2 सालों से लगातार गिरावट के चलते कई उत्पादकों ने नए पशु खरीदने के बजाय उन्हें बेचने में भलाई समझी। इसका परिणाम यह हुआ कि दूध की उपलब्धता में लगातार गिरावट आती गई। अब इसका असर बढ़ी हुई कीमतों के रूप में देखने को मिल रहा है।

X
Indore News - mp news sanchi increased the price of milk by 10 rupees and even powder made expensive by declaring two rupees
COMMENT