हल्दी पावडर, जीरा, तरबूज मगज में तेजी

Indore News - इंदौर | खोपरा गोला, हल्दी पावडर, जीरा एवं तरबूज मगज में तेजी रही। जायफल-जावित्री में शनिवार को नए सिरे से तेजी दर्ज...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 07:50 AM IST
Indore News - mp news turmeric powder cumin melon magaz speed
इंदौर | खोपरा गोला, हल्दी पावडर, जीरा एवं तरबूज मगज में तेजी रही। जायफल-जावित्री में शनिवार को नए सिरे से तेजी दर्ज की गई। टिपटूर में खोपरा गोला को पिछला टेंडर 141.26 रुपए में गया था और आवक 6363 बोरी की हुई थी। शनिवार को टेंडर 4 रुपए कम होकर 137 रुपए में गया और आवक 6100 बोरी की रही। टिपटूर में 4 रुपए कम हुए है और इंदौर में 2 रुपए। मांग भी ठंड़ी रही। मांग के अभाव में हल्दी पावडर के भाव भी कम किए गए हैं। जीरे के भावों में 2 से 3 रुपए की तेजी बताई गई। तरबूज मगज पुन: सुधर गया। बादाम की आवक दिल्ली से होना चाहिए जबकि इंदौर में केमिकल वॉश होकर नागपुर से आ रही है। जयपुर पुराना सेंटर है ही। खोपरा बूरा व्हील 3300 रुपए बोला जाने लगा। इस माह कैलिफोर्निया से 550 कंटेनर बादाम का आयात होगा।

उत्पादन आगामी वर्षा पर निर्भर

पिछले दिनों तेलंगाना के उत्पादक क्षेत्रों में वर्षा जारी होने से हल्दी की बोवनी का कार्य तेज गति से चल रहा था, लेकिन हल्दी का उत्पादन आगामी महीनों में होने वाली वर्षा पर निर्भर करेगा, क्योंकि मानसून विभाग ने इन इलाकों में वर्षा की कमी का संकेत दिया है। इसका सर्वाधिक प्रभाव महाराष्ट्र के हल्दी उत्पादक क्षेत्रों पर भी पड़ सकता है। हल्दी वायदों में मंदी तो रुकती नजर आ रही है, किंतु तेजी की चाल नहीं बन रही है। इससे हल्दी पावडर बनाने वाली फैक्टरियां एवं थोक व्यापारी परेशानी महसूस कर रहे हैं। पिछले एक माह से हल्दी का कारोबार ठंडा पड़ गया है। हल्दी के कारोबार में अनेक कलाकार व्यापारियों ने प्रवेश कर लिया है, जिससे माल की क्वालिटी पर विश्वास डगमगाने लगा है। व्यापारियों को ऐसी आशा है कि अगस्त माह में ग्राहकी निकल सकती है। उसके बाद तेजी की चाल पकड़ सकती है। वर्तमान में सभी उत्पादक राज्यों में हल्की क्वालिटी का माल आ रहा है। इसके अलावा निजामाबाद, मेटापल्ली, कोरुटला, जगित्याल, गोलापल्ली, आरपूर और आसपास के सेंटरों पर 5-6 लाख बोरी का स्टॉक रहने का अनुमान लगाया जा रहा है।

सियागंज किराना बाजार में शकर 3320 से 3350 गुड़ लड्‌डू 3500 से 3525 कटोरा 3450 से 3500 भेली 3000 से 3025 हल्दी काढ़ी 9800 से 11200 लाल गाय 130 पावडर-501 1501 सुपर क्राउन 761 मयूर 1375 खोपरा गोला 162 से 182 खोपरा बूरा व्हील 3500 सनगोल्ड 2075 ताज 2475 साबूदाना 6550 से 6650 मीडियम 6850 से 6900 बेस्ट 6950 से 7200 ग्लास 7900 से 8200 वरलक्ष्मी 7700 1 किलो पैकिंग में 8400 सोल्जर 7200 सच्चामोती रायलर| 7950 1 किलो 8300 सच्चासाबू 8100 1 किलो में 8600 कालीमिर्च गारवल 340 से 343 एटम 345 से 348 मटरदाना 390 से 400 जीरा राजस्थान 187 से 190 ऊंझा हल्का 193 से 198 मध्यम 201 से 208 बेस्ट 215 से 220 सौंफ मोटी 90 से 95 मीडियम 107 से 122 बेस्ट 138 से 165 बारीक 160 से 175 नारियल मद्रास नया पानी 120 भरती 1271 से 1291 160 भरती 1350 से 1400 200 भरती 1500 से 1550 250 भरती 1500 से 1550 लौंग चालू 525 से 550 बेस्ट 575 से 600 दालचीनी 240 से 250 बेस्ट 265 जायफल 510 से 550 बेस्ट 660 से 680 जावत्री 1950 से 2000 बड़ी इलायची 515 से 575 बेस्ट 650 से 800 पत्थर फूल 360 से 425 बेस्ट 440 बाद्यान फूल 425 से 465 शाहजीरा 340 से 360 ग्रीन 550 तेजपान 80 से 82 तरबूज मगज 170 से 173 नागकेसर 640 से 660 सौंठ 225 से 280 खसखस चालू 360 से 375 बेस्ट 475 से 525 एक्स्ट्रा बेस्ट 625 से 675 धौली मूसली 700 से 725 वनदेवी दाना 751- 2600 वनदेवी पाउच में 2640 121 न. दाना 2400 पाउच 2440 111 न. डिब्बी 2200 पाउच 2240 पीला पावडर 750 सिंदूर 6200 पूजा बादाम 70 से 75 बेस्ट 140 अरीठा 60 से 65 सिंघाड़ा 100 से 105 बड़ा 135 से 145 मोरधन अल्पाहार 8900 हरी इलायची 2925 से 3175 मीडियम बोल्ड 3275 से 3375 बोल्ड 3425 से 3550 एक्स्ट्रा बोल्ड 3650 से 3700 काजू-240 750 से 760 काजू डब्ल्यू 320- 640 से 645 काजू 300- 620 से 625 एसएस डब्ल्यू 610 से 615 काजू जेएच 625 से 635 टुकड़ी 590 से 615 बादाम मगज 650 से 655 नकद 660 से 665 टॉच 550 से 570 किशमिश कंधारी 320 से 375 बेस्ट 400 से 450 इंडियन 140 से 165 बेस्ट 185 से 215 चारोली 700 से 725 बेस्ट 750 से 800 मुनक्का 300 से 450 बेस्ट 525 से 600 अंजीर 750 से 950 बेस्ट 1200 से 1350 मखाना 625 से 725 बेस्ट 775 से 850 केसर 80 से 110 ऊपर में 123 से 126 मैदा कट्‌टे में 1190 से 1250 रवा कट्‌टे में 1230 से 1280 आटा कट्‌टा 1150 से 1250 बेसन 2800 से 3000 पोहा 3500 से 3700 सच्चामोती पोहा 4050 रुपए।

अजवायन बोवनी की तैयारी

जामनगर। पिछले दिनों मप्र, गुजरात, आंध्र एवं तेलंगाना जैसे उत्पादक केंद्रों पर मानसून की वर्षा शुरू हो जाने से किसानों ने अजवायन की बोवनी की तैयारी शुरू कर दी है। उत्पादक मंडियों में कमजोर आवक के बाद भावों में स्थिरता बनी हुई है। अजवायन का उत्पादन आगामी माह में होने वाली वर्षा पर निर्भर करेगा। कई राज्यों में अभी भी एक-दो वर्षा की जरूरत है, क्योंकि जमीन के अंदर नमी समाप्त हो गई है।

X
Indore News - mp news turmeric powder cumin melon magaz speed
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना