• Hindi News
  • Mp
  • Indore
  • News
  • Indore News mp news two big connections of narmada in gulabbagh which are being sold by tankers in the city

गुलाबबाग में नर्मदा के दो बड़े कनेक्शन जिनसे शहर में टैंकरों से बेचा जा रहा पानी

Indore News - अविनाश रावत/धर्मेंद्र चौहान

May 18, 2019, 08:06 AM IST
अविनाश रावत/धर्मेंद्र चौहान
रिंग रोड से लगी गुलाबबाग कॉलोनी में नर्मदा का पानी अवैध तरीके से बेचने का मामला सामने आया है। यहां निर्माणाधीन मकान में शालिनी सिंह के नाम से नर्मदा के दो कनेक्शन लिए गए हैं। पानी इकट्ठा करने के लिए बड़े साइज के दोनों कनेक्शन अंडरग्राउंड टैंक में लिए गए हैं। दोनों कनेक्शनों में 24 घंटे पानी आता है। इसी टैंक से पनडुब्बी मोटर लगाकर बड़े-बड़े टैंकरों में पानी भरकर बेचा जाता है।

नर्मदा प्रोजेक्ट के कार्यपालन यंत्री संजीव श्रीवास्तव ने डीबी स्टार की टीम के साथ यहां का मौका मुआयना किया। उन्होंने देखा कि दोनों कनेक्शनों से लगातार पानी आ रहा है। यही पानी टैंकर में भरकर बेचा जा रहा है। पड़ताल में यह भी सामने आया है कि यहां से नर्मदा का पानी बेचने का गोरखधंधा शांति टैंकर के नाम से किया जा रहा है। इसके मालिक राजेश सिंह चौहान हैं। यह पानी शहर के बड़े-बड़े होटल और रेस्टोरेंट के लिए ढाई से तीन हजार रुपए में बेचा जाता है। मौके पर कई टैंकर अपनी बारी के इंतजार में थे।

इस टैंक के अंदर हैं दो कनेक्शन

तीन से चार घंटे में भरता है एक टैंकर

गुलाबबाग स्थित इस मकान के अंडरग्राउंड टैंक में नर्मदा का पानी एकत्रित होने में समय लगता है। नर्मदा का पानी टैंक में भरने तक टैंकर और ड्राइवर यहां इंतजार करते रहते हैं। टैंकर ड्राइवर विशाल सिंह के मुताबिक एक टैंकर भरने जितना पानी इकट्ठा होते ही पनडुब्बी मोटर शुरू कर देते हैं। एक टैंकर भरने के बाद दूसरा टैंकर भरने के लिए लगा दिया जाता है।

यहां बड़े-बड़े टैंकर आते हैं, पानी भरते हैं और चले जाते हैं

कनेक्शन से लगातार पानी आना आश्चर्य की बात है

 गुलाबबाग कॉलोनी में शालिनी सिंह के नाम से नर्मदा के कनेक्शन दिए गए हैं। हमने यहां का मौका मुआयना किया। इसमें सामने आया है कि दोनों कनेक्शनों से लगातार पानी आ रहा था। यह हमारे लिए भी आश्चर्य का विषय है। शहर में कहीं भी 24 घंटे पानी सप्लाई नहीं िकया जाता है। यह दोनों कनेक्शन नर्मदा के किस लाइन से दिए गए हैं इसकी जांच होगी। नर्मदा का पानी बेचना गलत है। हम मकान मालिक को नोटिस देंगे। जांच रिपोर्ट आने के बाद मकान मालिक से कनेक्शन की तारीख से लेकर अब तक कमर्शियल रेट से बिल दिया जाएगा।

संजीव श्रीवास्तव, कार्यपालन यंत्री नर्मदा प्रोजेक्ट

अधिकारी से बड़ा गवाह और कौन होगा?

नर्मदा प्रोजेक्ट के कार्यपालन यंत्री संजीव श्रीवास्तव स्वयं इस पूरे मामले के गवाह हैं। उन्होंने भी देखा कि टैंक के नीचे नर्मदा के दो कनेक्शन लिए गए हैं, जो काफी बड़े हैं। श्रीवास्तव ने भी माना कि अभी तो यह सबकुछ ऊपर से दिख रहा है। हो सकता है कि जब जांच हो तब टैंक के नीचे कुछ और दृश्य भी नजर आए। पानी के बड़े-बड़े टैंकरों का आना, पानी भरकर ले जाना यह सबकुछ कब से चल रहा था यह जांच का विषय है। इस पूरे मामले में जांच के महत्वपूर्ण बिंदु यह हो सकते हैं।

1. नर्मदा लाइन के कनेक्शन कब से लिए गए।

2. कनेक्शन में निरंतर पानी कैसे आ रहा है।

3. जब से कनेक्शन लिया तब से अब तक कितना पानी सप्लाई हुआ।

4. लिए गए पानी के हिसाब से विभाग जुर्माना लगा सकता है।

5. नर्मदा लाइन से पानी लेकर बेच नहीं सकते हैं यह अपराध है।

6. अधिकारी की शिकायत पर केस दर्ज किया जा सकता है।

7. संजीव श्रीवास्तव ने खुद मौके पर टैंकर भरते हुए देखे हैं। उन्हें विभागीय अधिकारी और कलेक्टर को रिपोर्ट सौंपना चाहिए।

8. मामला चूंकि प्रकृति प्रदत्त तत्व का है इसलिए कोई भी समाजसेवी चाहे तो इस मामले को न्यायालय के संज्ञान में ला सकता है।

(नोट- डीबी स्टार ने नर्मदा का पानी टैंकरों में भरकर बेचने के मामले में शांति टैंकर सर्विस के राजेश चौहान से बात करने की कोशिश की। उनके नंबर 9303232833 पर कई बार फोन लगाया, लेकिन उन्होंने कोई उत्तर नहीं दिया।)

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना