• Hindi News
  • Mp
  • Indore
  • Mumbai artists perform Shiva praises by dancing, show traditional Kathak at the All India Kalidas ceremony with Jayanti

समारोह / अखिल भारतीय कालिदास समारोह में जयंती माला के साथ मुंबई के कलाकारों ने नृत्य से की शिव स्तुति, दिखाया पारंपरिक कथक



जयंती माला के साथ कथक समूह नृत्य की प्रस्तुति देते मुंबई के कलाकार जयंती माला के साथ कथक समूह नृत्य की प्रस्तुति देते मुंबई के कलाकार
एकल कथक नृत्य करतीं उज्जैन की पलक कौर एकल कथक नृत्य करतीं उज्जैन की पलक कौर
Mumbai artists perform Shiva praises by dancing, show traditional Kathak at the All India Kalidas ceremony with Jayanti
X
जयंती माला के साथ कथक समूह नृत्य की प्रस्तुति देते मुंबई के कलाकारजयंती माला के साथ कथक समूह नृत्य की प्रस्तुति देते मुंबई के कलाकार
एकल कथक नृत्य करतीं उज्जैन की पलक कौरएकल कथक नृत्य करतीं उज्जैन की पलक कौर
Mumbai artists perform Shiva praises by dancing, show traditional Kathak at the All India Kalidas ceremony with Jayanti

  • मोहम्मद अमान खान ने शास्त्रीय गायन और पलक कौर ने कथक नृत्य की भी दी प्रस्तुति

Dainik Bhaskar

Nov 11, 2019, 12:10 AM IST

 

उज्जैन। अखिल भारतीय कालिदास समारोह में रविवार को तृतीय संध्या मुंबई से आईं बनारस एवं लखनऊ घराने की सुप्रसिद्ध कथक नृत्यांगना सितारा देवी की पुत्री जयंती माला व उनके समूह और जयपुर के शास्त्रीय गायक मोहम्मद अमान खान के नाम रही।


जयंती माला एवं समूह द्वारा प्रस्तुति की शुरुआत ओम नमः शिवाय... पर कथक नृत्य के साथ की गई। जिसमें गिनती की तिहाइयां आकर्षण का केंद्र रही। इसके उपरांत सुखदेव महाराज रचित शुद्ध कथक प्रस्तुत किया। इसमें आमद को राधाकृष्ण के छेड़छाड़ अंदाज में कलाकारों ने बेहद खुबसूरती के साथ मंच पर प्रस्तुति किया। धातक थुंगा की नैन एवं भावों द्वारा प्रस्तुति आकर्षक रही। तबले और घुंघरुओं के सवाल-जवाब जनग्राही रहे। मींड की परन भी आकर्षक रही। इसके उपरांत कलाकारों के समूह ने शुद्ध कथक किया। जिनकी वेशभूषा एवं समायोजन में अपरिपक्वता नजर आई। प्रस्तुति का अंत आज जाने की जिद न करो... पर भाव प्रदर्शन के साथ हुई। तबले पर अमित मिश्रा, हारमोनियम एवं गायन सोमनाथ मिश्रा, सारंगी पर जगदीश बरोठ, पखावज पर पं. श्रीधर व्यास रहे एवं पढ़न्त अमित मिश्रा व पूनम व्यास द्वारा की गई।

जयपुर से आए आगरा और पटियाला घराने के शास्त्रीय गायक मोहम्मद अमान की दूसरी प्रस्तुति रही। उन्होंने गायन की शुरुआत राग गोरख कल्याण पर आधारित विलंबित ख्याल धन-धन भाग्य... से किया। गायकी की परिपक्वता एवं सुमधुर लयकारी ने श्रोताओं को अभिभूत किया। सुरों पर गहरी पकड़ ने अमान की गायकी को अद्वितीय बनाया। उन्होंने मध्य लय तीन ताल में निबद्ध रचना ऐरी मोरी आली पिया घर आए... ने समां बांधा, वहीं द्रुत लय में तराने ताना दारे दीम... से श्रोताओं की तालियां बटोरी। गायन का समापन बड़े गुलाम अली साहब की सुप्रसिद्ध ठुमरी याद पिया की आए... से किया। 

इन दोनों से पहले उज्जैन की कथक नृत्यांगना पलक कौर की प्रस्तुति हुई। पलक ने प्रस्तुति की शुरुआत शिव स्तुति पर्वतिषम नमामि... से किया। उसके उपरांत तीन ताल में शुद्व कथक किया। जिसमें थाट, तोड़े, शिव परन, दुर्गा परन को दर्शकों ने सराहा। समापन काहे करत मोसे... की भाव पूर्ण रचना एवं तराना से किया।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना