भास्कर खास / शिक्षा विभाग का पोर्टल नहीं अपडेट; प्यून को बताया टीचर, 4 साल पहले मर चुके 5 शिक्षक अब भी पढ़ा रहे स्कूलों में



No updated portal of education department; Teacher told Pune,
X
No updated portal of education department; Teacher told Pune,

  •  11 रिटायर्ड शिक्षक दिख रहे पोर्टल पर, मृतकों के कारण जीवित शिक्षक हुए अतिशेष

Dainik Bhaskar

Jul 13, 2019, 04:16 AM IST

इंदौर . शिक्षा विभाग के पोर्टल www.educationportal.mp.gov.in के अपडेट नहीं होने से गफलत खड़ी हो गई है। पोर्टल पर इंदौर के एक सरकारी स्कूल माध्यमिक विद्यालय रंगवासा के प्यून को शिक्षक बता दिया है। चार साल पहले जिन शिक्षकों की मौत हो चुकी है, वे अब भी बतौर शिक्षक पोर्टल पर दर्ज हैं। 11 ऐसे शिक्षक भी हैं जो रिटायर हो चुके हैं, लेकिन उनकी जानकारी पोर्टल से हटाई नहीं गई है। इस कारण अतिशेष शिक्षकों की सूची अस्पष्ट तैयार हो रही है। इससे शिक्षकों व अध्यापकों में गुस्सा है।


अध्यापक शिक्षक संयुक्त मोर्चा के हरीश बोयत, प्रवीण यादव ने बताया इस गड़बड़ी के खिलाफ शुक्रवार को सैकड़ों की संख्या में शिक्षक डीईओ कार्यालय पहुंचे। डीईओ राजेंद्र मकवानी को शिक्षा मंत्री के नाम ज्ञापन सौंपा। इसमें मांग की गई है कि विसंगति वाली इस सूची को हटाकर पोर्टल को अपडेट किया जाए, जिससे समय पर युक्तियुक्तकरण की प्रक्रिया पूरी हो सके। धरना प्रदर्शन में रमेश यादव, राजकुमार पांडेय, डाॅ. रजनी पांडेय आदि मौजूद थे।

 

गड़बड़ी के खिलाफ अध्यापकों ने जताया गुस्सा : पोर्टल में ये 11 शिक्षक भी, जो हो चुके हैं रिटायर प्रतिभा पाल, शकुंतला जोशी, रोहिणी णाफडे, रामकली यादव, आशा लेले, रंजना श्रीवास्तव, चंद्रभान झंवर, प्रतिभा रघुवंशी, वृंदा मोने, चंद्रप्रकाश माण्डोलिया, नरेंद्र उपाध्याय।

 

5 शिक्षक, जिनकी 4 साल पहले मौत : दिनेश मोरे, शासकीय प्राथमिक विद्यालय हुक्माखेड़ी, मंगला नवाले, शासकीय माध्यमिक विद्यालय सिरपुर, रेणुका चौहान, शासकीय प्राथमिक विद्यालय बसन्द्रा, सुलभा दीक्षित, शासकीय प्राथमिक विद्यालय राहुल गांधी नगर, मो. हनीफ खान, शासकीय माध्यमिक विद्यालय बेटमा। 

COMMENT