नया नियम / राजनीतिक दलों के पत्र पर अब महाकाल में भस्मारती दर्शन की अनुमति नहीं



Not allowed to bhasamaarti on political parties letter in mahakal temple
X
Not allowed to bhasamaarti on political parties letter in mahakal temple

  • आचार संहिता लगने से अनुशंसा या आवेदन को किया जा रहा अमान्य

Oct 10, 2018, 01:16 AM IST

उज्जैन.  आचार संहिता लागू होने के बाद महाकालेश्वर मंदिर में तड़के चार बजे होने वाली भस्मारती के दर्शन के लिए दी जाने वाली अनुमति में राजनीतिक दलों और जनप्रतिनिधियों के प्रोटोकॉल को रोक दिया है। अब मंत्री, विधायक, सांसद या किसी राजनीतिक दल के प्रमुख द्वारा भस्मारती परमिशन जारी करने के लिए दिए आवेदन को अमान्य किया जा रहा है।

 

प्रदेश के बाहर से आने वाले आवेदनों को निरस्त कर अधिकारी संबंधित को टेलीफोन से इसकी सूचना भी दे रहे हैं। उन्हें बताया जा रहा है कि मप्र में विधानसभा चुनाव की आचार संहिता लग गई है, इसलिए किसी राजनीतिक दल और जनप्रतिनिधि की अनुशंसा या आवेदन को आचार संहिता समाप्त होने तक मान्य नहीं किया जाएगा। 

 

मंदिर में भस्मारती प्रोटोकॉल परमिशन जारी करने वाले तहसीलदार मूलचंद जूनवाल के अनुसार आचार संहिता लागू होते ही जनप्रतिनिधियों और राजनीतिक दलों की अनुशंसा के पत्रों को लौटाना शुरू कर दिया है। हालांकि शहरी जनप्रतिनिधियों ने स्वयं ही कहा कि यदि उनके नाम से कोई परमिशन के लिए पत्र लेकर आए तो उसे निरस्त कर दिया जाए। उनकी अनुशंसा पर किसी को भी भस्मआरती परमिशन न दी जाए और न ही वीआईपी दर्शन सुविधा दी जाए। इसलिए मंदिर समिति ने उनके नाम पर परमिशन और दर्शन सुविधा देने पर रोक लगा दी है।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना