सूबेदार VS चौकीदार / पंधाना ‘चाैकीदार’ का कटा चालान

Dainik Bhaskar

Mar 26, 2019, 06:57 AM IST



Padhna  'Chokidar' chopped invoice
X
Padhna  'Chokidar' chopped invoice
  • comment

  • वाहन पर लगी नेमप्लेट हटाने को लेकर महिला सूबेदार और पंधाना विधायक में बहस
  • महिला सूबेदार ने कहा- आपके वाहन से चौकीदार लिखी नेमप्लेट तत्काल हटाइए
  • विधायक ने कहा- ऐसी नेमप्लेट क्यों नहीं लगा सकते, कोई नियम हो तो बताइए

खंडवा . आचार संहिता व रंगपंचमी को लेकर सोमवार सुबह से ही पुलिस चालानी कार्रवाई में लगी हुई थी। शाम करीब 7.30 बजे इंदिरा चौक पर महिला सूबेदार ज्योति सूर्यवंशी और पुलिस जवान वाहनों को रोककर पदनाम वाली नंबर प्लेट निकलवा रहे थे। इसी बीच पंधाना विधायक राम दांगोरे का वाहन सूबेदार ने रोका लिया। उनके वाहन पर नंबर प्लेट के ऊपर एक और प्लेट लगी हुई थी। जिस पर चौकीदार पंधाना लिखा हुआ था। सूबेदार ने जवानों से कहा ये चौकीदार वाली प्लेट निकालो। इस पर विधायक ने कहा मैडम कौन से नियम के तहत आप मेरे वाहन की प्लेट निकाल रहे हो। मैं एमएलए हूं। आचार संहिता का सम्मान करते हुए मैंने मेरे वाहन से एमएलए पदनाम वाली प्लेट पहले ही निकाल दी है। चौकीदार की प्लेट क्याें नहीं लगा सकते हैं, ऐसा कोई नियम हो तो बताइए। इस बीच सूबेदार और विधायक के बीच जमकर बहस शुरू हो गई। 


सूबेदार को गलती का अहसास होने पर उन्होंने कहा आपकी गाड़ी पर नंबर भी नहीं है। विधायक ने कहा मैडम पहले आपने कहा चौकीदार लिखा है, प्लेट हटा लो। अब नंबर की बात कर रहे हो। तभी पुलिस जवान ने कहा मैडम गाड़ी पर नंबर लिखा हुआ है। फिर सूबेदार ने कहा पीछे कमल का फूल बना हुआ है। विधायक ने कहा कि कमल का फूल बता दो। कमल का फूल भी नहीं मिला। विधायक ने कहा आप कांग्रेस के मंत्रियों के इशारों पर हमारे कैंपेन (चौकीदार) को बाधित कर रहे हैं। सूबेदार ने कहा ऐसा नहीं है, विधायक ने कहा तो फिर कागज बताईये। इस तरह विधायक राम दांगोरे और सूबेदार ज्योति सूर्यवंशी के बीच करीब 40 मिनट तक बहस चली। तभी ट्रैफिक डीएसपी संतोष कौल व सूबेदार देवेंद्रसिंह परिहार मौके पर आ गए। उन्होंने विधायक को नियम व अधिनियम बताए। 

 

  • चालानी कार्रवाई के दौरान पंधाना विधायक और ट्रैफिक पुलिस के बीच एक घंटे तक हुई नोकझोंक
  • पुलिस ने मौखिक रूप से मोटरयान अधिनियम का हवाला दिया, लेकिन कागज पर नियम नहीं बता पाए 

यह कहता है नियम : मोटरयान अधिनियम 51 के तहत वाहन की बॉडी में किसी प्रकार का कोई परिवर्तन नहीं कर सकते। नंबर प्लेट के साथ किसी प्रकार की छेड़छाड़ नहीं कर सकते। अगर ऐसा होता है तो करीब 500 रुपए का चालान बन सकता है। 

 

500 नहीं 5000 का चालान बनवाऊंगा : मौके पर पहुंचे ट्रैफिक डीएसपी कौल व सूबेदार परिहार से विधायक ने कहा मेरे वाहन के सभी कागज कंप्लीट है। वाहन पर नंबर प्लेट के ऊपर चौकीदार पंधाना लिखा हुआ है। अगर एमएलए प्लेट होती तो आप कार्रवाई कर सकते थे। सूबेदार परिहार ने मोबाइल पर मोटरयान अधिनियम की कॉपी बताई। उन्होंने कहा इस अधिनियम के तहत वाहन पर नंबर प्लेट के अलावा कोई अन्य प्लेट नहीं लगा सकते और न ही कुछ लिखवा सकते। हम नियमानुसार कार्रवाई कर रहे हैं। चुनाव आयोग के निर्देशों का पालन कर रहे हैं। कैंपेन के विरोध में नहीं है। हमारा कर्तव्य है नियमों का पालन करवाना। इस बात पर विधायक ने कहा आप चालानी कार्रवाई कर दे, मैं न्यायालय जाऊंगा। 500 नहीं 5000 रुपए का चालान बनवाऊंगा। 
 

विधायक ने वाट्सएप पर किया वायरल  : ट्रैफिक पुलिस से हुई नोकझोंक के वीडियो व फोटो पंधाना विधायक ने वाट्सएप ग्रुपों पर वायरल किया। विधायक राम दांगोरे ने कहा चौकीदार कोई संवैधानिक पद नहीं है। मैं अपनी जगह सही हूं। न्यायालय जाऊंगा वहां जो भी फैसला होगा मान्य है। 

 

आचार संहिता के तहत वाहनों पर लगे हूटर, स्पॉट लाइट, नंबर प्लेटों के अलावा अतिरिक्त नंबर प्लेट निकाल रहे हैं। नियमानुसार कार्रवाई के लिए विधायक का वाहन रोका था। उन्होंने कहा न्यायालय जाऊंगा। चौकीदार वाली प्लेट हटाने के बाद करीब 500 रुपए का चालान बनाना था। अब कोर्ट में चालान पेश करेंगे। -देवेंद्रसिंह परिहार, सूबेदार ट्रैफिक

 

COMMENT
Astrology

Recommended

Click to listen..
विज्ञापन
विज्ञापन