अपराध / परिवार सहित घूमने आए व्यक्ति ने पुलिस को किया गुमराह, कहा - इंदौर एयरपोर्ट पर हो सकता है हमला



आरोपी विक्रम सिंह आरोपी विक्रम सिंह
X
आरोपी विक्रम सिंहआरोपी विक्रम सिंह

  • हरियाणा के रहने वाले आरोपी को पुलिस ने किया गिरफ्तार
  • कहा- महाकाल दर्शन के दौरान दो संदिग्धों को हमले की बात करते सुना था

Dainik Bhaskar

Aug 16, 2019, 02:13 PM IST

इंदौर. परिवार सहित घुमने के लिए इंदौर आए एक व्यक्ति ने इंदौर एयरपोर्ट पर हमला होने की गलत सूचना पुलिस को दी। आरोपी ने पुलिस को बताया था कि उज्जैन महाकाल में दर्शन के दौरान उसने दो संदिग्ध व्यक्तियों को हमले की बात करने सुना था। जांच में यह बात असत्य पाई गई। पुलिस ने गलत सूचना देने पर उसके खिलाफ मामला दर्ज किया है।


एरोड्रम थाने के अनुसार 9-10 अगस्त की मध्यरात्रि एयरपोर्ट पर सीआईएसएफ के निरीक्षक राहुल त्रिपाठी ड्यूटी पर थे। रात लगभग 12.30 बजे उनके पास हरियाणा के भिवंडी का रहने वाला विक्रम सिंह आया और कहा कि उसे डिप्टी कमांडेंट से मुलाकात करना है। विक्रम सिंह ने निरीक्षक राहुल को बताया कि 8 अगस्त को वह महाकाल के दर्शन करने उज्जैन गया था। वहां गणेश मंदिर के बाहर दो संदिग्ध व्यक्ति जिनके नाम आदर्श उपाध्याय और आमिर हैं आपस में बात कर रहे थे कि इस बार इंदौर एयरपोर्ट पर कुछ बड़ा करना है, जिसे आने वाली पुश्तें याद रखे। निरीक्षक राहुल ने उक्त व्यक्ति से यह बातें लिखित में ली और अपने अधिकारियों को सूचित करने के साथ ही एरोड्रम थाने को भी सूचना दी।

 

मामले में एरोड्रम पुलिस ने सूचनाकर्ता विक्रम सिंह को बयान के लिए थाने पर बुलाया। 15 अगस्त को विक्रम बयान देने थाने पहुंचा था। पुलिस ने उससे एयरपोर्ट पर हमले की सूचना देने की सत्यता के बारे में पूछा तो वह कभी कुछ तो कभी कुछ बताने लगा। जब पुलिस को उसकी बातों से शंका उत्पन्न हुई तो उसे विश्वास में लेकर पूछताछ की गई। विक्रम ने पुलिस को बताया कि मूलत: हरियाणा के भिवानी का रहने वाला है और वर्तमान में मुंबई के कुर्ला में रहता है।


उसने बताया कि 24 जुलाई को वह अपने परिवार को लेकर इंदौर-उज्जैन घूमने आया था। कुछ दिनों बाद उसने अपने परिवार को वापस मुंबई रवाना कर दिया और व्यापार का बहाना बनाकर खुद इंदौर में रुक गया।
आरोपी ने बताया कि वह इंदौर की बड़ी होटलों जैसे रेडिसन ब्लू, लेमन ट्री, केअर रेसीडेंसी आदि में रुका था। एक होटल में रुकने के बाद वह वहां से बगैर बिल दिए व चेकआऊट किए दूसरे होटल में रुक जाता था। उसके पूरे पैसे खत्म हो गए थे और वापस जाने के लिए भी पैसे नहीं थे।

 

उसके मन में ख्याल आया कि ऐसा कुछ किया जाए जिससे उसे होटलों का बिल भी नहीं देना पड़े और वह आसानी से अपने घर भी पहुंच जाए। इसके चलते वह 9-10 अगस्त की रात को ऑटो से एयरपोर्ट पर पहुंचा और हमने की झूठी जानकारी दी। विक्रम द्वारा दी गई सूचना गलत व फर्जी पाए जाने पर पुलिस ने आरोपी के खिलाफ भारतीय दंड विधान की धारा 505 और 182 के तहत प्रकरण दर्ज किया है।   

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना