Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Police Officer Trapped In 8th Pass Girl

8वीं पास युवती को 10 साल तक सिर-माथे बैठाया पुलिस ने, भोपाल-उज्जैन मैस में भी रही, एडीजी ने तीन दिन में मांगी रिपोर्ट

युवती के रहन-सहन, फर्राटेदार अंग्रेजी के जाल में इंदौर, भोपाल, उज्जैन के अफसर भी फंसे।

dainikbhaskar.com | Last Modified - May 02, 2018, 01:05 PM IST

8वीं पास युवती को 10 साल तक सिर-माथे बैठाया पुलिस ने, भोपाल-उज्जैन मैस में भी रही, एडीजी ने तीन दिन में मांगी रिपोर्ट

मप्र पुलिस कीVIP गेस्ट

नाम : सोनाली शर्मा
उम्र : 32 साल
पता : पुलिस मैस फर्स्ट बटालियन
शिक्षा : 8वीं

इंदौर। जिस पुलिस के पास रिपोर्ट लिखाने जाने में लोगों के हाथ-पैर कांपने लगते हैं, वह पुलिस एक-दो नहीं, पूरे 10 साल तक महज आठवीं पास युवती के रौब तले दबी रही। रौब भी ऐसा कि सुख-सुविधा में थोड़ी कमी हो जाए तो टीआई से लेकर सीएसपी तक की लू उतार दे। जब दिल करता, पहुंच जाती पुलिस ऑफिसर मैस। उसके रहन-सहन, फर्राटेदार अंग्रेजी के जाल में सिर्फ इंदौर के पुलिस अफसर ही नहीं, भोपाल, उज्जैन के अफसर भी फंसे और वीआईपी ट्रीटमेंट देते रहे।

  • एक दशक तक पुलिस अफसरों को अंगुलियों पर नचाने वाली जालसाज युवती का दुस्साहस इस कदर बढ़ गया कि वह पुलिसकर्मियों के तबादले के आवेदन लेने लगी। अफसरों के यहां शादी-पार्टियों में मेहमान बनकर जाती। इस मेहमान के फर्जीवाड़े का खुलासा होने के बाद अफसरों के पैरों तले जमीन खिसकी हुई है। अब जांच, कार्रवाई और उसके संपर्कों की तलाश की जा रही है।
  • एडीजी अजय शर्मा ने इस फर्जी बहन के बारे में तीन दिनद में जांच कर रिपोर्ट देने को कहा है। वहीं युवती के खिलाफ सदर बाजार थाने में धोखाधड़ी का मामला दर्ज किया गया है। मामले में ऑफिसर मैस के अधिकारियों पर गाज गिरने की संभावना है।
  • पुलिस ऑफिसर मैस में एडीजी की बहन बनकर रहने वाली सोनाली शर्मा के व्यवहार को लेकर चर्चा उठी तो अफसरों ने एडीजी अजय शर्मा से कंफर्म किया। उनके इनकार करने पर अफसर हरकत में आए और पूरा मामला सामने आया। सोनाली की एडीजी शर्मा से 15 साल पहले उज्जैन में मुलाकात हुई थी।
  • युवती सोनाली शर्मा मूल रूप से भोपाल की रहने वाली है। भास्कर में इस मामले के खुलासे के बाद पुलिस ने सोनाली और उसके बॉयफ्रैंड कृष्णा राठौर निवासी भोपाल को गिरफ्तार कर लिया। वह सोनाली के साथ विद्या नगर के फ्लैट में किराए से रहता था।
  • डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने बताया कि सोनाली के पिता किसान थे, उनकी मृत्यु हो चुकी है, जबकि मां भोपाल में होशंगाबाद रोड स्थित फ्लैट में रहती है। शुरुआती पूछताछ में सोनाली ने सिर्फ रुतबा जमाने के लिए ऐसा करने की बात कही है, पर जांच कर रहे हैं कि उसने झूठी पहचान से धोखाधड़ी तो नहीं की।


एएसपी को हुई शंका तो खुली पोल, बुके मंगवाने पर पकड़ाया गड़बड़झाला
जालसाज सोनाली पर एएसपी रूपेश द्विवेदी को चार माह पूर्व ही शंका हुई थी। उन्होंने डीआरपी लाइन के आरआई को सूचना देकर वेरिफाई करने को कहा था, लेकिन वह नजरअंदाज कर गए। सोमवार को ऑफिसर मैस में इंदौर के पूर्व डीआईजी और वर्तमान में एडीजी एसएएफ पवन श्रीवास्तव की एक पार्टी थी। पार्टी में जाने के लिए उसने मैस के एक जवान को बुलाकर बुके लाने के लिए फटकारा।

यूं उठाया फायदा : रिटायर्ड डीजी की पहचान पर आई थी
सोनाली पहली बार 2008 में रिटायर्ड डीजी लोकायुक्त कापदेव के रिफरेंस पर उनकी बेटियों के साथ ऑफिसर मैस में ठहरी थी। बाद में इसने पुलिस अधिकारियों से पहचान बनाई और उनकी रिश्तेदार बताकर फायदा उठाना शुरू किया। इसके बाद इसका आना-जाना लगा रहा तो मैस के कर्मचारी भी इसे विशिष्ट अतिथि की तरह सम्मान देने लगे। इसने कुछ समय पूर्व एक रेलवे एसपी के फोन से भी रूम बुक करवाया था। वह कुछ दिन पहले सीएसपी ज्योति उमठ की शादी में भी शामिल हुई थी।

बॉयफ्रेंड को कहीं भाई तो कहीं बताया पति, कई आईडी मिले
सोनाली के फ्लैट को तलाशा तो वहां एसआई से लेकर कांस्टेबल तक के शिकायत, ट्रांसफर आवेदन मिले। कई तरह के आईडी कार्ड भी मिले हैं। कुछ में इसने कृष्णा को अपना पति दर्शा रखा है, वहीं ऑफिसर मैस में कृष्णा को भाई बताया था। पुलिस दोनों की कॉल डिटेल भी निकलवा रही है। यह भी देखा जा रहा है कि इन्होंने अधिकारियों से दबाव में कोई काम तो नहीं करवाया। उज्जैन और भोपाल की ऑफिसर मैस से भी इसके ठहरने का ब्योरा मांगा गया है।


गनमैन को लेकर झाड़ा पल्ला
भास्कर ने जब सोनाली को मिले गनमैन (कांस्टेबल अवधेश यादव) को लेकर फर्स्ट बटालियन के क्वार्टर मास्टर रामनिवास यादव व डीआरपी लाइन के आरआई अनिल राय से बात की तो उन्होंने कहा उसे कोई गनमैन नहीं दिया गया। एएसपी रूपेश द्विवेदी ने कहा गनमैन छुट्टी पर है। पता लगा रहे हैं वह एसएएफ का है या जिला बल की डीआरपी लाइन का।


मैस प्रबंधन की लापरवाही
डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र का कहना है कि घटना गंभीर है। ऑफिसर मैस का मैनेजमेंट संभालने वाले इंचार्ज की भूमिका को भी जांच रहे हैं। लापरवाही बरतने वालों पर सख्त कार्रवाई होगी।


एएसपी ने एसडीओपी से कराई थी मुलाकात
सोनाली की करीब ढाई साल पहले एक एएसपी ने ज्योति उमठ से बैतूल में मुलाकात करवाई थी। उन्होंने बताया था सोनाली को मुख्यमंत्री भी बहुत मानते हैं। साध्वी ऋतंभरा की शिष्य हैं। विजयवर्गीय भी राखी बंधवाते हैं। ज्योति वर्तमान में सीएसपी संयोगितागंज हैं। एडीजी अजय शर्मा को जब पता चला कि उनके नाम का इस्तेमाल करके कोई आफिसर मैस में ठहरा है तो उन्होंने ज्योति को सोनाली के पास भेजा था क्योंकि वह पहले से उससे परिचित थी। सोनाली इंदौर मैस में तत्कालीन एसएएफ आईजी पवन श्रीवास्तव के रिफरेंस पर मैस में रुकी थी।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×