--Advertisement--

पुलिसकर्मी लूट मामला / एके-47 लूटने वाले 25 से 30 साल के, मौके से मिला जूता ही सुराग, सीसीटीवी फुटेज भी खंगाल रही पुलिस



घटना स्थल पर जांच करते एटीएस, पुलिस अधिकारी, डॉग और एफएसएल टीम।  घटना स्थल पर जांच करते एटीएस, पुलिस अधिकारी, डॉग और एफएसएल टीम। 
X
घटना स्थल पर जांच करते एटीएस, पुलिस अधिकारी, डॉग और एफएसएल टीम। घटना स्थल पर जांच करते एटीएस, पुलिस अधिकारी, डॉग और एफएसएल टीम। 

  • आरपीएफ-जीआरपी सहित उज्जैन, इंदौर, रतलाम पुलिस कर रही गांव और जंगल में सर्चिंग

Dainik Bhaskar

Dec 07, 2018, 11:28 AM IST

उज्जैन/बड़नगर. बड़नगर-रूनिजा के सुंदराबाद रेलवे ट्रैक पर आरपीएफ एएसआई और हेड कांस्टेबल पर हमला कर एके-47 लूटने वाले बदमाशों की उम्र 25 से 30 साल है। बदमाशों का पहनावा ग्रामीणों जैसा था और भागते समय एक बदमाश का प्लास्टिक का जूता घटना स्थल पर ही छूट गया। जूते और हुलिए के आधार पर ही उज्जैन, इंदौर, रतलाम और आरपीएफ, जीआरपी की टीम संदिग्धों की खोजबीन कर रही है। पुलिस अधिकारियों ने आशंका जताई है कि बदमाश भेड़ अथवा सामान्य चोरी करने वाले अपराधी हैं और स्थानीय भी हो सकते हैं।

 

आरपीएफ के घायल एएसआई कमलेश शर्मा व हेड कांस्टेबल राकेश कुशवाह पर हमले के बाद 10 से 12 बदमाश पैदल रूनिजा की तरफ भागे थे। रूनिजा के एक वेयर हाउस के पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज चैक किए हैं। कैमरे में रात को कुछ युवक बाइक पर आते-जाते कैद हुए हैं। हेड कांस्टेबल का मोबाइल भी बदमाश ले गए। साइबर सेल से उसका पीएसटीएन डाटा निकलवाया है, जिसमें लास्ट लोकेशन बदनावर आ रही है।

 

एसपी सचिन अतुलकर ने बताया पेट्रोलिंग के दौरान हेड कांस्टेबल ने जिस संदिग्ध को रोका था, उसने अपना नाम भगवानसिंह निवासी ग्राम टोकरा बड़नगर बताया था लेकिन उस गांव में पता कराने पर उक्त नाम का युवक कोई नहीं मिला। बदमाश बदनावर के भी हो सकते हैं। इधर एएसपी रेल मनकामनाप्रसाद ने बताया संदिग्धों की सूची तैयार कर रेल और जिला पुलिस की संयुक्त टीमें धरपकड़ पर निकल गई है। अपराधी पेशेवर नहीं हैं।


तार चोरी के बाद 22 किमी में तैनात किए थे 30 जवान : आरपीएफ बड़नगर इंचार्ज नवाबसिंह ने बताया 3 दिसंबर को रेलवे ट्रैक से 120 मीटर तार बदमाश काट ले गए थे। इसके बाद बदनावर में भी चोरी की। इसे देखते हुए 22 किलोमीटर के एरिया में हर एक किलोमीटर पर दो-दो जवानों की ड्यूटी तय की थी। दोनों पुलिसकर्मी रात को पेट्रोलिंग पर ही थे जिनके साथ बदमाशों ने घटना की। इसके बाद सीआरपीएफ व जिला बल के 20-20 जवानों को जंगल एरिया में ही सर्चिंग पर लगाया है।


रेलवे ट्रैक पर मिले ब्लड की डीएनए जांच कराएगी पुलिस : उज्जैन से डॉग टीम भी घटना स्थल पहुंची। डॉग पांच किलोमीटर एरिया में घूमने के बाद बड़नगर के बौड़ाना आरसी गांव में जाकर रुक गया। इसके बाद बदमाश किस दिशा में गए पता नहीं लगा। इधर, एफएसएल अधिकारी डॉ. प्रीति गायकवाड़ ने रेलवे ट्रैक से ब्लड जब्त किया। जिसका डीएनए मैच होगा। अधिकारियों ने आशंका जताई कि हमले के दौरान बदमाश जिसे छुड़ाकर ले गए वह साथी भी घायल हुआ होगा।


संदिग्ध से वहीं पूछताछ की हवाई फायर तक नहीं किया : दोनों पुलिसकर्मियों पर हमला कर रायफल लूटने की घटना गंभीर है। पुलिस किसी को भी पकड़ने के बाद वहीं पूछताछ नहीं करती। सीधे थाने ले जाती है। दोनों पुलिसकर्मियों से यहीं गलती हुई। जिसका फायदा बदमाशों ने उठाया। हमले के दौरान पुलिसकर्मी ने हवाई फायर भी नहीं किया। इसी कारण बदमाश रायफल लूट ले गए। आईजी राकेश गुप्ता ने कहा- यह दोनों पुलिसकर्मियों की लापरवाही है।

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..