सत्ता, संपत्ति, सौंदर्य बलपूर्वक हासिल करने वाला सुखी नहीं / सत्ता, संपत्ति, सौंदर्य बलपूर्वक हासिल करने वाला सुखी नहीं

Bhaskar News Network

Dec 09, 2018, 04:21 AM IST

Indore News - जितना प्रेम भक्त में भगवान को पाने का रहता है, उससे चार गुना अधिक भगवान में भक्त के प्रति रहता है। परमात्मा की भक्ति...

Indore News - power property beauty is not easy to achieve
जितना प्रेम भक्त में भगवान को पाने का रहता है, उससे चार गुना अधिक भगवान में भक्त के प्रति रहता है। परमात्मा की भक्ति कभी भी करें, निष्फल नहीं होती। बलपूर्वक सत्ता, संपत्ति, सौंदर्य हासिल करने वाला कभी सुखी नहीं रहता। भगवान को सखा या मित्र मानकर की गई प्रार्थना जल्द फलीभूत होती है। सुग्रीव एवं राम, श्रीकृष्ण-सुदामा की मैत्री के उदाहरण हमारे सामने हैं।

अंतरराष्ट्रीय रामस्नेही संप्रदाय के आचार्य स्वामी रामदयाल महाराज ने छत्रीबाग स्थित रामद्वारा में सत्संग में यह बात कही। संप्रदाय के मूलाचार्य रामचरण महाराज के त्रिशताब्दी जन्म महोत्सव के उपलक्ष्य में यह आयोजन किया जा रहा। शनिवार को सत्संग की शुरुआत ट्रस्ट के देवेंद्र मुछाल, रामसहाय विजयवर्गीय, गिरधर गोपाल नीमा आदि ने आचार्य के स्वागत से की। शुरू में संत रामस्वरूप रामस्नेही बेगूवाले ने वाणीजी का पाठ किया। सत्संग में देश के विभिन्न रामद्वारों से आए संत भी उपस्थित थे। ट्रस्ट के रामसहाय विजयवर्गीय ने बताया रविवार सुबह 7.30 बजे वाणीजी के पाठ के बाद प्रवचन होंगे। फिर आचार्य मंदसौर जिले के अफजलगढ़ (सूर्य नगरी) में आयोजित त्रिशताब्दी समारोह में प्रस्थान करेंगे।

X
Indore News - power property beauty is not easy to achieve
COMMENT