इंदौर / जेल में बंद बसपा के जिलाध्यक्ष की इलाज के दौरान मौत, परिजन का आरोप- एसटीएफ ने 20 लाख मांगे थे, नहीं दिए तो फंसा दिया

सुरेश यादव को जमीन मामले में गिरफ्तार किया गया था। सुरेश यादव को जमीन मामले में गिरफ्तार किया गया था।
X
सुरेश यादव को जमीन मामले में गिरफ्तार किया गया था।सुरेश यादव को जमीन मामले में गिरफ्तार किया गया था।

  • गड़बड़ी पुल के पास स्थित जमीन की धोखाधड़ी मामले में एसटीएफ ने गिरफ्तार किया था
  • बेटा बोला- शुगर लेवल बढ़ने और हार्ट में परेशानी होने पर डॉक्टरों ने भर्ती के लिए कहा था

Dainik Bhaskar

Feb 15, 2020, 03:04 PM IST

इंदौर. सेंट्रल जेल में बंद बहुजन समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष सुरेश यादव की शनिवार को इलाज के दौरान मौत हो गई। जेल में तबीयत खराब होने के बाद उन्हें एमवाय अस्पताल में भर्ती कराया गया था। यादव को पिछले दिनों एसटीएफ ने जमीन की हेराफेरी के आरोप में गिरफ्तार किया था। परिजन ने एसटीएफ के अधिकारी पर केस नहीं बनाने के एवज में 20 लाख रुपए की मांग का आरोप लगाया है। उनका कहना है कि गिफ्तारी के दौरान यादव का शुगर लेवल 300 से ऊपर था, हार्ट में भी दिक्कत थी, जिसके चलते एमवाय के डॉक्टर ने उन्हें भर्ती करने को कहा था, लेकिन एसटीएफ ने इस बात को दरकिनार कर उन्हें जेल भेजा था। एमजी रोड पुलिस मामले की जांच कर रही है।

प्रदेश में ऑपरेशन क्लीन के तहत भू-माफियाओं पर लगातार नकेल कसी जा रही है। एसटीफ ने पिछले दिनों गड़बड़ी पुल के पास स्थित जमीन की धोखाधड़ी को लेकर दर्ज केस में सुरेश पिता छोटेलाल यादव को गिरफ्तार किया था। इसके बाद यादव को सेंटर जेल भेज दिया गया था। शनिवार सुबह अचानक तबीयत खराब होने के बाद एमवाय अस्पताल में भर्ती करवाया गया था, जहां इलाज के दौरान उनकी मौत हो गई। 

बेटा बोला -पिता को फंसाया गया

बेटे नितिन यादव का आरोप है कि एसटीएफ के अधिकारियों ने बीमार होने के बाद भी पिता को जमीन की धोखाधड़ी के केस में साजिश के तहत फंसाया। पिता के खिलाफ केस नहीं बनाने के एवज में उन्होंने 20 लाख रुपए की मांग की थी। नहीं देने पर उन्होंने उन्हें बिना किसी सबूत के पकड़ा। एसटीएफ ने कहा था कि इनके पास से चेक, जमीन के कागज मिले हैं। तहसीलदार से मिलीभगत कर कागजों की हेराफेरी भी की है, लेकिन अब उनके पास कोई सबूत नहीं हैं। जिस समय पिता को पकड़ा गया, उनकी हड्डी में दिक्कत थी, पैर में भी चोट थी। एमवाय में मेडिकल के दौरान डॉक्टरों ने शुगर लेवल बढ़ने पर एडमिट करने को कहा था। लेकिन डॉक्टरों की बात पर ध्यान दिए बिना वे पिता को लेकर चले गए और रातभर यहां-वहां घुमाते रहे। अगले दिन जेल भेज दिया। जेल से भी जांच के लिए लेकर आए, लेकिन भर्ती नहीं किया।

यह है मामला
7 फरवरी को एसटीएफ ने सुरेश यादव व निरंजन उर्फ नीरू पिता भंवरलाल प्रजापत निवासी छत्रपति नगर को गिरफ्तार किया था। इन लोगों ने सबसे पहले कंस्ट्रक्शन कारोबारी सुरेश कुकरेजा और उसके बेटे जयेश कुकरेजा और जमीन की कब्जादार रहीं अवंतीबाई और शकुंतलाबाई को जमीन बेची थी। जांच आगे बढ़ी तो पता चला कि पूरे फर्जीवाड़े में मुख्य सूत्रधार आरोपी सुरेश यादव है। यह बसपा का जिला अध्यक्ष भी थे। इन्होंने देवनारायण अवंती बाई और शकुंतला बाई के साथ वर्ष 2016 में एक आम मुख्त्यारनामा बनाया था। इसमें शासकीय कार्य करने के बाद उक्त जमीन का एक और मुख्त्यारनामा बनाकर सुरेश कुकरेजा एवं अन्य को 76 लाख रुपए में बेच दिया। सुरेश कुकरेजा को 15 लाख में जमीन की एक फर्जी ऋण पुस्तिका भी बना दी थी। इसी के आधार पर देवनारायण और उसकी बहनों का सुरेश कुकरेजा और जयेश कुकरेजा से अनुबंध हुआ था, जिसमें सुरेश यादव भी शामिल हुआ और चरनोई की भूमि पर प्लॉट काटकर कॉलोनी बनाने का बोलकर लोगों से रुपए ले लिए थे। इस केस में फर्जी ऋण पुस्तिका बनाने में निरंजन प्रजापत ने अहम भूमिका निभाई थी।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना