फैसला / कोर्ट ने कहा- गर्दन शरीर का नाजुक हिस्सा, ब्लेड का वार करने से जान जा सकती थी, आरोपी को सात साल की कैद

Dainik Bhaskar

Oct 13, 2018, 01:09 AM IST



Punishment on blade attack on neck
X
Punishment on blade attack on neck

  • 19 साल के आरोपी ने शराब के पैसे नहीं देने पर घर में घुसकर दो बच्चियों पर किया था हमला

इंदौर.  जिला कोर्ट ने ब्लेड से गर्दन पर वार करने वाले आरोपी को सात साल कैद की सजा सुनाई। कोर्ट ने आरोपी को यह कहते हुए सजा सुनाई कि गर्दन शरीर का नाजुक और मार्मिक हिस्सा होता है और उस पर ब्लेड से वार कर 3 गुणा 0.5 सेंटीमीटर का घाव हो गया, जिससे जान जा सकती थी, क्योंकि उस हिस्से में श्वास नली भी होती है। आरोपी ने घर में घुसकर शराब पीने के लिए पैसे मांगे थे और मना करने पर दो नाबालिग बच्चियों पर ब्लेड से वार किया था, जिससे दोनों घायल हो गई थीं।


आरोपी का नाम बलराम (19) पिता राजेश निवासी परदेशीपुरा है। शुक्रवार को अपर सेशन जज योगेंद्रकुमार त्यागी ने आरोपी को सजा सुनाते हुए जेल भेज दिया। कोर्ट ने आरोपी को जानलेवा हमले के आरोप में सात साल की कैद, एक हजार रुपए जुर्माना व घर में जबरन घुसने के मामले में चार वर्ष की कैद व पांच सौ रुपए जुर्माने की सजा सुनाई। अतिरिक्त लोक अभियोजक उमेश यादव ने 12 गवाहों के साक्ष्य करवाकर अपराध साबित किया।

 

यादव के मुताबिक दोनों सजाएं साथ चलेंगी। घटना 30 जून 2017 की दोपहर सवा दो बजे की है। परदेशीपुरा में आरोपी एक घर में घुसा तब घर में 16 वर्षीय शिवानी व उसकी छोटी बहन 14 वर्षीय वर्षा घर पर थी। आरोपी ने उनसे उनके पिता के बारे में पूछा और शराब पीने के लिए रुपए मांगे। बच्चियों ने कहा- उनके पास पैसे नहीं है। इस पर आरोपी ने उन पर ब्लेड से वार कर दिया था। शिवानी की गर्दन, नाक और होंठ पर चोटें आई थीं। थाना परदेशीपुरा ने आरोपी के खिलाफ जानलेवा हमले के आरोप में केस दर्ज कर गिरफ्तार किया था।

COMMENT