टिगरिया बादशाह का मामला / पुलिस ने जिस किसान को तालाब में कुदाया, उसका शव दूसरे दिन मिला

Dainik Bhaskar

Oct 14, 2018, 01:23 AM IST



symbolic image symbolic image
X
symbolic imagesymbolic image

  • रातभर चला रेस्क्यू, सुबह मिली सफलता
  • वारंटी को पकड़ने के लिए किसान को तालाब में कुदाने वालेे पुलिस जवानों के खिलाफ जांच शुरू

इंदौर. पुलिस को देख तालाब में कूदे वारंटी को पकड़ने के लिए जवानों ने जिस 50 वर्षीय किसान माणकचंद को तालाब में कुदाया था, उसका शव फूलकर दूसरे दिन ऊपर आ गया। रातभर तलाशी के दौरान किसान का शव नहीं मिला तो शनिवार सुबह 6 बजे से दोबारा तालाब में सर्च ऑपरेशन करवाया गया। 


थाना विजय नगर और खजराना टीआई की उपस्थिति में शुरू हुए सर्च ऑपरेशन में होमगार्ड की रेस्क्यू टीम को सुबह 7 बजे तालाब में शव नजर आया। शव को निकालकर जवानों ने पुलिस को सौंपा। पुलिस ने उसका पोस्टमॉर्टम करवाने के बाद उसे परिजन के हवाले कर दिया। इधर, किसान को तालाब में कुदाने वालेे जवानों के खिलाफ डीआईजी हरिनारायणाचारी मिश्र ने जांच बैठा दी है।  


डीआईजी मिश्र ने बताया घटना को लेकर पुलिस जवानों की लापरवाही को जांचने के लिए एएसपी पूर्व प्रशांत चौबे को जांच सौंपी है। उन्होंने बताया प्रारंभिक तौर पर जो घटना पता चली है उसमें बाणगंगा थाने की टीम के तीन जवान इलाके में तीन फरार वारंटियों को पकड़ने गए थे। एक वारंटी रवि उर्फ बारीक जवानों को देखकर तालाब में कूद पड़ा था, जिसे पकड़ने के लिए कांस्टेबल जितेंद्र भी कूदा था। इसी दौरान तालाब किनारे शराब पीकर बैठे किसान माणकचंद ने भी पुलिस जवान के साथ बदमाश को पकड़ने के लिए खुद कपड़े उतारकर तालाब में छलांग लगाई थी, क्योंकि वे तैरना जानते थे, लेकिन गहराई में जाने से वे स्टेमिना नहीं रख सके और डूबने से उनकी जान चली गई।

 

लोग बोले- जवानों के कहने पर किसान कूदा और चली गई जान : इधर, इलाके के लोगों ने आरोप लगाए हैं कि पुलिस जवानों ने किसान को तालाब में कूदने का बोला था तो ही वे कूदे थे। पूरे मामले में एएसपी चौबे ने जांच शुरू कर जवानों के बयान लिए तो उन्होंने वृद्ध के खुद मर्जी से पानी में कूदने की बात कही है। हालांकि शव मिलने के बाद परिजन और ग्रामीणों ने किसी भी प्रकार का कोई विवाद या हंगामा नहीं किया। वहीं भारी पुलिस बल की मौजूदगी से इलाके में भी शांति रही।
 

प्रशासन ने परिवार को 4 लाख दिए : इधर, तालाब में डूबकर मौत होने पर प्रशासन की ओर से किसान के परिवार को चार लाख रुपए की राशि दी गई।

COMMENT