• Hindi News
  • Mp
  • Indore
  • Returning home from school program, 14 year old child was beaten up by policemen, kept standing with criminals in police station.

जनसुनवाई / स्कूल के कार्यक्रम से घर लौट रहे 14 साल के बच्चे को पुलिस वालों ने लात-घूंसों से पीटा, थाने में अपराधियों के साथ खड़ा रखा

Returning home from school program, 14-year-old child was beaten up by policemen, kept standing with criminals in police station.
X
Returning home from school program, 14-year-old child was beaten up by policemen, kept standing with criminals in police station.

  • मां ने लगाई गुहार, दोषी पुलिस कर्मियों पर सख्त कार्यवाही की जाए

Dainik Bhaskar

Dec 03, 2019, 06:30 PM IST

इंदौर. अपने ही पुलिसकर्मियाें के कारण बदनाम विजय नगर थाने पर एक और इल्जाम लगा है। एक महिला ने मंगलवार काे पुलिस की जनसुनवाई में पहुंचकर आराेप लगाया कि विजय नगर थाने के कुछ पुलिसकर्मियाेंं ने उनके 14 साल के बेटे काे स्कूल के कार्यक्रम से लाैटते वक्त जमकर मारा। इससे वह अब तक दहशत में है। 
 

मेरे चौदह साल के बेटे को पुलिस वालों ने बेवजह इतना मारा है कि वो अब तक डरा हुआ है। मेरे बेटे का कसूर क्या था। वो तो अपने स्कूल में चल रहे फन फेयर कार्यक्रम से अपने दोस्तों के साथ घर लौट रहा था। एडीशनल एसपी मनीषा सोनी से पुलिस जनसुनवाई में ये शिकायत की पर्ल पाम सोसायटी में रहने वालीं रिद्धिमा पंड्या ने। 

उन्होंने बताया कि मेरा बेटा वंश पंड़्या 1 दिसंबर काे अपने दोस्तों के साथ स्कूल में चल रहे फन फेयर कार्यक्रम से रात साढ़े दस बजे घर लौट रहा था। प्रेस्टीज कॉलेज के पास वो एक दोस्त की गाड़ी से उतरकर दूसरे दोस्त के साथ उसकी गाड़ी में बैठ ही रहा था, तभी विजय नगर थाने के कुछ पुलिस कॉन्स्टेबल बच्चों के पास आए और तेज आवाज में चिल्लाने लगे। ये देख दूसरी गाड़ी में सवार दोस्तों का एक ग्रुप डर की वजह से भाग गया। मेरे बेटे को पकड़कर खड़े पुलिस वालों ने कहा अपने दोस्तों को वापस बुलाओ। बच्चे ने डरकर दोस्तों को फोन लगाया, लेकिन किसी ने भी फोन नहीं उठाया। ऐसे में गुस्साए पुलिसवालों ने बेटे से कहा अब तुझे ही पुलिस थाने ले जाना पड़ेगा। ये बात सुन बच्चे ने भय की वजह से पुलिस वाले का हाथ छुड़ाकर भागना शुरू कर दिया। पुलिस वाले उसके पीछे भागे और उसे पकड़कर उसे लात-घूंसे और लाठी से मारना शुरू कर दिया। इतना ही नहीं मेरे नाबालिग बच्चे को थाने में ले जाकर अपराधियों के साथ खड़े रखा। उसे वहां भी थप्पड़ मारे और गाली-गलौच की। बेटा बोलता रहा कि मेरे घर में फोन लगाकर मेरे मम्मी-पापा को बुला दो, तो पुलिस वालों ने वो भी नहीं किया। बेटे के दोस्तों ने पूरी घटना बताई। तब हम विजय नगर थाने पहुंचे। रात 12.30 बजे उसे छोड़ा गया। बेटे के साथ बेवजह मारपीट करने वाले पुलिस वालों को सख्त सजा दी जाए।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना