इंदौर / दो रुपए का ऐलान कर सांची ने 10 रुपए तक बढ़ा दिए दूध के भाव, पाउडर भी किया महंगा



Sanchi increased the milk prices up to Rs 10
X
Sanchi increased the milk prices up to Rs 10

  • किसानों, उत्पादकों को सरकार से राहत नहीं मिली, इससे उत्पादन घटा, बढ़े दाम

Dainik Bhaskar

Jun 14, 2019, 02:14 AM IST

इंदौर. डेयरी उद्योग में चल रही उथलपुथल की अनदेखी और किसानों के हितों को नजरअंदाज करने का नतीजा दूध और डेयरी उत्पादों के भावों में बढ़ोतरी के रूप में सामने आया है। दुग्ध संघ ने हाल ही में घोषणा कर अपने प्रीमियम ब्रांड सांची गोल्ड के भाव 2 रुपए लीटर बढ़ाए थे, लेकिन आश्चर्य की बात यह है कि उसके साथ ही अन्य सभी प्रकार के दूध और डेयरी उत्पादों की कीमतों में भी उसने 10 से लेकर 50 % तक की वृद्धि कर दी है। इन दिनों सबसे ज्यादा बिकने वाले गाय के दूध के भाव भी सांची ने 22 प्रतिशत तक बढ़ाए हैं।

 

दूध के दामों में वृद्धि की सबसे ज्यादा मार गरीबों का दूध कहे जाने वाले सांची लाइट ब्रांड पर पड़ी है। लगभग 6 महीने पहले 1 लीटर सांची लाइट ₹20 रुपए में मिल रहा था। अब इसके भाव बढ़ाकर ₹30 रुपए लीटर कर दिए हैं। डबल टोंड मिल्क के भाव में भी ₹6 रुपए लीटर की वृद्धि की गई है। सांची की तर्ज पर निजी डेयरी संचालकों ने भी अपने भावों में वृद्धि कर दी है। इधर, दुग्ध संघ ने अपने दूध से जुड़े अन्य उत्पादों के दाम भी बढ़ाए हैं। गाय के दूध की कीमत अब 36 से बढ़कर 44 रुपए लीटर हो गई है। 

 

सब्सिडी के वादे से पीछे हटने का नतीजा
कांग्रेस के वचन पत्र में दुग्ध उत्पादकों को ₹5 रुपए प्रति लीटर सब्सिडी देने का वादा किया गया था। इससे पहले कि घोषणा पर अमल होता, सरकार ने अपना निर्णय वापस ले लिया। गौरतलब है कि आंध्र, केरल, गुजरात जैसे कई राज्यों ने मंदी से निपटने के लिए काफी पहले ही दुग्ध उत्पादकों को 2 से ₹5 रुपए की सब्सिडी देना शुरू कर दी थी। मध्यप्रदेश में पहले भाजपा सरकार और अब मौजूदा कांग्रेस सरकार ने डेयरी उद्योग में आ रही दिक्कतों को समझने में देरी की, जिसकी वजह से भाव बढ़ने लगे। अगर समय रहते किसानों और उत्पादकों को सरकारी राहत मिल जाती तो यह नौबत नहीं आती।  
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना