इंदौर

--Advertisement--

मजदूर के बेटे ने टॉप-10 में बनाई जगह, डिफेंस में जाने का है सपना; ऐसी है स्ट्रगल स्टोरी

मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल के 10th और 12th के बोर्ड एग्जाम के रिजल्ट डिक्लेयर हो चुके हैं।

Danik Bhaskar

May 14, 2018, 05:14 PM IST
सत्यम दसलानिया (नीली टी-शर्ट में) सत्यम दसलानिया (नीली टी-शर्ट में)

इंदौर. मप्र माध्यमिक शिक्षा मंडल के 10th और 12th के बोर्ड एग्जाम के रिजल्ट डिक्लेयर हो चुके हैं। शुजालपुर के सत्यम दसलानिया ने 12th (आर्ट्स) में 460 मार्क्स लाकर प्रदेश में 7वां स्थान हासिल किया है। बता दें कि सत्यम के पिता मजदूर हैं। इस मुकाम तक पहुंचने में सत्यम ने काफी संघर्ष किया है। मैथ्य पढ़ने के लिए पैसे नहीं थे, तो आर्ट्स लेने को हुआ मजबूर...

- सत्यम के पास मैथ्स या साइंस की कोचिंग करने के लिए पैसे नहीं थे। लिहाजा, मजबूरन उसने आर्ट्स में एडमिशन लिया। परिवार की गरीबी की टीस में भी खूब पढ़ाई कर आज इस मुकाम को हासिल किया है।

- शुजालपुर तहसील के खरसौदा गांव में रहने वाले सत्यम के पिता हेमराज सिंह दसलानिया दिहाड़ी मजदूर हैं। वहीं, मां सुशीलाबाई एक आशा कार्यकर्ता हैं।

- आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने की वजह से बेटे सत्यम ने बचपन से अब तक सरकारी स्कूल में ही पढ़ाई की है।

परिवार से रहा दूर
- एक्सीलेंस स्कूल में पढ़ने के लिए गांव और परिवार से दूर शुजालपुर आकर सत्यम किराए के कमरे में रहा। उसने ठान लिया कि वह अपनी मेहनत से साबित करेगा कि योग्यता में वह अव्वल है।
- बस इसी जिद ने उसे हमेशा पढ़ाई पर केंद्रित रखा। मोबाइल-टीवी से दूर रहने के साथ ही उसने शिक्षकों को अपनी इस सफलता का श्रेय दिया।

डिफेंस में जाना चाहता है सत्यम
सत्यम ने बताया कि पिता को रोज मजदूरी का काम नहीं मिलता। मां आशा कार्यकर्ता के रूप में काम करते हुए जो थोड़े-बहुत रुपए कमाती, उससे 7 सदस्य के परिवार को चलाना मुश्किल देख हमेशा परिवार के लिए सक्षम बन कुछ करने की सोच ने भी ये हौसला दिया। अब पुलिस या किसी अन्य डिफेंस सर्विस में जाने का इरादा है।

सत्यम सत्यम
Click to listen..