अयोध्या फैसला / सुरक्षा को लेकर चाक चौबंद प्रबंध, संवेदनशील इलाकों में पुलिस का भ्रमण, सीसीटीवी से निगरानी

School college closed in Madhya Pradesh due to Ayodhya verdict
School college closed in Madhya Pradesh due to Ayodhya verdict
X
School college closed in Madhya Pradesh due to Ayodhya verdict
School college closed in Madhya Pradesh due to Ayodhya verdict

  • कोर्ट ने 206 साल पुराने विवाद पर 40 दिन लगातार सुनवाई के बाद 16 अक्टूबर काे फैसला सुरक्षित रखा था
  • एसपी, एडीएम के साथ ही आरपीएफ की टुकड़ियों ने शहर में सुरक्षा की कमान संभाली
  • फैसले के मद्देनजर 10 सितंबर को मुख्यमंत्री का इंदौर दौरा निरस्त

दैनिक भास्कर

Nov 09, 2019, 05:30 PM IST

इंदौर. अयाेध्या विवाद पर शनिवार को सुप्रीम कोर्ट का फैसला आ चुका है।शहर में सुरक्षा की दृष्टि से अलर्ट जारी है। प्रदेशभर में स्कूल कॉलेज बंद है। इंदौर सहित पूरे मालवा निमाड़ में पुलिस द्वारा सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम किए गए हैं। प्रशासन और पुलिस ने आम जनता से शांति की अपील की है।

10 नवंबर को मुख्यमंत्री कमलनाथ इंदौर में सिख समुदाय के नगर कीर्तन के साथ ही आईटीए अवार्ड कार्यक्रम में शामिल होने के लिए इंदौर आने वाले थे। अयोध्या फैसले को देखते हुए मुख्यमंत्री का इंदौर दौरा निरस्त कर दिया गया है।

 

असामाजिक तत्व और सांप्रदायिकता फैलाने वालों पर पुलिस की पैनी नजर बनी हुई है। खरगोन में फैसले के बाद आतिशबाजी कर रहे दो युवकों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। जिले में धारा 144 लागू है जिसके तहत आतिशबाजी को भी प्रतिबंधित किया गया है। वहीं इंदौर के लोधीपुरा और बियाबानी क्षेत्र में भी कुछ युवकों द्वारा आतिशबाजी की जा रही थी जिन्हें पुलिस ने खदेड़ दिया।

 

10 नवंबर को सिख समुदाय और मुस्लिम समुदाय ने रद्द किए आयोजन

रविवार को सिख समुदाय नगर कीर्तन नहीं निकालेगा। अयोध्या मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आने के बाद यह निर्णय लिया गया है। सिख समुदाय के प्रतिनिधियों ने इंदौर कलेक्टर से मिलकर उन्हें निर्णय से अवगत कराया। वहीं मुस्लिम समाज ने भी ईदमिलादुन्नबी के अवसर पर रविवार को निकलने वाले जुलूस  को निरस्त कर दिया है। समाज द्वारा लिखित में प्रशासन को इसकी जानकारी दी गई। 

 

इंदौर में शनिवार ड्राई डे घोषित

शनिवार के लिए इंदौर के राजबाड़ा को नो व्हीकल जोन घोषित किया गया है। एसपी, एडीएम के साथ ही आरपीएफ की टुकड़ियों ने शहर में सुरक्षा की कमान संभाली है। फैसले के बाद पुलिस कर्मचारियों को गाड़ी की कमी के चलते इंदौर नगर निगम की कई गाड़ियों को बुलाया गया जिसमें बैठकर पुलिस भ्रमण कर रही है। संवेदनशील एरिया में पुलिस सीसीटीवी कैमरों से निगरानी कर रही है। गुंडे बदमाश और अपराधिक प्रवृत्ति के लोगों पर कड़ी कार्रवाई कर बाउंड ओवर की कार्रवाई पहले ही की जा चुकी है। पुलिस के साथ-साथ नगर सुरक्षा समिति के भी सदस्य सुरक्षा व्यवस्था में तैनात हैं।

 

होती रही चर्चा
शनिवार सुबह कुछ स्थानों पर चाय के ठेले लगे थे जहां लोग खड़े होकर चाय पीते हुए फैसले पर चर्चा कर रहे थे लेकिन कुछ ही देर में पुलिस ने इन ठेलों को बंद करा दिया। बंबई बाजार, जवाहर मार्ग, हरसिद्धी, कर्बला, महू नाका, लोधीपुरा, मालगंज, मल्हारगंज सहित सघन इंदौर के अनेक क्षेत्रों में जगह-जगह पुलिस बल तैनात है। इन क्षेत्रों में दुकानें भी बंद हैं और इन बंद दुकानों के बाहर इक्का-दुक्का लोग फैसले पर चर्चा करते हुए नजर आ रहे है।

 

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना