शिप्रा का पानी काला पड़ा, मर रहे हैं कछुए व मछलियां

4 वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
  • नगर निगम के अधिकारियों का दावा ऑक्सीजन की कमी के कारण ये मौतें हुई हैं

देवास . शहर में जिस शिप्रा नदी का पानी सप्लाई होता है, उसमें चार-पांच दिनों में कछुए सहित सैकड़ों मछलियां मर गई हैं। आसपास का पानी काला पड़ रहा है और सैकड़ों जलीय जीव पानी की सतह पर तड़पते देखे जा रहे हैं। शुक्र है कि यह स्थान नदी पर बने नगर निगम के इंटकवेल से दूर है जहां से पेयजल लिया जाता है। नगर निगम के अधिकारियों का दावा है कि ऑक्सीजन की कमी के कारण ये मौतें हुई हैं, हालांकि अभी तक पानी की किसी तरह की जांच नहीं हुई है।

गौरतलब है शहर की पेयजल सप्लाई शिप्रा नदी से होती है। पेयजल से जुड़ा मामला होने से नगर निगम ने मछलियों को हटवाने के निर्देश दिए हैं। शिव मंदिर के पास एक बड़ा कछुआ भी नदी किनारे मृत मिला।  शिप्रा नदी में नए घाट से लेकर पुराने रास्ते तक नदी में जगह-जगह छोटी मछलियां मरी हुई हैं। घाट किनारे ही पीआेपी की कई माता प्रतिमाओं को विसर्जित किया गया था। आसपास कपड़े धोने से भी गंदगी फैल रही है। घाट किनारे पूजन सामग्री डालने से वहां बदबू आ रही है। 

कम आॅक्सीजन मिलने पर भी होती है मौत : पानी का फ्लो नहीं होगा तो वह खराब होगा। मंगलवार को शिप्रा जाकर देखता हूं कि मछलियों की मौत किस वजह से हो रही है। मछलियों की मौत ऑक्सीजन कम मिलने पर भी होती है। -दिलीप केसरे, उप क्षेत्रीय प्रदूषण निवारण बोर्ड देवास