मप्र / एसआईटी चीफ ने देखी केस डायरी, निर्देश दिए-जांच काे गाेपनीय रखें



SIT chief saw case diary, gave instructions - keep the investigation confidential
X
SIT chief saw case diary, gave instructions - keep the investigation confidential

Dainik Bhaskar

Oct 07, 2019, 02:23 AM IST

इंदौर . हनी ट्रैप गैंग की जांच के लिए गठित एसआईटी के चीफ राजेंद्र कुमार ने पहली बार इंदौर में अफसरों की तीन घंटे तक बंद कमरे में बैठक ली। उन्हाेंने एसएसपी रुचिवर्धन मिश्र और उनकी टीम से अब तक की पूरी प्रक्रिया जानी। कुमार ने साफ कर दिया है कि इस जांच को गोपनीय ही रखा जाएगा। साथ ही उन्होंने टीम को आगे काम करने के लिए कुछ नए बिंदु भी दिए हैं।

 

बताया जा रहा है कि जांच अब धीमी गति से ही चलेगी। जब तक मोबाइल, लैपटॉप और पेन ड्राइव के डाटा की जांच रिपोर्ट नहीं आ जाती, तब तक कोई भी बड़ी हलचल होने की उम्मीद कम ही है। एडीजी मिलिंद कानस्कर, एसएसपी रुचि वर्धन मिश्र, क्राइम ब्रांच एएसपी अमरेंद्र सिंह और टीआई शशिकांत चौरसिया मौजूद थे। 


पलासिया थाने में 17 सितंबर को दर्ज हुए हनी ट्रैप के मामले में पुलिस ने भले ही कोर्ट में बताया कि इस केस में कई बड़ी हस्तियों के नाम सामने आए हैं, लेकिन अब तक किसी का खुलासा नहीं किया गया है। तीन बार एसआईटी चीफ बदले जा चुके हैं।

 

कुमार ने रिकॉल किया पूरा केस : कुमार ने इस केस की जांच डायरी देखी और केस दर्ज होने से लेकर अब तक की कार्रवाई की जानकारी ली। कुमार ने केस रिकॉल किया और उसकी कई बारीकियों को नोट भी किया। उन्होंने महिला आरोपियों के बयान और उनके घरों से जब्त गैजेट्स की जानकारी ली। शमी की तरह ही कुमार ने भी इस पूरी जांच को गोपनीय रखने के निर्देश दिए हैं। 


एसआईटी में एएसपी और टीआई भी शामिल हुए : मुख्यालय से 1 अक्टूबर को जारी आदेश में एसआईटी में राजेंद्र कुमार, मिलिंद कानस्कर और एसएसपी के नाम थे, लेकिन इंदौर में पहली बार हुई इस बैठक में एएसपी और टीआई भी शामिल हुए। अफसरों का कहना है कि एसआईटी में एएसपी अमरेंद्र सिंह और टीआई शशिकांत चौरसिया भी शामिल रहेंगे।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना