--Advertisement--

युवा दिवस / स्वामी विवेकानंद के जीवन पर आधारित नाटक में दिखा नरेंद्रनाथ से विवेकानंद बनने की कहानी

Dainik Bhaskar

Jan 12, 2019, 01:43 PM IST


आशुतोष जैन ने अपने अभिनय से विवेकानंद को जीवंत कर दिया। आशुतोष जैन ने अपने अभिनय से विवेकानंद को जीवंत कर दिया।
X
आशुतोष जैन ने अपने अभिनय से विवेकानंद को जीवंत कर दिया।आशुतोष जैन ने अपने अभिनय से विवेकानंद को जीवंत कर दिया।

  • नाटक का मंचन सावित्री कला मंदिर में रंगरुपिया थिएटर्स और रंगदिशा ने किया

इंदौर. युवा दिवस पर स्वामी विवेकानंद के जीवन पर आधारित नाटक योद्धा योगी का मंचन शनिवार को किया गया। इसकी एक खासियत यह थी कि स्कूली स्टूडेंट्स के बीच मंचित किया गया। इसका मंचन सावित्री कला मंदिर में रंगरुपिया थिएटर्स और रंगदिशा ने किया। इसका लेखन और निर्देशन वरिष्ठ रंगकर्मी शरद शबल ने किया। इसमें युवा अभिनेता आशुतोष जैन ने अपनी अभिनय क्षमता और कुशलता से विवेकानंद को जीवंत कर दिया।
 

भावपूर्ण और आवेगपूर्ण अभिनय : शरद शबल ने विवेकानंद के बचपन से लेकर रामकृष्ण परमहंस से मिलने और फिर विवेकानंद के रूप में बनने की प्रकियाओं और मूल कारणों के साथ इस नाटक को खूबसूरती से बुना। उन्होंने आशुतोष जैन की अभिनय क्षमताओं तो फलने-फूलने के लिए मंच पर एक ऐसी स्पेस दी, जहां कम से कम मंज सज्जा सामग्री के बीच वे अपनी अभिनय प्रतिभा दिखा सके। वे मंच पर नरेंद्रनाथ के रूप में शुरुआत करते हैं और धीरे-धीरे वे मंच पर वेशभूषा बदलते हुए विवेकानंद के रूप में सामने आते हैं, लेकिन आशुतोष जिस तरह से पूरे आवेग और भावपूर्ण ढंग से संवाद बोलते हैं और उसी के अनुरूप देशभाषा अर्जित करते हैं, यह देखना स्टूडेंट्स के लिए एक अनुभव था। वे यह बेहतर ढंग से समझ पाए कि नरेंद्रनाथ विवेकानंद कैसे बने।
  
  
 

Astrology
Click to listen..