• Hindi News
  • Mp
  • Indore
  • Teachers did not get The first installment of the sixth pay scale even after 10 months of announcement

लापरवाही / घोषणा के 10 महीने बाद भी नहीं मिली शिक्षकों को छठे वेतनमान की पहली किश्त



Teachers did not get The first installment of the sixth pay scale even after 10 months of announcement
X
Teachers did not get The first installment of the sixth pay scale even after 10 months of announcement

  • 12 साल की नौकरी के बाद भी नहीं मिल रहा क्रमोन्नति का लाभ
  • मांगों को लेकर प्रतिनिधि मंडल ने डीईओ को सौंपा ज्ञापन

Dainik Bhaskar

Mar 26, 2019, 12:58 PM IST

इंदौर. प्रदेश सरकार द्वारा शिक्षकों को मिलनी वाली सुविधाओं के आश्वासन के बावजूद उन्हें अभी तक लाभ नहीं मिल पा रहा है। छठे वेतनमान का लाभ दिए जाने को लेकर सरकार की ओर से 10 महीने पहले ही घोषणा कर दी गई थी। उसके बावजूद अभी तक शिक्षक इसके लिए परेशान हो रहे हैं। वहीं, 12 साल की नौकरी पूरी करने के बावजूद शिक्षकों को क्रमोन्नति का लाभ नहीं मिल पा रहा है। इनके साथ अन्य मांगों को लेकर प्रतिनिधि मंडल ने डीईओ को ज्ञापन सौंपा है।

 

शिक्षा विभाग में 2006 में नियुक्त अध्यापकों की क्रमोन्नति के आदेश, छठवें वेतनमान की प्रथम किस्त, हड़ताल अवधि के आदेश का पृष्ठांकन, अध्यापकों की सर्विस बुक का वेरीफिकेशन और प्रत्येक माह की 1 से 5 तारीख तक वेतन किए जाने के संबंध में लंबे समय से अध्यापक संघ द्वारा मांग की जा रही है। 


इसी कड़ी में मप्र शासकीय अध्यापक संगठन जिला इंदौर के संरक्षक हरीश बोयत व जिला अध्यक्ष प्रवीण यादव के नेतृत्व में एक प्रतिनिधिमंडल जिला शिक्षा अधिकारी राजेंद्र कुमार मकवानी से मिला। संगठन के जिला अध्यक्ष यादव ने बताया कि जिले में सैकडों अध्यापक 2006 में नियुक्त हुए थे, लेकिन अभी तक 12 वर्ष की सेवा पूरी होने के बाद भी क्रमोन्नति के आदेश जारी नहीं हुए हैं। 10 माह बीत जाने के बाद भी छठे वेतनमान के एरियर की पहली किश्त का भुगतान अभी तक जिले के कुछ संकुलों द्वारा नहीं दिया गया। 


जिले के संकुल शा उमावि नेहरू नगर, शा उमावि विजय नगर, शा उमावि नंदानगर, हाई स्कूल खजराना, हाई स्कूल गांधीनगर आदि के सभी अध्यापक व शा उमावि सुभाष व शासकीय उमावि कनाड़िया के कुछ अध्यापक साथियों को छठवें वेतनमान के एरियर की प्रथम किस्त का भुगतान नहीं किया है। 


सितंबर 2015 में हड़ताल अवधि के भुगतान का आदेश जारी किया जाए। जिले के सभी अध्यापक संवर्ग की सर्विस बुक का वेरिफिकेशन कराया जाए। अध्यापकों के वेतन का भुगतान महीने की 1 से 5 तारीख तक किया जाए। अध्यापकों की समस्या पर जिला शिक्षा अधिकारी राजेन्द्र मकवानी ने संगठन को आश्वस्त किया कि इन समस्याओं का शीघ्र ही निराकरण किया जाएगा। प्रतिनिधि मंडल में मुख्य रूप से रमेश यादव, अशोक मालवीया, राजेश चौहान, आनंद हार्डिया, पवन मोहनिया, नागपाल वर्मा आदि उपस्थित रहे।
 

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना