भास्कर खास / साइकिल से भूटान और नेपाल पहुंच गए इंदौर के दो युवक, सेना ने आतंकी समझ दो घंटे पूछताछ की



Two youths from Indore reached Bhutan and Nepal by bicycle
X
Two youths from Indore reached Bhutan and Nepal by bicycle

  • देवास नाका तक घूमने निकले थे, मूड बदला तो बढ़ गए आगे, पांच महीने से चल रही साइकिल यात्रा अभी भी जारी

Dainik Bhaskar

Nov 11, 2019, 10:42 AM IST

राघवेंद्र बाबा | इंदौर . देवास नाका तक घूमने निकले दो युवक साइकिल से भूटान और नेपाल पहुंच गए। पांच महीने से चल रही उनकी यात्रा अभी भी जारी है। अब वे एक बड़ी साइकिल यात्रा में शामिल हो गए हैं। ये युवक शहीदों के घर जाकर उनकी परेशानियों को जान रहे हैं। हर प्रदेश की राजधानियों से गुजरकर कन्याकुमारी पहुंचेंगे। इस दौरान बंगाल में लोगों की भीड़ ने उन्हें बच्चा चोर समझकर घेर लिया। इंदौर में प्राकृतिक चिकित्सा करने वाले बजरंग नगर निवासी सुरेश सोलंकी और मोबाइल दुकान संचालक जूनी इंदौर निवासी पीयूष महाजन साइकिल से भूटान और नेपाल तक घूम आए।

 

दोनों ने 7 जुलाई को इंदौर से यात्रा शुरू की है। दोनों पहले दिन देवास नाका घूमने निकले थे और अचानक मूड हो गया कि आगे चलेंगे। घूमते-घूमते ग्वालियर-आगरा होते हुए मथुरा-वृंदावन पहुंचे। दो दिन रुकने के बाद गोरखपुर से नेपाल और फिर बिहार आए। दोनों ने बताया कि बिहार की राम नगर पुलिस ने उन्हें मेहमान मानकर खातिरदारी की, लेकिन पश्चिम बंगाल के क्रांतिनगर में 40 से ज्यादा लोगों ने दोनों को बच्चा चोर समझकर घेर लिया और मारपीट पर उतारू हो गए। तभी एक युवक ने पुलिस को फोन लगाकर बुला लिया। 

 

भूटान बॉर्डर पर लोगों ने धमकाया, गाली-गलौज की

दोनों भूटान बॉर्डर पर पहुंचे तो वहां भी लोगों ने धमकाया। गालियां दी और कहा कि चोरियां करने आए हो। बॉर्डर पर दोनों को रोका और कहा कि वहां सिर्फ गियर वाली साइकिल ही जा सकेगी। इस कारण दोनों ने बॉर्डर पर साइकिल खड़ी की और लोकल बस से दो दिन भूटान यात्रा की। 

 

पुलिस ने माना चोर और सेना वाले आतंकी समझ बैठे
पीयूष ने बताया जब वे सिक्किम के कलिंगपोंग पहुंचे तो वहां एक पुलिसकर्मी ने रोका। बोला कि तुम मध्यप्रदेश से चोरी करने के बाद यहां आए हो। घंटेभर सख्ती से पूछताछ के बाद जब दोनों ने परिवार वालों से बात कराई तो पुलिस ने उन्हें कहा कि ऊपर पहाड़ी पर जाओ। जब वे रात को रुकने के लिए पहाड़ी पर ऊपर पहुंचे तो सेना के जवानों ने रोक लिया। उन्हें आतंकी समझ दो घंटे तक कड़ी पूछताछ की। जब उन्हें यकीन हो गया कि वे यात्री हैं तो देर रात उन्हें छोड़ दिया। 

 

ज्यादातर शहीदोें के माता-पिता की हालत खराब
सुरेश ने बताया यूपी के गाजीपुर के डॉ. सानंद सिंह से उनकी मुलाकात हुई। सिंह 2 अक्टूबर से शुरू हुई कश्मीर से कन्याकुमारी तक शहीदों के सम्मान और पर्यावरण की साइकिल यात्रा में शामिल हो गए। वे लोग अब हर प्रदेश की राजधानियों से गुजरते हुए शहीदों के घर जा रहे हैं। सुरेश के अनुसार शहीदों के बाद पूरी राशि उनकी पत्नियों को मिल जाती है और माता-पिता की कोई देखभाल नहीं करता है। वे शहीदों के परिजन की समस्याएं सरकार तक पहुंचाएंगे।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना