--Advertisement--

धर्म / बोहरा समाज के धर्मगुरु की वाअज़ आज से, पहली बार पीएम के संबोधन के लिए रोकी जाएगी



14 को आएंगे नरेंद्र मोदी, डेढ़ घंटा रुकेंगे

Danik Bhaskar | Sep 12, 2018, 02:08 AM IST

इंदौर. दाऊदी बोहरा समाज के 53वें धर्मगुरु सैयदना आलीकदर मुफद्दल सैफुद्दीन मौला बुधवार से सैफी नगर मसजिद में 9 दिनी वाअज़ फरमाएंगे। वाअज़ सुबह 10 से दोपहर 2 बजे तक होगी। नौ दिनी वाअज में शामिल होने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी 14 सितंबर को इंदौर आएंगे।

 

बोहरा समाज के इतिहास में ऐसा पहली बार होगा, जब किसी वाअज़ में कोई प्रधानमंत्री शामिल होंगे और उनके संबोधन के लिए वाअज़ रोकी जाएगी। मंगलवार को सैयदना साहब ने सांघी ग्राउंड में सुबह साढ़े 5 बजे फजर की नमाज अदा कराई। समाजजन ने एक-दूसरे को मोहर्रम के नए साल की बधाई दी। 

 

धर्मगुरु ही तय करते हैं वाअज की जगह, पिछली बार कराची को चुना : पूरी दुनिया में सालाना वाअज कहां होगी यह फैसला सैयदना का होता है। पिछली बार उन्होंने कराची को चुना था। इस बार इंदौर को चुना, क्योंकि यहां दो मसजिदों का नामकरण होना था।

 

दुनिया में जहां भी बोहरा समाज के लोग रहते हैं, वहां वाअज का सीधा प्रसारण किया जाता है। वाअज में सैयदना नैतिक मूल्यों पर चलने, अच्छे कर्म करने, जरूरतमंदों की मदद करने, जीवनसाथी की इज्जत करने और समाज की बेहतरी के काम करने की हिदायत देते हैं।

 

53वें सैयदना की वाअज; घर, गाड़ी, मोबाइल... सबका नंबर 53 ले रहे लोग :  53... आखिर क्या खास है इस नंबर में कि बोहरा समाजजन इसे हासिल करने के लिए लाखों रुपए तक खर्च करने को तैयार हैं। नंबर चाहे गाड़ी का हो, चाहे घर का हो या फिर मोबाइल नंबर ही क्यों न हो, समाजजन की यही कोशिश रहती है कि उन्हें कहीं से भी 53 नंबर मिल जाए।

 

दरअसल, जिस तरह मुस्लिम समुदाय में 786 नंबर को बरकती माना जाता है उसी तरह बोहरा समुदाय में उस नंबर को भाग्यशाली माना जाता है, जिस नंबर के सैयदना साहब होते हैं। शहर में इन दिनों 53वें धर्मगुरु सैयदना आलीकदर मुफद्दल मौला तशरीफ लाए हैं, लिहाजा ये मौला के प्रति ही दीवानगी है कि समाज का हरेक शख्स चाहता है कि उसकी गाड़ी, घर, प्लॉट और मोबाइल यहां तक कि नोटों में भी 53 नंबर दर्ज हो।


समाजजन मानते हैं कि यह अंक उनके लिए भाग्य और बरकत लाता है। सैयदना के इंदौर प्रवास के अाधिकारिक प्रवक्ता शेख मोहम्मद भाई पेटीवाला के मोबाइल नंबर समेत इंदौर के 13 आमिल (समाज के स्थानीय गाइड) के मोबाइल नंबर में भी 53 या 52 अंक शामिल है। (52 अंक 52वें धर्मगुरु के लिए)
 

50 मेगा स्क्रीन पर लाइव 

- 40 हजार लोग एक साथ मसजिद में सुन सकेंगे वाअज़।
- 1 लाख 96 हजार 303 से ज्यादा रजिस्ट्रेशन हो चुके।
- 14 हजार समाजजन विदेश से पहुंचे। 1486 पाकिस्तान से अाए।
- 6 हजार बुरहानी गार्ड और 9 हजार वॉलेंटियर्स मौजूद रहेंगे।
-40 हेल्प सेंटर बनाए गए हैं।
- 300 डॉक्टर 24 घंटे सेवा देंगे।

--Advertisement--